BHU Feroz Khan Row : हारमोनियम पर भजन गाते हैं फिरोज खान के पिता, बहन का नाम है लक्ष्मी 

BHU Feroz Khan appointment Row : फिरोज खान का परिवार हिंदू संस्कृति में रचा-बसा है। उनके पिता रमजान हारमोनियम पर भजन गाते हैं जिसे सुनने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं।

BHU appointment Row : Feroz Khan father sings Bhajans in Rajasthan हारमोनियम पर भजन गाते हैं फिरोज खान के पिता, बहन का नाम है लक्ष्मी
Feroz Khan : मूलरूप से राजस्थान के रहने वाले हैं फिरोज खान।  |  तस्वीर साभार: फेसबुक

मुख्य बातें

  • बीएचयू के संस्कृत विभाग में सहायक प्रोफेसर पद पर हुई है फिरोज खान की नियुक्ति
  • मूलरूप से राजस्थान के बगरू के रहने वाले हैं फिरोज खान, पिता गाते हैं भजन
  • विवाद सामने आने के बाद बड़ी संख्या में लोगों ने किया है फिरोज खान का समर्थन

नई दिल्ली : बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के संस्कृत विभाग में सहायक प्रोफेसर पद पर फिरोज खान की नियुक्ति पर विवाद उनके मजहब को लेकर हो रहा है लेकिन फिरोज राजस्थान के जिस क्षेत्र से आते हैं वहां के लोगों का कहना है कि फिरोज का परिवार सच्चे अर्थों में हिंदू है। लोग कहते हैं कि गौ एवं कृष्ण भक्ति यदि किसी से सीखनी हो तो वह खान के परिवार के सीख सकता है। फिरोज खान का परिवार मुस्लिम होते हुए भी हिंदू संस्कृति में रचा-बसा है। फिरोज खान के पिता रमजान भजन गाते हैं जिसे सुनने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। 

फिरोज खान का घर जयपुर से 35 किलोमीटर दूर बगरू में स्थित है। यहां के श्री रामदेव गौशाला चैतन्य धाम के मंदिर में उनके पिता रमजान बुधवार को आरती में शामिल हुए और वहां हारमोनियम पर भजन गाकर लोगों को सुनाया। फिरोज के पिता संस्कृत में शास्त्री हैं और वह खुद से भजन तैयार करते हैं। वह रोजाना गोसेवा करने के बाद मस्जिद में नमाज पढ़ने के लिए जाते हैं। 

रमजान ने एक समाचार पत्र से बातचीत में कहा कि उनके पूर्वज 100 साल से भजन-कीर्तन करते आए हैं। भजन गाने की परंपरा उन्हें विरासत में मिली है। उन्होंने कहा, 'मेरे सभी चारों बेटों ने संस्कृति विश्वविद्याल में पढ़ाई की है।' रमजान ने कहा कि उनकी छोटी बेटी दिवाली के दिन पैदा हुई और उसका नाम लक्ष्मी है। हिंदू संस्कृति एवं रीति-नीति में खान के परिवार की आस्था को देखते हुए बगरू क्षेत्र के लोग इस परिवार को सच्चा हिंदू मानते हैं। फिरोज खान की नियुक्ति पर उठे विवाद के बाद इलाके के लोग खान के घर पहुंचकर उनके साथ अपनी एकजुटता जाहिर कर रहे हैं।

बीएचयू में खान की नियुक्ति पर उठे विवाद पर मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने गुरुवार को पहली बार अपनी प्रतिक्रिया दी। मंत्रालय ने कहा कि खान की नियुक्ति विश्वविद्यालय का आंतरिक मामला है। एचआरडी मंत्रालय में राज्य मंत्री संजय धोत्रे ने कहा, 'खान की नियुक्ति पर इस तरह का विरोध प्रदर्शन गलत है। खान की नियुक्ति विवि का आंतरिक मसला है।' 

बता दें कि गत सात नवंबर को बीएचयू के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान (एसवीडीवी) में फिरोज खान की नियुक्ति हुई। संस्कृत विभाग के छात्र फिरोज के धर्म के आधार पर इस नियुक्ति का विरोध कर रहे हैं। छात्रों का कहना है कि एक मुस्लिम व्यक्ति हिंदू संस्कृति की शिक्षा नहीं दे सकता। इस विवाद के सामने आने पर बड़ी संख्या में लोग फिरोज के समर्थन में आगे आए हैं और नियुक्ति के खिलाफ छात्रों के प्रदर्शन को गलत बताया है। इसी क्रम में बुधवार को अभिनेता एवं भाजपा सांसद परेश रावल ने फिरोज का समर्थन किया।

अभिनेता ने पूछा कि यदि फिरोज खान के धर्म को आधार बनाकर उनकी नियुक्ति पर सवाल उठाया जा रहा है तो इसी तर्क के अधार पर मोहम्मद रफी को भजन नहीं गाना चाहिए था और नौशाद साहब को भजन नहीं लिखनी चाहिए थी। रावल ने कहा कि इस तरह की 'बेतुकी बातें' नहीं होनी चाहिए। 

Jaipur News in Hindi (जयपुर समाचार), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर