Mahashivratri Mantra Jaap: महाशिवरात्रि पर करें इन 15 मंत्रों का जाप, हर समस्या हो जाएगी खत्म

Shivratri Mantra in Hindi: महाशिवरात्रि आज (21 फरवरी) को मनाई जा रही है। इस दिन भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए 15 खास मंत्रों का जाप करना चाहिए। ये मंत्र एक नहीं कई मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं।

Shivratri Mantra in Hindi
Mahashivratri 2020; Shivratri Mantra Jaap 

मुख्य बातें

  • भगवान शिव की पूजा के बाद करें ये मंत्र जाप
  • महाशिवरात्रि को सूर्य डूबने के बाद न खाएं
  • शिवगायत्री मंत्र को पढ़ना होगा विशेष फलदायी

Mantra on Mahashivratri 2020: महाशिवरात्रि पर सुख, शांति, धन, समृद्धि, सफलता, प्रगति, संतान, प्रमोशन, नौकरी, विवाह, प्रेम और बीमारी से मुक्ति जैसी कई कामनाएं आपकी हैं तो आपको कुछ मंत्र का जाप जरूर करना चाहिए। ये ऐसे मंत्र हैं जो वैसे तो कभी भी जपने से फलदायी साबित होते हैं, लेकिन महाशिवरात्रि के दिन इन मंत्रों का जाप करना तुरंत और विशेषफलदायी साबित होता है। इस बार महाशिवरात्रि पर एक खास योग भी बन रहा है और ऐसे योग में भोलेनाथ की पूजा करने भर से आपकी कई असाध्य मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं और यदि मंत्रों का जाप कर लिया जाए तो उसका विशेष आशीर्वाद मिलेगा।

जानें महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त

21 तारीख को शाम को 5 बजकर 20 मिनट से 22 फरवरी, शनिवार को शाम सात बजकर 2 मिनट तक महाशिवरात्रि पूजा का योग रहेगा।

ऐसे करें महाशिवरात्रि की पूजा

  • महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव को पंचामृत से स्नान कराएं। इसके बाद जलाभिषेक करें।
  • शिवलिंग या शिव प्रतिमा पर बेलपत्र, अक्षत, चंदन, धतूरा, कनेल का फूल, भांग,दक्षिणा आदि चढ़ाएं
  • धूप, दीप और अगरबत्ती दिखाकर भगवान के समक्ष दीप जलाएं
  • इसके बाद सफेद पेड़ा या खीर का भोग लगाएं।
  • पूजा में सभी चीजें चढ़ाते हुए ॐ नमो भगवते रूद्राय, ॐ नमः शिवाय रूद्राय् शम्भवाय् भवानीपतये नमो नमः मंत्र का जाप करें।
  • संध्या के समय भी शिवजी के समक्ष पूरी रात दीप जलाएं।
  • संभव हो तो शिवमंदिर में जाकर रात्रि जागरण करें अन्यथा घर में ही भजन कीर्तन करें।
  • व्रत में फलाहार करें, लेकिन सूर्य डूबने के बाद फलहार न करें।

इन 15 महामंत्रों का करें जाप, मिलेगी अपार खुशियां

1 . ॐ शिवाय नम:

2. ॐ सर्वात्मने नम:

3. ॐ त्रिनेत्राय नम:

4. ॐ हराय नम:

5. ॐ इन्द्रमुखाय नम:

6. ॐ श्रीकंठाय नम:

7. ॐ वामदेवाय नम:

8. ॐ तत्पुरुषाय नम:

9. ॐ ईशानाय नम:

10. ॐ अनंतधर्माय नम:

11. ॐ ज्ञानभूताय नम:

12. ॐ अनंतवैराग्यसिंघाय नम:

13. ॐ प्रधानाय नम:

14. ॐ व्योमात्मने नम:

15. ॐ युक्तकेशात्मरूपाय नम:

इन मंत्रों के जाप के बाद शिव गायत्री मंत्र का जाप जरूर करें। ये विशेषफलदायी साबित होगा।

शिव गायत्री मंत्र : ॐ तत्पुरुषाय विद्महे, महादेवाय धीमहि, तन्नो रूद्र प्रचोदयात्।।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर