Thursday puja tips : शादी में आ रही है बाधा, तो गुरुवार के दिन करें हल्‍दी का यह अचूक उपाय 

उपाय-टोटके
Updated Dec 05, 2019 | 10:13 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Brihaspativar ke upay: अगर आपकी शादी में देरी हो रही हो या फिर शादी नहीं हो रही है तो गुरुवार के दिन कुछ विशेष उपाय करने चाहिये। इस दिन सुबह नहा धो कर पीले रंग के कपड़े पहनें।

 guruvar ke achuk upay
guruvar ke achuk upay 

मुख्य बातें

  • गुरुवार के दिन सुबह-सवेरे जल्दी उठें
  • इस दिन सुबह नहा धो कर पीले रंग के वस्‍त्र धारण करें
  • पति और बच्‍चों का स्‍वास्‍थ्‍य ठीक रखना है तो महिलाएं इस दिन बाल धोने से बचें 

बृहस्पतिवार का दिन भगवान विष्‍णु को समर्पित होता है। इस दिन उनकी पूजा करने से न सिर्फ घर की शांति बढ़ती है बल्‍कि जीवन में आए सभी कष्‍टों से मुक्‍ति भी मिलती है। हमारे हिंदू धर्म में भगवान विष्‍णु को बुद्धि का कारक माना जाता है। आज के दिन केले के पेड़ की पूजा करना शुभ माना जाता है। आज का व्रत कोई भी कर सकता है। यह व्रत इतना अच्‍छा है कि अगर आप पूजा के लिये लड्डू लाने में अक्षम हैं तो विष्‍णु को श्रद्धा से चने की दाल और शक्‍कर का भोग लगा सकते हैं। 

गुरुवार की पूजा बेहद लाभकारी मानी जाती है। किसी व्यक्ति को विवाह में किसी भी प्रकार की समस्याएं आ रही है तो उसे गुरुवार का व्रत करने की सलाह दी जाती है। आइये जानते हैं गुरुवार के दिन क्‍या क्‍या उपाय करने से लाभ मिलता है- 

विवाह में हो रही है देरी, आज करें ये उपाय

  • इस दिन सुबह नहा धो कर पीले रंग के कपड़े पहनें। फिर भगवान विष्‍णु की प्रतिमा स्‍थापित कर के उनके आगे पीले रंग के फूल अर्पित करें।  
  • गुरुवार के दिन केले के पेड़ पर जल चढ़ा कर शुद्ध घी का दीपक जलाएं। उसके बाद गुरु के 108 नामों का उच्चारण करें। इससे आपकी शादी जल्‍दी होगी। 
  • वे लोग जिनको बिजनेस में घाटा हो रहा है, गुरुवार को पूजाघर में हल्दी की माला लटकाएं। 
  • काम काज में तरक्‍की हो इसके लिये ऑफिस में पीले रंग की चीजों का प्रयोग करें। 
  • पति और बच्‍चों का स्‍वास्‍थ्‍य ठीक रखना है तो महिलाएं इस दिन ना ही बाल धोएं और ना ही नाखून काटें।
  • इन सब उपायों के अलावा इस दिन ना तो किसी से उधार लेना चाहिये और न ही किसी को उधार देना चाहिये। ऐसा करने से आपको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है।
  • गुरुवार के दिन नहाते वक्त अपने नहाने वाले पानी में एक चुटकी हल्दी डालकर स्नान करे इसके बाद "ऊं नमो भगवते वासुदेवाय" का जप करते हुए केसर का तिलक लगाए और केले के वृक्ष में जल अर्पित हुए उसकी धूप-दीप से पूजा करे।

इस दिन पीले चंदन से भगवान की पूजा की जाती है और भक्त के साथ भगवान को भी पीला वस्त्र पहनने को कहा जाता है। 
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर