Bhado Amavasya 2021: भाद्रपद अमावस्‍या के दिन करें ये खास उपाय, दूर होगी कालसर्प दोष समेत ये परेशानियां

Bhado Amavasya per kya karien: भाद्रपद मास में पड़ने वाली अमावस्‍या को भादो अमावस्‍या कहा जाता है। इसे कुशग्रहणी अमावस्‍या के नाम से भी जानते हैं। इस दिन तर्पण करने से पितरों की आत्‍मा को शांति मिलती है।

Bhado Amavasya ke upay, Bhado Amavasya 2021
Bhado Amavasya 2021 (pic: Istock) 

मुख्य बातें

  • भादो अमावस्‍या के दिन नदी में स्‍नान करना शुभ माना जाता है
  • इस दिन दान करने से पुण्‍य की प्राप्ति होती है
  • गरीबों को भोजन कराने से भी जीवन में खुशहाली आती है

Bhado Amavasya Ke Upay: भाद्रपद व भादो मास की अमावस्या तिथि को हिंदू धर्म में  बहुत ही शुभ एवं पुण्य फलदायी माना जाता है। इस दिन को कुशग्रहणी अमावस्‍या के तौर पर भी जाना जाता है। इस बार ये 7 सितंबर को है।  इस दिन पवित्र तीर्थस्थलों के दर्शन करने एवं नदियों में स्‍नान करने से पुण्‍य की प्राप्ति होती है। यह दिन पितरों की शांति के लिए उत्‍तम होता है, इसलिए इस दिन तर्पण किया जाता है। अगर किसी की कुंडली में कालसर्प दोष समे कोई और परेशानी हो तो इसका भी निवारण भादो अमावस्‍या के दिन किया जा सकता है। 

भाद्रपद माह की अमावस्या के दिन धार्मिक कार्यों, श्राद्ध कर्म आदि में प्रयोग की जाने वाली कुशा घास को एकत्रित किए जाने से सालभर तक पुण्य फल की प्राप्ति होती है। इस दिन अपने दिवंगत पितरों की आत्मा को तृप्त करने के लिए पवित्र नदियों में कुशा मिले जल से तर्पण करना चाहिए। इससे पितृ प्रसन्न होकर सुख-समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं। इसके अलावा भी कुछ खास उपाय करके सभी तरह के कष्‍टों से छुटकारा पाया जा सकता है। 

भादो अमावस्‍या पर करें ये काम

  1. भादो अमावस्‍या के दिन तर्पण का विशेष महत्‍व होता है। इससे पूर्वजों की आत्‍मा को शांति मिलती है। इससे पितृ दोष से भी छुटकारा मिलता है। ऐसा करने से आपके जीवन में आ रही बाधाएं दूर होंगी। 
  2. भादो अमावस्या के दिन सूर्यास्त के बाद पीपल के पेड़ चीनी मिश्रित जल अर्पण करने और आटे के दीपक में 5 बत्ती लगाकर जलाने से लाभ होता है। इसके अलावा 7 या 11 बार  परिक्रमा करने से धन प्राप्ति की इच्‍छा पूरी होती है। 
  3. भाद्रपद अमावस्या के दिन शनिदेव की पूजा का भी खास महत्व है। इसलिए भादो  अमावस्या के दिन शनिदेव की पूजा करें। इस दिन शनि ग्रह से संबंधित चीजें जैसे सरसों का तेल, काले तिल, काला कम्‍बल आदि का दान करना चाहिए। 
  4. अगर किसी की कुंडली में कालसर्प दोष है तो उन्‍हें भादो अमावस्या के दिन इसका निवारण करवाना चाहिए। इसके लिए चांदी के नाग नागिन को नदी में प्रवाहित करें एवं दान दें। बता दें कि कुंडली में कालसर्प दोष राहु-केतु के कारण बनता है।
  5. भाद्रपद अमावस्‍या के दिन हनुमान मंदिर में सरसों के तेल का दीपक जलाना और हनुमान चालीसा का पाठ करना भी शुभ माना जाता है। इससे मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। 
  6. जीवन में आ रही मुसीबतों से बचने के लिए भादो अमावस्‍या के दिन किसी गौशाला में धन और हरी घास का दान करना अच्‍छा माना जाता है। 
Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर