Kartik Mahina 2021 Start Date: आज से शुरू हो रहा है कार्तिक मास 2021? स्कंद पुराण में वर्णित है इस महीने की महिमा

Kartik Month 2021 Start Date: हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास 21 अक्टूबर 2021, गुरुवार से शुरू होकर 19 नवंबर 2021, शुक्रवार तक चलेगा। यह महीना भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी को समर्पित है।

kartik month 2021 start date, kartik month 2021 start and end date,
कार्तिक मास 2021  |  तस्वीर साभार: Times of India
मुख्य बातें
  • कार्तिक मास 2021 में होने वाली है व्रत एवं त्योहारों का भरमार।
  • कार्तिक मास चातुर्मास का आखिरी महीना होता है।
  • यह महीना जगत के पालनकर्ता भगवान विष्णु और धन की देवी मां लक्ष्मी को समर्पित है।

Kartik Month 2021 Start Date: कार्तिक मास का सनातन धर्म में विशेष महत्व है। यह चातुर्मास का आखिरी महीना होता है। इस महीने की शुरुआत शरद पूर्णिमा के अगले दिन होती है, इस बार शरद पूर्णिमा 20 अक्टूबर को है इसलिए 21 अक्टूबर 2021, गुरुवार से कार्तिक मास आरंभ हो जाएगा। इस महीने दान-पुण्य और पूजा-पाठ का खास महत्व है। कार्तिक मास को पर्वों की माला भी कहा जाता है। क्योंकि इस महीने करवा चौथ, अहोई अष्टमी, रमा एकादशी, धनतेरस, दीवाली, गोवर्धन पूजा, भैयादूज और छठ पूजा जैसे महापर्व मनाए जाते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस महीने चातुर्मास की समाप्ति के साथ श्रीहरि भगवान विष्णु चार महीने की योग निद्रा के बाद उठते हैं। यह महीना जगत के पालनकर्ता भगवान विष्णु और धन की देवी मां लक्ष्मी को समर्पित है। 

स्कंद पुराण में इस महीने को लेकर कहा गया है कि, जिस प्रकार सतयुग के समान कोई युग नहीं, वेद के समान कोई शास्त्र नहीं और गंगा के समान कोई तीर्थ नहीं उसी प्रकार कार्तिक के समान कोई दूसरा महीना नहीं है। ऐसे में आइए जानते हैं कार्तिक मास 2021 की शुरुआत कब हो रही है और इसकी क्या महिमा है।

कब से शुरू हो रहा है कार्तिक मास 2021

हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास 21 अक्टूबर 2021, गुरुवार से शुरू होकर 19 नवंबर 2021, शुक्रवार तक चलेगा। कार्तिक मास अंग्रेजी माह का ग्यारहवां महीना नवंबर और हिंदू कैलेंडर का आठवां महीना होता है। यह महीना व्रत एवं त्योहारों की दृष्टि से खास है। आइए जानते हैं इसका महत्व।

कार्तिक मास की महिमा

कार्तिक मास भगवान विष्णु को अत्यंत प्रिय है। इस महीने भगवान विष्णु चार महीने की योग निद्रा के बाद उठते हैं, इसे विष्णुमास के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि यह महीना भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी को समर्पित है। इस माह में पूजन और व्रत करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और समस्त कष्टों का निवारण होता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कार्ति मास में ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करने से पृथ्वी पर सभी तीर्थ करने के समान पुण्य की प्राप्ति होती है। इस माह को मोक्ष का द्वार भी कहा जाता है।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर