मुर्दाघर के अधिकारी का खुलासा-मुंबई पुलिस की मदद से मोर्चरी में दाखिल हुई रिया चक्रवर्ती

SSR Death Case: सुशांत सिंह मौत मामले में मुंबई पुलिस पहले से ही सवालों के घेरे में है। अब कूपर अस्पताल के मुर्दाघर के इस अधिकारी के दावे के बाद उस पर गंभीर सवाल उठने शुरू हो गए हैं।

 Cooper Hospital officer calims Rhea Chakraborty illegally allowed to enter morgue
मुर्दाघर के अधिकारी का खुलासा-मुंबई पुलिस की मदद से मोर्चरी में दाखिल हुई रिया चक्रवर्ती।  |  तस्वीर साभार: PTI

मुख्य बातें

  • सुशांत सिंह के शव का पोस्टमार्टम होने के बाद मुर्दाघर पहुंची थीं रिया चक्रवर्ती
  • कूपर अस्पताल के अधिकारी ने कहा कि मुंबई पुलिस की मदद से अंदर दाखिल हुई रिया
  • अधिकारी के दावे के बाद मुंबई पुलिस की भूमिका पर फिर उठे सवाल

मुंबई: अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले में हर रोज चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। सुशांत सिंह के शव का पोस्टमार्टम होने के बाद उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती ने कूपर अस्पताल के मुर्दाघर का दौरा किया था, और वह अस्पताल में करीब 45 मिनट तक रहीं। अब मुर्दाघर के अधिकारी ने टाइम्स नाउ के साथ बातचीत में सनसनीखेज खुलासे किए हैं। अधिकारी ने कहा कि रिया चक्रवती को गैर-कानूनी रूप से मुर्दाघर में जाने की इजाजत दी गई। अधिकारी का दावा है कि मुंबई पुलिस की मदद से रिया मुर्दाघर में दाखिल हुईं। पोस्टमार्टम के बाद सुशांत के परिवार से किसी को मुर्दाघर में उनका शव देखने की इजाजत नहीं दी गई लेकिन रिया 45 मिनट तक वहां रहीं। 

मुंबई पुलिस पर फिर उठे सवाल
सुशांत सिंह मौत मामले में मुंबई पुलिस पहले से ही सवालों के घेरे में है। अब कूपर अस्पताल के मुर्दाघर के इस अधिकारी के दावे के बाद उस पर गंभीर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। आम तौर पर शव का अवशेष देखने के लिए किसी को मुर्दाघर में जाने की इजाजत नहीं मिलती है लेकिन सवाल है कि रिया चक्रवर्ती को यह छूट क्यों दी गई और उन्हें किसकी इजाजत पर अंदर जाने दिया गया। सवाल है कि मामले की प्रमुख संदिग्ध को मुर्दाघर में क्यों जाने दिया गया और उसने 45 मिनट तक वहां क्या किया?

सुशांत सिंह के पिता के वकील ने पूछे सवाल
सुशांत सिंह के पिता कृष्ण कुमार सिंह के वकील विकास सिंह ने कहा, 'पोस्टमार्टम के बाद शव को सुशांत की बहन नीतू ने देखा था। शव देखने के बाद वह परेशान हो गई थी। उस समय वही मुंबई में थी, मुंबई पुलिस उसे बुला सकती थी। रिया के पास मुर्दाघर में जाने का कोई कानूनी अधिकार नहीं था। उसने खुद माना है कि वह आठ जून तक सुशांत सिंह के साथ केवल लिव-इन रिलेशनशिप में थी। यही नहीं सुशांत के दो लॉकर खोले गए लेकिन ये लॉकर भी खाली पाए गए। इन दो लॉकरों में कीमती चीजें या कैश हो सकता था लेकिन कुछ भी नहीं था। सवाल यह है कि जब रिया आठ जून को अपने सामान के साथ सुशांत सिंह का घर छोड़ चुकी थी तो वह किस अधिकार से मुर्दाघर गई। मुंबई पुलिस को यह बताने की जरूरत है कि उसने रिया को मुर्दाघर जाने की अनुमति क्यों दी?'

'सुशांत के साथ रिया का रिश्ता आठ जून को खत्म हो गया था'
सुशांत के वकील ने कहा, 'रिया आठ जून तक ही सुशांत सिंह के साथ लिव-इनरिलेशन में थीं। इसके बाद सुशांत के साथ उनका कोई संबंध नहीं था। जो भी रिलेशनशिप था वह आठ जून को समाप्त हो गया। मुर्दाघर में किसी को यदि बुलाने की जरूरत थी तो सुशांत की बहन नीतू मुंबई में मौजूद थीं उन्हें बुलाया जा सकता था। रात तक दिल्ली से सुशांत की दो और बहनें मुंबई पहुंच गईं। इन्हें बुलाया जा सकता था। सुशांत की तिजोरी में घड़ियां और बेशकीमती चीजें रहती थीं लेकिन लॉकर खोले जाने पर उनमें कुछ नहीं था।'
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर