Mumbai Thief Engineer: बॉम्बे अड्डा क्लब से महंगा फोन चुराने वाला इंजीनियर गिरफ्तार, चौंका देगी चोरी की वजह

Mumbai Thief Engineer: बेहिसाब जरूरतें लोगों को गलत रास्ते पर ले जाती है। चाहे वह कितना भी पढ़ा-लिखा क्यों न हो। ऐसा ही एक ताजा मामला मुंबई में सामने आया है। यहां मैकेनिकल इंजीनियर अपनी जरूरत पूरी करने के लिए महंगे मोबाइल फोन चुरा रहा था। पुलिस ने अब उसे गिरफ्तार कर लिया है।

Mumbai Thief Engineer
मुंबई में इंजीनियर चुराया करता था मोबाइल (प्रतीकात्मक तस्वीर)  |  तस्वीर साभार: Twitter
मुख्य बातें
  • सांताक्रूज वेस्ट में बॉम्बे अड्डा क्लब से मोबाइल चोरी के आरोप में इंजीनियर गिरफ्तार
  • दो महीने से अलग-अलग जगहों से मोबाइल चुरा रहा था युवक
  • पुलिस ने आरोपी के कब्जे से तीन आईफोन किए बरामद

Mumbai Thief Engineer: सांताक्रूज पुलिस ने बॉम्बे अड्डा क्लब से आईफोन चोरी मामले में एक मैकेनिकल इंजीनियर को गिरफ्तार किया है। इसकी उम्र 28 साल है। इसके कब्जे से तीन आईफोन बरामद हुए हैं। पुलिस का कहना है कि यह युवक पिछले दो महीने से महंगे फोन चुरा रहा था। वह क्लब के डांस फ्लोर पर जाता और लोगों के मोबाइल चुरा लिया करता था। 

गिरफ्तार युवक की पहचान कांदिवली पूर्व के अकुरदली रोड स्थित नेशनल एवेन्यू बिल्डिंग में रहने वाले अद्धैत राजन महादिक के रूप में की गई। युवक मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत है। पुलिस का कहना है कि उसके वेतन से कहीं महंगा लाइफस्टाइल वह जीता है, जिसके लिए उसने चोरी के रास्ते को अपना लिया। 

शादी के बढ़ गई थी जिम्मेदारियां

आरोपी ने पुलिस को बताया कि शादी के बाद उसकी जिम्मेदारियां बढ़ गईं थीं। खर्च अधिक बढ़ने से वह सिर्फ सैलरी पर निर्भर नहीं रह सकता था। ऐसे में उसने फोन चुराकर बेचना शुरू कर दिया। पुलिस के मुताबिक एक महीने के भीतर सांताक्रूज थाने में आईफोन चोरी होने के तीन मामले दर्ज करवाए गए हैं। पुलिस ने क्लब के सीसीटीवी फुटेज की जांच की, लेकिन पुलिस की चुनौती कम नहीं हुई। क्लब के डांस फ्लोर पर एक समय में 200-200 लोग रहते थे। सांताक्रूज थाने के पीएसआई सचिन त्रिमुखे का कहना कि सभी घटनाएं वीकेंड में ही हुईं हैं। आरोपी इंजीनियर क्लब में आकर फोन चुराकर चला जाता था। सभी फोन की अनुमानित दाम 1.5 लाख रुपए है। 

महंगे कपड़े पहनने का है शौकीन

पीएसआई के मुताबिक आरोपी ब्रांडेड महंगे कपड़े पहनने का शौकीन है। पूरे मामले की जांच के लिए सीनियर इंस्पेक्टर बाला साहेब तांबे और जोन 9 के डीसीपी मंजूनाथ सिंगे को लगाया गया था। इनके मार्गदर्शन में कांस्टेबल फाटक, पुलिस नायक सावंत, कांस्टेबल हिरेमठ, नाइक पाटिल, कांस्टेबल बडे की एक टीम बनाई गई। इस टीम ने सीसीटीवी कैमरों की बारीकी से जांच की। इस दौरान आरोपी महादिक पर शक गया। फिर पुलिस ने उसे एक फोन को उठाते देखा और दबोच लिया। सख्ती से पूछताछ करने पर उसने अपना जुर्म कबूल लिया। आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 380 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। 

Mumbai News in Hindi (मुंबई समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर