Mumbai News: मुंबई में विकास की बलि चढ़ेंगे 1845 पेड़, महाराष्ट्र स्टेट ट्री अथॉरिटी ने पास किए 8 प्रोजेक्ट्स

Mumbai News: मुंबई में विकास के नाम पर जल्‍द ही 1845 पेड़ों की बलि चढ़ा दी जाएगी। ये सभी पेड़ आठ प्रोजेक्‍ट्स के दायरे में आ रहे हैं। इन पेड़ों को काटने के लिए महाराष्ट्र स्टेट ट्री अथॉरिटी ने अपनी मंजूरी दे दी है। कटने वाले पेड़ों में 199 हेरिटेज पेड़ हैं।

Tree felling
महाराष्ट्र स्टेट ट्री अथॉरिटी ने दी 1845 पेड़ काटने की मंजूरी   |  तस्वीर साभार: Representative Image
मुख्य बातें
  • आठ प्रोजेक्‍ट के लिए काटे जाएंगे मुंबई में 1845 पेड़
  • सेवरी-वर्ली कनेक्टर प्रोजेक्‍ट के लिए कटेंगे 305 पेड़
  • एमएसटीए ने अपनी पहली बैठक में नहीं दी थी मंजूरी

Mumbai News: शहरी निकायों द्वारा प्रस्तावित आठ बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को महाराष्ट्र स्टेट ट्री अथॉरिटी (एमएसटीए) द्वारा पास कर दिया है। इसका मतलब अब मुंबई में 199 हेरिटेज पेड़ों सहित 1,845 पेड़ विकास की बलि चढ़ेंगे। यह सभी पेड़ आठ प्रोजेक्‍ट्स के बीच में आ रहे हैं, जिन्‍हें अब काटने की मंजूरी दी गई है। जल्‍द ही इन पेटों की कटाई शुरू हो जाएगी। एमएसटीए ने अपनी दूसरी बैठक के दौरान मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण की सेवरी-वर्ली कनेक्टर के निर्माण के लिए पेड़ काटने की परियोजनाओं को मंजूरी दी, जिसके लिए 305 पेड़ काटे जाएंगे।

वहीं अकोला में चार-लेन राष्ट्रीय राजमार्ग बनाने के लिए 184 पेड़ों को काटा जाएगा। इस तरह दो मेट्रो संबंधित परियोजनाएं, मेट्रो कॉरिडोर 2 कलानगर से बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स तक बनने वाली लाइन के लिए 52 पेड़ों को काटा जाएगा। इसी तरह डीएन नगर से नानावती अस्पताल तक मेट्रो वायडक्ट बनाने के लिए 41 पेड़ों की बलि चढ़ाई जाएगी।

एमएसटीए ने अपनी पहली बैठक में नहीं दी थी मंजूरी

बता दें कि एमएसटीए की पहली बैठक 17 जनवरी को हुई थी, जिसमें 12 प्रोजेक्‍ट के लिए पेड़ों को काटने का प्रस्‍ताव रखा गया था, लेकिन उस बैठक में पेड़ों को काटने की अनुमति नहीं दी गई थी। इसका कारण मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) को बताया गया है। उसके बाद एक एसओपी तैयार किया गया, जिसमें एजेंसियों और शहरी निकायों को गूगल मैप लोकेशन के साथ नाम, उम्र, प्रजाति और काटे जाने व रखने वाले पेड़ों की पूरा विवरण प्रस्तुत करने के लिए कहा गया था। पहली बैठक में लिए गए फैसले के अनुसार एमएसटीए को पेट काटने के लिए कई प्रस्ताव मिले थे, लेकिन वे सभी वृक्ष अधिनियम, 1975 के संशोधित प्रावधानों के अनुरूप नहीं थे। जिस वजह से सभी विभागों के निकायों को एसओपी तैयार करने को कहा गया था। बता दें कि, राज्य सरकार द्वारा इस साल जनवरी में ट्री अथॉरिटी का गठन किया गया था। इसमें एक अध्यक्ष और तीन सदस्यों को नियुक्त की गई है। यह संस्‍थान स्थानीय वृक्ष प्राधिकरणों के कामकाज की निगरानी, ​​​​हेरिटेज के पेड़ों की सुरक्षा और संरक्षण का कार्य करती है।

Mumbai News in Hindi (मुंबई समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर