Shani Jayanti 2020: शनि जयंती के दिन नहीं करने चाहिए ये काम, जानें क्या करें क्या नहीं

Shani Jayanti 2020: इस साल 22 मई को शनि जयंती मनाई जा रही है। हम आपको बता रहें हैं कि आपको क्या करना चाहिए जिससे शनिदेव की कृपा आप पर बनी रही और क्या काम भूलकर भी ना करें।

Shani Jayanti 2020
Shani Jayanti 2020 

मुख्य बातें

  • इस साल 22 मई को मनाई जा रही है शनि जयंती
  • जानें इस दिन भूलकर भी क्या काम नहीं करने चाहिए
  • इस दिन शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए करें ये काम

इस साल 22 मई को शनि जयंती मनाई जा रही है। माना जाता है शन‍ि जयंती के ही दिन शन‍ि देव का जन्‍म हुआ था। यही नहीं, शन‍ि जयंती को हर साल ज्येष्ठ महीने की अमावस्या को मनाया जाता है। इस द‍िन शन‍ि देव की टेढ़ी नजर से बचने और उनका आशीर्वाद पाने के लिए उनकी पूजा का व‍िधान है। 

शनि को यम, काल, दु:ख, दारिद्र और मंद कहा जाता है। शनि देव का नाम आते ही लोग डरने लगते हैं। ऐसे में शनि देव को हमेशा प्रसन्न रखने की ही कोशिश करते रहना चाहिये। माना जाता है कि शन‍ि की कृपा मिलने पर गरीब भी मालामाल हो जाता है जबकि उनके कुपित होने का अर्थ है हर तरफ से दुख पाना। शास्त्रों में शनि की पूजा के लिए कुछ खास नियम बताए गए हैं। इस द‍िन शन‍ि देव की पूरी व‍िध‍ि के साथ पूजा करनी चाहिए। यहां जानें शनि जयंती पर क्या करें और क्या ना करें।

शन‍ि देव को प्रसन्‍न करने के लिए करें ये काम- 

1. शन‍ि जयंती के द‍िन काली गाय की सेवा करें। काली गाय को ढूंढ कर पहले उसके मस्‍तक पर तिलक लगाएं, फ‍िर उसके सींगों पर कलावा बांधें। इसके बाद काली गाय की आरती करें और बूंदी के 4 लड्डू ख‍िलाएं। 

2. भैरवजी की पूजा से शन‍ि देव प्रसन्‍न होते हैं। शन‍ि जयंती के द‍िन शाम के समय काले तिल के तेल का दीपक भैरव जी के आगे जलाएं। इससे उपाय से शन‍ि दोष से मुक्‍त‍ि मिलती है।

3. पीपल के पेड़ की पूजा से शन‍ि दोष दूर होते हैं। शाम को स्‍नान करने के बाद पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का द‍िया जलाएं। कच्‍चा दूध चढ़ाएं और धूप दिखाएं। 

4. तीन बर्तनों में अलग-अलग जगह सवा किलो यानी कुल पौने चार किलो काले चने भ‍िगो दें। इनको बिना प्‍याज के सरसों के तेल में छौंक लगाएं। शन‍ि देव की पूजा कर इन चनों का भोग लगाएं। इनमें से पहला हिस्‍सा एक भैंसे को ख‍िलाएं। दूसरा कुष्‍ठ रोग वालों को दें और तीसरे हिस्‍से को शन‍ि दोष से पीड़‍ित व्‍यक्‍त‍ि के ऊपर से उतार कर सुनसान जगह पर छोड़ दें। 

5. शन‍ि जयंती पर शन‍ि यंत्र की स्‍थापना करें। इसके बाद रोजाना इस यंत्र का पूजन करें। इस पर नीले रंग का फूल अर्प‍ित करने के बाद सरसों के तेल का दीया जलाएं। 

6. इस दिन काले कपड़े, जामुन, काली उडद, काले जूते, तिल, लोहा, तेल आदि चीजें दान करना शुभ माना जाता है। 

शनि जयंती पर भूलकर भी ना करें ये काम-

1. बाल ना कटवाएं: शनि जयंती पर भूलकर भी बाल या नाखून ना काटें। इस दिन ऐसा करना अच्छा नहीं माना जाता और इससे आर्थिक तरक्की रुक जाती है।

2. ब्रह्मचर्य का पालन करें: इस दिन ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए अथवा शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए।

3. नए जूते व कपड़े ना पहनें: इस दिन नए कपड़े व जूते नहीं पहनने चाहिए। 

4. कर्ज लेने से बचें: इस दिन पैसों के लेन देन से बचना चाहिए और कर्ज तो भूलकर भी नहीं लेना चाहिए। ऐसा करने से पैसों से जुड़ी परेशानी होने लगती है।

5. भूलकर भी ना तोड़ें ये पौधे: माना जाता है कि शनि जयंती के दिन भूलकर भी तुलसी, दुर्वा या पीपल के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए। ऐसा करना अशुभ होता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर