Navratri 2020: नवरात्रि के दूसरे दिन करें मां ब्रह्माचारिणी जी की आरती, मिलेगा आशीर्वाद

Mata Brahmacharini Aarti: नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। मां की आरती करने से सभी कष्ट दूर होते हैं और मंगलकामना पूरी होती हैं। करें मां ब्रह्मचारिणी की आरती।

Mata Brahmacharini
Mata Brahmacharini  |  तस्वीर साभार: Instagram

मुख्य बातें

  • नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है।
  • मां ब्रह्मचारिणी की आरती करने से सभी कष्ट दूर होते हैं
  • इस दिन मां ब्रह्मचारिणी के आशीर्वाद से पूरे होंगे सभी काम

Chaitra Navratri 2020, Brahmcharini Arti: 25 मार्च से नवरात्रि शुरू हो गए हैं, इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों में मां ब्रह्माचारिणी की पूजा की जाती है। दूसरे दिन मां ब्रह्माचारिणी की पूजा की जाती है। मां ब्रह्माचारिणी की पूजा करने से जातक को जीवन की मुश्किलें कम हो जाती हैं और मां की भक्ति से भक्तों को फल मिलता है और रुके काम बनते हैं। मां ब्रह्माचारिणी का स्वरूप पूर्ण ज्योतिर्मय और भव्य होता है। वह अपने भक्तों को अनंत देने वाली मानी गई हैं। मां की आराधना करने वालों में अपने आप शक्ति का आभास होता है।

मां की उपासना करने से व्यक्ति अपने कर्तव्य पथ से विचलित नहीं होता। मां की कृपा से भक्त सभी विपदा और परेशानियों से दूर रहता है। मां ब्रह्माचारिणी की कृपा से भक्तों को सर्वत्र सिद्धि और विजय की प्राप्ति होती है। मां की उपासना करने से भक्तों की सभी मंगलकामनाएं पूरी होती हैं और वो सुखमय जीवन यापन करता है। तो आइए मां की आरती करें।

देवी ब्रह्माचारिणी जी की आरती

जय अंबे ब्रह्माचारिणी माता।
जय चतुरानन प्रिय सुख दाता।

ब्रह्मा जी के मन भाती हो।
ज्ञान सभी को सिखलाती हो।

ब्रह्मा मंत्र है जाप तुम्हारा।
जिसको जपे सकल संसारा।

जय गायत्री वेद की माता।
जो मन निस दिन तुम्हें ध्याता।

कमी कोई रहने न पाए।
कोई भी दुख सहने न पाए।

उसकी विरति रहे ठिकाने।
जो तेरी महिमा को जाने।

रुद्राक्ष की माला ले कर।
जपे जो मंत्र श्रद्धा दे कर।

आलस छोड़ करे गुणगाना।
मां तुम उसको सुख पहुंचाना।

ब्रह्माचारिणी तेरो नाम।
पूर्ण करो सब मेरे काम।

भक्त तेरे चरणों का पुजारी।
रखना लाज मेरी महतारी।

मां ब्रह्माचारिणी जी का मंत्र
या देवी सर्वभूतेषू सृष्टि रूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...