Chanakya Niti: शत्रुओं को लेकर चाणक्‍य ने दी थी ये सीख, जानें क्‍यों रखना चाहिए उनको अपने करीब

आचार्य चाणक्य ने कहा है कि यदि किसी को सफल होना है तो उसके पास मित्र होने चाहिए और ज्यादा कामयाबी के लिए शत्रु। उनकी कई नीतियां ऐसी हैं जो इंसान को अपने जीवन मे जरूर उतारनी चाहिए।

Chanakya niti in hindi for enemies
व्यक्ति के जीवन में सफलता- असफलता का दौर चलता रहता है। आचार्य चाणक्य ने ऐसे कई मंत्र बताए हैं जिनका पालन कर इंसान चंद्रगुप्त मोर्य की तरह विपरीत परिस्थितियों में भी राजा बनने का गुण पाए सकता है। 

मुख्य बातें

  • दुश्‍मनों को लेकर हमेशा चौकस रहना चाह‍िए
  • इंसान के अंदर आत्मबल और आत्मविश्वास दोनों होने चाहिए
  • धन और ज्ञान विपरीत परिस्थितियों में काम आते हैं

चाणक्य शिक्षक, दार्शनिक, अर्थशास्त्री, न्यायविद और शाही सलाहकार थे। न केवल उन्होंने मौर्य वंश की स्थापना में अपनी नीतियों का प्रयोग किया बल्कि मौर्य साम्राज्य को एक ऐसा शासक भी दिया जो सम्पूर्ण भारत पर राज किया। कौटिल्य या विष्णुगुप्त के नाम से भी चाणक्य को जान जाता है। उन्हें भारत में राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में सबसे अग्रणी माना गया है और उन्हें शास्त्रीय अर्थशास्त्र का एक महत्वपूर्ण अग्रदूत माना जाता है। उनकी नीतियों का ही दम था कि गुप्त साम्राज्य का अंत हुआ।

आचार्य चाणक्य ने जीवन से संबंधित हर पहलुओं पर अपनी नीतियों का उल्लेख किया है। चाणक्य की नीतियां जितनी पहले समय में कारगर थी उतनी ही आज हैं। जिन पर अमल करके व्यक्ति खुशहाल जीवन यापन कर सकता है। व्यक्ति के जीवन में सफलता- असफलता का दौर चलता रहता है। आचार्य चाणक्य ने ऐसे कई मंत्र बताए हैं जिनका पालन कर इंसान चंद्रगुप्त मोर्य की तरह विपरीत परिस्थितियों में भी राजा बनने का गुण पाए सकता है।

चाणक्य की ये नीतियां, इंसान को बनाती हैं सफल

1-किसी भी कार्य को करने के लिए सबसे जरूरी है आत्मबल। यदि आत्मबल कमजोर होगा तो ज्ञान और ताकत काम नही आएंगे। आत्मबल के लिए आत्मविश्वास होना चाहिए, क्योंकि आत्मविश्वास ही इंसान को विपरीत परिस्थितियों में भी सामान्य बनाए रखता है।

2-जो इंसान बिना मेहनत के फल प्राप्ति करता है वो कभी अपनी सफलता कयाम नही रख पाता। भले ही परिश्रम का फल देर से मिले, लेकिन वो स्थाई होता है।

3-व्यक्ति की असली पूंजी उसकी विद्या है। विद्या या ज्ञान को को न कोई चुरा सकता है न लूट सकता है। मेहनत से अर्जित ज्ञान हमेशा काम आता है। जहां धन काम नहीं आता, वहां ज्ञान काम आता है।

4- बुरे समय में अपना धन और ज्ञान ही काम आता है। कोई साथ दे या ना दे, यदि धन और ज्ञान है तो इंसान दोबारा खड़ा हो सकता है।

5- जीवन में सफल वही होता है जो हर पल अपने आंख और कान खुले रखता है। आंख बंद कर न तो किसी पर भरोसा करें न बहुत विश्वास।

6-अपने प्रिय या चाहने वालो को कभी घर की बातें या दुख जाहिर न करें। अपनी कमजोरी के बारे में बता देने पर लोग इसका फायदा उठाते हैं। अपनी कमजोरी खुद तक रखें।

7- अपने शत्रुओं को कभी अपनी नजरों से ज्‍यादा दूर ना करें। वरना आप उनके इरादे भांप नहीं पाएंगे और हार जाएंगे।

आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों के जरिये न केवल मनुष्य को अपने कर्म करने की सीख दी है, बल्कि विपरीत परिस्थितियों में भी सामान्य रहने की युक्तियां सुझाई हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर