Year End 2020: कानपुर और हाथरस की इन दो घटनाओं से दहल गया था पूरा देश, निशाने पर रहे योगी

देश
किशोर जोशी
Updated Dec 20, 2020 | 12:12 IST

2020 में उत्तर प्रदेश में दो ऐसी घटनाएं हुईं जिसकी चर्चा देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी हुई। हाथरस कांड और विकास दुबे द्वारा किए कांड की चर्चा हर तरफ हुई और दोनों घटनाओं के बाद सबके निशाने पर CM योगी रहे।

Year ender 2020 Entire country was shaken by these two incidents of Kanpur Vikash Dubey case and Hathras
2020: कानपुर और हाथरस की इन दो घटनाओं से दहल गया था पूरा देश 

मुख्य बातें

  • 2020 में उत्तर प्रदेश की दो वारदातों की वजह से सबसे निशाने पर रही योगी सरकार
  • कानपुर के बिकरू में गैंगस्टर विकास दुबे ने 8 पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार दिया था
  • हाथरस में एक दलित युवती के साथ कथित तौर पर हुआ गैंगरेप, पुलिस ने आधी रात को कर दिया अंतिम संस्कार

नई दिल्ली: यूं तो 2020 का साल एक ऐसी महामारी के लिए जाएगा जिसने पूरी दुनिया को कई तरह से गहरे जख्म दिए, लेकिन भारत में कई ऐसी ऐसी घटनाएं हुईं जो इस महामारी के दौर में खूब सुर्खियों में रही और इनमें से दो घटनाएं हुईं उत्तर प्रदेश में। पहली वारदात हुई कानपुर स्थित बिकरू गांव में हुई जिसने पूरे देश को हिला रख दिया। गैंगस्टेर विकास दुबे ने अपने साथियों के साथ पुलिस टीम पर इस अंदाज में फायरिंग की 8 पुलिसवालों को मौत के घाट उतार दिया। वहीं दूसरी वारदात उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुई जहां एक लड़की से रेप हुआ और बात में उसकी मौत हो गई। पुलिस ने रातों रात पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया। इसे लेकर पूरे देश में गुस्सा फैला और कई विरोध प्रदर्शन हुए। तो आइए विस्तार से जानते हैं दोनों घटनाओं के बारे में।


 

बिकरू कांड
2 जुलाई की आधी रात कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव में जो हुआ उससे पूरा देश सन्न रह गया। यहां गैंगस्टर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर पहले से ही घात लगाकर बैठे दुबे ने अपने साथियों की मदद से ऐसी फायरिंग की कि पुलिस वालों को बचने तक का मौका नहीं मिला। विकास दुब और उसके गुर्गों द्वारा की गई ताबड़तोड़ फायरिंग में सीओ सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए। इसके अलावा आधा दर्जन के करीब पुलिसकर्मी फायरिंग में बुरी तरह घायल हो गए।


ऐसे पकड़ा गया विकास दुबे
दूसरे दिन सुबह जैसे ही यह खबर सामने आई तो पूरा देश हैरान रह गया। विकास दुबे फरार हो गया। पुलिस ने बाद में कई जगह दबिश देकर विकास दुबे के पांच साथियों को एनकाउंटर में ढेर कर दिया लेकिन विकास पुलिस को चकमा देते रहा। लेकिन अंतत: 9 जुलाई को मध्य प्रदेश के उज्जैन से विकास दुबे को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के दौरान भी विकास दुबे की हेकड़ी कम नहीं हुई है और वह चिल्लाते हुए कहने लगा, 'मैं विकास दुबे हूं कानपुर वाला।'


 

और हो गया एनकाउंटर
गिरफ्तारी के बाद विकास दुबे को उत्तर प्रदेश पुलिस और उत्तर प्रदेश की एसटीएफ जब उज्जैन से कानपुर ला रही थी तो इस दौरान कानपुर के पास पुलिस की गाड़ी का हादसा हो गया। हादसा भी उसी वाहन का हुआ जिसमें विकास दुबे बैठा था। पुलिस का दावा था कि विकास दुबे ने वाहन पलटने के साथ ही पुलिस के हथियार लेकर भागने की कोशिश की जिस वजह से उसका एनकाउंट कर दिया गया और विकास दुबे के युग का अंत हो गया। हालांकि इस एनकाउंटर पर खूब सवाल उठे थे।

हाथरस कांड
अब बात करते हैं 2020 के सबसे चर्चित मामले हाथरस केस की। यहां  14 सितंबर को एक दलित लड़की के साथ कथित तौर पर गैंगरेप हुआ। दलित लड़की के घरवालों के आरोप के मुताबिक 14 सितंबर को चार लड़कों ने खेत में लड़की के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया था। मामला सामने आने के बाद पीड़िता को इलाज के लिए अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। हाथरस की गैंगरेप पीड़िता ने मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई है।

आधी रात में संस्कार
पीड़िता की मौत के बाद पुलिस ने परिजनों और गांवों वालों के भारी विरोध के बीच पीड़िता का अंतिम संस्कार 29-30 सितंबर की आधी रात में कर दिया। इस  लेकर योगी सरकार की खूब आलोचना हुई और तमाम राजनीतिक दलों ने उनसे इस्तीफा तक मांग लिया। बाद में इसकी जांच के लिए एक एसआईटी का गठन भी किया गया और कुछ दोषी पुलिसकर्मियों को निलंबित भी किया। लेकिन इस मामले की वजह से योगी सरकार की काफी फजीहत भी हुई। कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने हाथरस जाकर पीड़िता के परिजनों से मुलाकात की और मदद का आश्वासन भी दिया।

सीबीआई जांच
इस घटना को लेकर देश ही नहीं बल्कि विदेशों में विरोध प्रदर्शन हुए और पीड़िता के लिए इंसाफ की मांग की गई। बाद में योगी सरकार ने हाथरस केस की सीबीआई जांच कराने का फैसला किया। वहीं इस मामले के अभियुक्तों के पक्ष में भी कई लोग खड़े हुए। आरोपियों के परिवार का कहना था कि उन्हें जबरन फंसाया जा रहा है। फिलहाल मामले की जांच चल रही है और मामला कोर्ट में है। 
 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर