Bakrid Mubarak 2021 Wishes: इन खास शायरियों के जरिए अपनों को दें बकरीद की मुबारकबाद

Eid ul adha mubarak shayari: कुर्बानी का त्यौहार बकरीद 21 जुलाई को मनाया जाएगा। इस मौके पर आप शायरी के जरिए भी बकरीद की मुबारकबाद दे सकते हैं।

eid ul adha mubarak shayari image,eid ul adha mubarak shayari in hindi,eid ul adha mubarak shayari 2021,ईद मुबारक शायरी इमेज,ईद मुबारक शायरी दो लाइन,बकरीद शायरी,बकरीद की हिंदी में शायरी,  बकरीद शायरी, ईद उल अधा की शायरी,बकरीद मुबारक शायरी इन हिंदी
Eid al-Adha 2021 shayri /बकरीद की शायरी 

मुख्य बातें

  • ईद अल-फितर (मीठी ईद) के बाद मुसलमानों का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है
  • बकरीत को ईद-उल-अधा 2021 या ईद कुर्बान के रूप में भी जाना जाता है
  • इस वर्ष भारत में यह पर्व 21 जुलाई 2021 को मनाया जाएगा

Bakrid Mubarak:  21 जुलाई को देशभर में ईद-उल-अजहा यानी बकरीद मनाया जाएगा। बकरीद को मीठी ईद के 70 दिन के  बाद मनाया जाता है। बकरीद लोगों को सच्चाई की राह में अपना सबकुछ कुर्बान कर देने का संदेश देती है। बकरीद पर लोग एक-दूसरे को बधाई संदेश भेजते हैं।  आप भी अपने दोस्त, रिश्तेदारों और करीबियों को मैसेज, शायरी भेजकर उन्हें खास अंदाज में  मुबारकबाद दे सकते हैं। 

eid ul adha mubarak shayari

जो लोग गुजरते हैं मुसलसल रह-ए-दिल से
दिन ईद का उन को हो मुबारक तह-ए-दिल से
(ओबैद आजम आजमी)

महक उठी है फजा पैरहन की खुशबू से
चमन दिलों का खिलाने को ईद आई है
(मोहम्मद असदुल्लाह)

ईद को भी वो नहीं मिलते हैं मुझ से न मिलें
इक बरस दिन की मुलाकात है ये भी न सही
(शोला अलीगढ़ी)

eid ul adha mubarak shayari image

राहतों से लगे सदमे भी हैं
दिल को मजबूत बना कर रखिए
ईद का दिन है गले मिल लीजे
इख्तिलाफात हटा कर रखिए
(अब्दुल सलाम बंगलौरी)

ईद के बाद वो मिलने के लिए आए हैं
ईद का चांद नजर आने लगा ईद के बादॉ
अज्ञात

eid ul adha mubarak shayari in hindi

वादों ही पे हर रोज़ मिरी जान न टालो
है ईद का दिन अब तो गले हम को लगा लो
(मुसहफी गुलाम हमदानी)

शहर खाली है किसे ईद मुबारक कहिए
चल दिए छोड़ के मक्का भी मदीना वाले
(अख्तर उस्मान)

eid ul adha mubarak shayari 2021

ईद में ईद हुई ऐश का सामां देखा
देख कर चांद जो मुंह आप का ऐ जां देखा
(शाद अजीमाबादी)

आई ईद व दिल में नहीं कुछ हवा-ए-ईद
ऐ काश मेरे पास तू आता बजाए ईद
(शैख जहूरूद्दीन हातिम

ईद मुबारक शायरी इमेज

किसी की याद मनाने में ईद गुजरेगी
सो शहर-ए-दिल में बहुत दूर तक उदासी है
(इसहाक विरदग)

ईद तू आ के मेरे जी को जलावे अफ्सोस
जिस के आने की खुशी हो वो न आवे अफ्सोस
(मुसहफी गुलाम हमदानी)

बकरीद शायरी

आज यारों को मुबारक हो कि सुब्ह-ए-ईद है
राग है मय है चमन है दिलरुबा है दीद है
(आबरू शाह मुबारक)


उस मेहरबां नजर की इनायत का शुक्रिया
तोहफा दिया है ईद पे हम को जुदाई का
(अज्ञात)

ईद का दिन है गले आज तो मिल ले जालिम
रस्म-ए-दुनिया भी है मौका भी है दस्तूर भी है
(कमर बदायुनी)

बकरीद मुबारक शायरी इन हिंदी 


 

है ईद का दिन आज तो लग जाओ गले से
जाते हो कहां जान मिरी आ के मुकाबिल
(मुसहफी गुलाम हमदानी)

कोई इतना चाहे तुम्हें तो बताना
कोई तुम्हारे इतने नाज उठाए तो बताना
बकरीद मुबारक तो हर कोई कह देगा तुमसे
कोई हमारी तरह कहे तो बताना


चुपके से चांद की चांदनी छू जाए आपको
धीरे से ये हवा कुछ कह जाए आपको
दिल से जो चाहते हो मांग लो खुदा से
हम दुआ करते हैं मिल जाए वो आपको

समंदर को उसका किनारा मुबारक
चांद को सितारा मुबारक
फूलों को उसकी खुश्‍बू मुबारक़
दिल को उसका दिलदार मुबारक़
आपको और आपके परिवार को
बकरीद का त्‍यौहार मुबारक!

चांद से रौशन हो त्यौहार तुम्हारा
खुशी से भर जाए आंगन तुम्हारा
हर शिकायत हो दूर तुम्हारी
बस यही है दुआ हमारी

जिंदगी का हर पल खुशियों से कम न हो
आपका हर दिन ईद के दिन से कम न हो
दुख की बारिश पड़े तो हमें भूल न जाना
दोस्तों की अहमियत कभी भी कम न होा

हर मंजिल आपके पास आ जाए
हर दुख दर्द आपसे दूर हो जाए
इस ईद पर यही दुआ है हमारी
आप पर खुशियों की बौछार हो जाए

मुबारक मौका है करो खुदा की इबादत
खुशियों से भरी ये जिंदगी रहे सलामत
अदा करें हर फर्ज खुदा की रहमत में
बिगड़ी बात बन जाए कुछ ही मोहलत में
Happy Eid al-Adha 2021

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर