इस विधि से करें मां वैभव लक्ष्मी की पूजा, होंगी सभी मनोकामनाएं पूर्ण

शुक्रवार के दिन मां वैभव लक्ष्मी की पूजा अर्चना करने और व्रत रखने से सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है और सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

Maa Vaibhav Lakshmi
Maa Vaibhav Lakshmi/वैभव लक्ष्मी पूजन विधि 

मुख्य बातें

  • मां वैभव लक्ष्मी की पूजा करने से होती हैं सभी मनोकामनाएं पूर्ण
  • शुक्रवार के दिन मां वैभव लक्ष्मी का व्रत और पूजन करने से होती है सुख समृद्धि की प्राप्ति
  • विशेष फल की प्राप्ति के लिए ग्यारह या इक्कीस शुक्रवार का रखें व्रत

नई दिल्ली:  हिंदु धर्म में मां लक्ष्मी के अनेक रूपों की पूजा की जाती है। माता को कोई धन लक्ष्मी के रूप में पूजता है तो वहीं कोई वैभव लक्ष्मी के रूप में पूजा अर्चना करता है। वैभव लक्ष्मी व्रत में वैभव की प्राप्ति के लिए मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। शुक्रवार के दिन मां वैभव लक्ष्मी का व्रत और पूजन करने से सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है और सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

इस व्रत को घर का कोई भी सदस्य कर सकता है। माता लक्ष्मी के इस व्रत को उत्तम फल देने वाला व्रत भी कहा जाता है। इस दिन लाल रंग का अधिक प्रयोग किया जाता है क्योंकि मां लक्ष्मी को लाल रंग अत्यंत प्रिय होता है। आइए जानते हैं इस दिन मां वैभव लक्ष्मी की पूजा विधि और व्रत के बारे में खास बातें।

पूजा विधि

शुक्रवार के दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नान आदि कर निवृत होकर पवित्र हो जाएं। उसके बाद मां लक्ष्मी के मंत्रो का जाप करें। शाम के समय तक मां लक्ष्मी पूजन की सभी सामग्री एकत्रित कर लें। शुक्रवार को किए जाने वाले मां वैभव लक्ष्मी के पूजन और व्रत को शास्त्रों द्वारा वर्णित विधि से ना करने पर इसका फल प्राप्त नहीं होता है। इसके अनुसार मां लक्ष्मी को श्री यंत्र अत्यंत प्रिय है। इसके लिए आप शुक्रवार के दिन व्रत और पूजन करते समय श्री यंत्र को अवश्य स्थापित करें।

इसके लिए आप पूर्व दिशा में एक चौकी बिछाएं, उस पर गंगा जल का छिड़काव कर शुद्ध करें और उस पर लाल वस्त्र बिछाएं। अब इस पर मां वैभव लक्ष्मी की मूर्ती स्थापित करें और श्री यंत्र रखें। मां लक्ष्मी की तस्वीर के सामने चावल का ढ़ेर रख दें और उस पर जल से भरा हुआ तांबे का कलश स्थापित करें और कलश के ऊपर एक कटोरी रखें। जिस पर सोने चांदी का कोई भी आभूषण रख दें। इसके बाद मां लक्ष्मी के मंत्रों का जाप करें, जाप के बाद परिवार के साथ बैठकर मां वैभव लक्ष्मी के व्रत की कथा पढ़ें और अंत में माता लक्ष्मी को प्रसाद का भोग लगाकर व्रत-पूजन को संपूर्ण करें।

इसके बाद घर के सभी सदस्यों को प्रसाद वितरित कर घर के मुख्य द्वार पर एक दीप जलाएं। इस व्रत में मां लक्ष्मी का पूजन और भोग लगाने के बाद आप एक बार भोजन ग्रहंण कर सकते हैं।

व्रत पूजन का महत्व

इस दिन व्रत औऱ पूजन करने से सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है और धन संबंधी सभी परेशानियां दूर होती हैं। घर परिवार में मां लक्ष्मी का वास होता है औऱ माता लक्ष्मी की कृपा सदैव आप पर बनी रहती है। व्यापार में मुनाफे की इच्छा रखने वालों के लिए यह व्रत अत्यंत फलदायी माना गया है। इसदिन मां लक्षमी की पूजा के साथ श्री यंत्र की पूजा जरूर करनी चाहिए।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर