Ranchi University News: रांची विश्वविद्यालय के छात्र अब साइबर सिक्योरिटी के बनेंगे जानकार, शुरू होगा कोर्स

Ranchi University News: बढ़ती साइबर ठगी को देखते हुए अब विश्वविद्यालय में साइबर सिक्योरिटी की पढ़ाई शुरू कराई जा रही है। ताकि छात्र-छात्राएं इससे बचाव के प्रति जागरूक हो सकें।

Now cyber security studies in Ranchi University
रांची विवि में अब साइबर सिक्योरिटी की होगी पढ़ाई   |  तस्वीर साभार: Twitter
मुख्य बातें
  • रांची विश्वविद्यालय में साइबर सिक्योरिटी कोर्स की होगी शुरुआत
  • दोपहर 3.30 बजे आरयू और एमएससीसी के बीच होगा एमओयू
  • दूसरा एमओयू आज ही शाम 4 बजे आरयू और बीएसएनएल के बीच होगा

Ranchi University News: रांची विश्वविद्यालय में अब साइबर सिक्योरिटी की पढ़ाई होगी। इसके लिए आज दो एमओयू साइन किए जाएंगे। पहला एमओयू रांची विश्वविद्यालय और एमएससीसी के बीच दोपहर 3.30 बजे साइन किया जाएगा। फिर शाम 4 बजे रांची विश्वविद्यालय और बीएसएनएल के बीच दूसरा एमओयू साइन होना है। बता दें स्क्रैप का मूल्य निर्धारण करने का काम एमएससीसी करता है। इन एमओयू को लेकर रांची विश्वविद्यालय प्रशासन काफी खुश है। 

एमओयू होने के बाद बीएसएनएल कंपनी द्वारा साइबर सिक्योरिटी कोर्स डिजाइन की जाएगी। इसके बाद नो प्रोफिट, नो लॉस की नीति पर पढ़ाई कराई जाएगी। बता दें कॉरपोरेट जगत की मांग और बढ़ते साइबर ठगी को देखते हुए कोर्स शुरू किया जा रहा है। 

कॅरियर के लिहाज से यह कोर्स बेहतरीन

इस बारे में रांची विश्वविद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार सह पीआरओ डॉ. प्रीतम कुमार ने बताया कि कॅरियल के लिहाज से साइबर सिक्योरिटी कोर्स काफी बेहतर है। दुनिया भर में तेजी से साइबर सिक्योरिटी के जानकारों की मांग बढ़ रही है। इस फील्ड में कॅरियर बनाकर बेहद अच्छी आय बनाई जा सकती है। बता दें इस कोर्स का संचालन फिजिक्स, एमसीए डिपार्टमेंट के अंतर्गत कराया जाएगा।  

कोर्स पूरा करने वालों की इस रूप में होगी भूमिका

इस कोर्स को पूरा करने वाले साइबर एक्सपर्ट बनेंगे। हैंकिंग, ब्लैकमेलिंग, स्टॉकिंग, कॉपी राइट, क्रेडिट कार्ड चोरी, फ्रॉड, पोर्नोग्राफी आदि की जांच करेंगे। फिलहाल रांची विश्वविद्यालय में काफी स्क्रैप बर्बाद हो जाता है। इस कारण इन स्क्रैप का मूल्य नहीं मिल पाता है। अब स्क्रैप का दाम तय करने का काम करने वाली एमएससीसी से एमओयू होने के बाद स्क्रैप का विश्वविद्यालय को अच्छा मूल्य मिलने लगेगा। इससे मिली राशि विश्वविद्यालय के विकास कार्यों में खर्च की जा सकेगी। 

छह महीने से कोर्स शुरू कराने को लेकर चल रही कवायद

रांची विश्वविद्यालय में साइबर सिक्योरिटी कोर्स शुरू कराने की कवायद छह महीने से चल रही थी। तमाम कागजी कार्यवाही पूरी करने के बाद शिक्षा विभाग और राजभवन से मंजूरी ली गई। इसके बाद संबंधित कंपनियों के साथ बैठकर कर विचार-विमर्श किया गया। अब इन कंपनियों के साथ आज एमओयू साइन किया जाना है। 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर