Piyush Goyal at Times Now Summit:कानून के दायरे में ई-कामर्स कंपनियों का स्वागत,मगर दुकानदारों के हित भी अहम

Piyush Goyal at Times Now Summit 2020 Video: टाइम्स नाउ समिट 2020 में आए केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग और रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ई-कॉमर्स कंपनियों, देश की ग्रोथ और रोजगार सहित कई मुद्दों पर सवालों के जवाब दिए।

Union Minister for Commerce & Industry Railways tells on various issue like e commerce employment agriculture etc at TIMES NOW SUMMIT 2020
कृषि को लेकर पीयूष गोयल ने साफ किया कि कृषि क्षेत्र में तेजी की उम्मीद है और हम सभी क्षेत्रों में बहुत केंद्रित तरीके से काम कर रहे हैं  |  तस्वीर साभार: Times Now

नई दिल्ली: टाइम्स नाउ समिट इंडिया एक्शन प्लान 2020 के दूसरे दिन केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग और रेल मंत्री पीयूष गोयल ने देश की देश की अर्थव्यवस्था से लेकर ई-कॉमर्स कंपनियों, ग्रोथ, कृषि और अन्य अहम विषयों पर अपनी राय बेबाकी से रखी। उन्होंने कहा कि हमारा सेवा क्षेत्र लगातार बढ़ रहा है।

ई-कॉमर्स कंपनियों जैस एमेजॉन आदि को लेकर किए गए सवाल पर गोयल ने कहा कि हमने देश के कानून के ढांचे के भीतर काम करने के लिए हमेशा ई-कॉमर्स का स्वागत है, लेकिन हमें अपने घरेलू उद्योगों की रक्षा करने भी बेहद जरुरी है और सरकार का दायित्व छोटे दुकानदारों के हितों को भी सुरक्षित रखना है।

 

 

उन्होंने कहा कि खासे बड़े बजट वाली ई-कॉमर्स कंपनियां भारत में छोटे दुकानदारों को टक्कर दे रही हैं, सरकार का दा़यित्व है काम का एक बेहतर वातावरण बनाया जाए।

 

 

उन्होंने बजट को दूरदर्शी बताते हुए उन्होंने कहा कि बहुत अधिक सकारात्मकता है और परिणाम दीर्घावधि में दिखाई देंगे। उन्होंने यह भी दोहराया कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को क्या कहा कि सरकार और उसके सहयोगी अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं।

 

 

कृषि को लेकर गोयल ने साफ किया कि कृषि क्षेत्र में तेजी की उम्मीद है और हम सभी क्षेत्रों में बहुत केंद्रित तरीके से काम कर रहे हैं। इस साल कृषि क्षेत्र में तेजी की उम्मीद है। पीएम किसान योजना के अच्छे परिणाम आपको दिखेगा। 

 

वैश्विक चुनौतियों के बावजूद, यह पिछले साढ़े पांच सालों में एक अद्भुत यात्रा रही है। हमने पूरे क्षेत्रों में सबसे अच्छा कार्यान्वयन देखा है। उन्होंने कहा, देश और अर्थव्यवस्था उज्ज्वल भविष्य के लिए तैयार हैं। गोयल ने उल्लेख किया कि विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि हुई है। 

वहीं दिल्ली में फ्री बिजली बांटे जाने जैसे मुद्दे पर गोयल ने साफ किया कि ऐसे पॉपुलिस्ट कदम देश को दीर्घकाल में खासा नुकसान पहुंचाते हैं। 

 

 

गोयल ने कहा कि यूपीए शासन के दौरान हुए आर्थिक कुप्रबंधन को ठीक करने के लिए सरकार 2014 से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था की पूर्ण कुप्रबंधन 2008-09 के आसपास शुरू हुई और परिणाम देखा गया जब  1 डॉलर की कीमत 2014 में 69 रुपये के बराबर हो गयी थी।

गोयल ने कहा भारत की अर्थव्यवस्था  साल 2008 में अपने घुटनों के बल आ गई थी, उन्होंने आगे कहा कि भारत का 50% FDI पिछले 5 वर्षों में आया है और मुद्रास्फीति को अब नियंत्रण में लाया गया है।

 

 

देश में बेरोजगारी को लेकर, गोयल ने कहा कि बेरोजगारी के संकट से निपटने में समय लगेगा। सरकार और उसके सहयोगी मिलकर काम कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि हम सभी क्षेत्रों में बहुत ही केंद्रित तरीके से काम कर रहे हैं। कृषि क्षेत्र में इस साल उछाल आने की उम्मीद है।

गोयल ने आगे कहा कि भारत का सेवा क्षेत्र लगातार बढ़ रहा है। उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि सरकार का ध्यान मानव निर्मित वस्त्रों पर है। उन्होंने कहा कि हमें अपने घरेलू उद्योगों को बचाने की जरूरत है।

 

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...