Sawan 2020 ke Upay: सावन में चावल के चार दानों से ही हो जाएंगे शिवजी प्रसन्न, दूर होंगे जीवन के सारे कष्ट

Please to Shivji in Sawan: शिवपुराण में उल्लेखित है कि सावन में चार चावल के दाने का विशेष प्रयोग आपको शिवजी का प्रिय भक्त बना सकता है।

Measures to please Shiva in the sawan, सावन में शिवजी को प्रसन्न करने के उपाय
Measures to please Shiva in the sawan, सावन में शिवजी को प्रसन्न करने के उपाय 

मुख्य बातें

  • सावन में शिवजी को जरूर चढ़ाना चाहिए अक्षत
  • चावल के दानों को अभिमंत्रित करने बनता है अक्षत
  • चावल के दाने चढ़ाते हुए अपने कष्ट शिवजी से कहें

सावन मास में शिवजी को प्रसन्न करने के भक्त कई उपाय ढूंढ़ते हैं, लेकिन सबसे आसान उपाय से शायद ही कोई परिचित हो। ये वो उपाय है जिसका उल्लेख शिवपुराण में भी किया गया है। भगवान शिव का परम भक्त बनने के लिए चावल के चार दानों का विशेष महत्व है। चावल के ये दाने जीवन की कई समस्याओं का अंत कर देंगे और सुख और सौभाग्य से घर भर सकते हैं। इतना ही नहीं ये प्रयोग भूत-प्रेत की छाया से भी मुक्ति दिलाता है।

भगवान शंकर को इन चावल के दानों को चढ़ाने से पहली उसे अभिमंत्रित करना जरूरी होता है। उसके बाद ही ये चावल के दाने असर दिखाते हैं। सावन में भगवान शिव को अक्षत जरूर चढ़ना चाहिए, क्योंकि अक्षत शिवजी विशेष प्रिय होता है। 

Shiv ji ko prasann karne ke upay : इस विधि से करें चावल को अभिमंत्रित

चावल के चार दाने लें। ये दाने साबुत हों और कहीं से खंडित नहीं होने चाहिए। इन दानों को जल से धो कर इसे गंगाजल से शुद्ध कर लें। अब ऊं नम: शिवाय कहते हुए इन चावलों को अभिमंत्रित कर लें। अब ये चावल अक्षत के रूप में हो जाएंगे और अब इसे शिवलिंग पर अर्पित करें। एक-एक दाना रखते हुए शिवजी के समक्ष अपनी चार समस्या बता दें। आपकी ये चार समस्याएं इन चार दानों के चढ़ाने के साथ ही खत्म होने लगेंगी।

Sawan 2020 Shiv ji upay : इसके बाद शिवलिंग पर चढ़ाएं यह सामग्री

शिवलिंग का जल,दूध, शक्कर, दही, गंगाजल की बूंदें मिश्रित कर अभिषेक करें। साथ में धतुरा, आक या कनैल का फूल, बेलपत्र और भांग भी अर्पित करें। ऊं नम: शिवाय का जाप करते हुए ये सारी सामग्री भगवान पर अर्पित करनी चाहिए।

Different Types Of Shivling According To Shiv Puran And Their Benefits

शिवलिंग पूजा के बाद करें यह काम

शिवलिंग की पूजा के बाद भगवान शिव और देवी पार्वती की साथ में पूजा करें। यदि शिव परिवार की तस्वीर हो तो सर्वोत्तम होगा। सावन में यदि केवल शिवजी की पूजा की जाती है तो वह फलीभूत नहीं होती, इसलिए माता पार्वती की पूजा करना अनिवार्य है।

Sawan 2020 saayankal puja : शाम के समय करें ये काम

सावन में हर दिन शाम को शिव परिवार के समक्ष गाय के घी का दीपक जलाएं और आरती करें। इसके बाद भगवान शिव के प्रिय रुद्राक्ष से कम से कम 108 बार ऊं नम: शिवाय का जाप करें। इसके बाद कुछ देर मौन रह कर शिव का ध्यान करें। इसके बाद आहार ग्रहण करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर