हताश आतंकियों ने अपनाया नया हथकंडा, एप्पल कॉन्सपिरेसी के जरिए व्यापारियों और किसानों को बना रहे हैं निशाना

देश
Updated Oct 17, 2019 | 14:27 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

jammu kashmir after abrogation of article 370: घाटी में आतंकियों की बौखलाहट को इस बात से समझी जा सकती है कि अब वो सेब के व्यापारियों और किसानों को निशाना बना रहे हैं।

jammu kashmir
आतंकियों की एप्पल कांस्पिरेसी 

मुख्य बातें

  • सेब के व्यापारियों और किसानों को आतंकी बना रहे हैं निशाना
  • सेब की पेटियों पर हमें चाहिए आजादी जैसे नारे लिखे मिले
  • जम्मू के व्यापारियों ने प्रशासन से रोक लगाने की अपील की

नई दिल्ली। कश्मीर का जर्रा जर्रा खूबसूरती का अहसास कराता है। ये बात अलग है कि धरती के जन्नत को आतंकियों की नजर लग गई और पाकिस्तान उनके जरिए नापाक खेल खेलता है। पांच अगस्त को जब अनुच्छेद 370 को हटाया गया तो पाकिस्तान और आतंकियों की बौखलाहट और बढ़ गई। पांच अगस्त से लेकर आज की तारीख पर अगर ध्यान दें तो एक बात साफ हो जाएगी कि घाटी के करीब करीब सभी इलाकों में शांति रही है। लेकिन आतंकी अब सेब के व्यापारियों और किसानों को निशाना बना रहे हैं। इसके जरिए वो उन लोगों में दहशत फैलाना चाहते हैं जो बुनियादी तौर पर राज्य की अर्थव्यवस्था में अहम योगदान देते हैं। जानकार इसे एप्पल कॉन्सपिरेसी का नाम दे रहे हैं। 

दरअसल अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद आतंकियों और अलगाववादियों में बौखलाहट है। जम्मू-कश्मीर से सेबों की पेटियां जो देश के अलग अलग हिस्सों में भेजी जा रही हैं उनपर देशविरोधी नारा लिखा हुआ है। कुछ ऐसे व्यापारियों ने शिकायत की है कि उन्हें सेब की जो पेटियां मिलीं उन पर ऊर्दू और अंग्रेजी में हमें चाहिए आजादी, बुरहान वानी और जाकिर मूसा का नाम लिखा है। इस संबंध में जम्मू के व्यापारियों ने शिकायत भी की है। व्यापारियों का कहना है कि अगर यह सिलसिला यूं ही जारी रहा तो वो लोग घाटी से सेब मंगाना ही बंद कर देंगे। 

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद घाटी और दूसरे इलाकों में हिंसा की छिटपुट खबरें आईं है। ये बात अलग है कि पिछले दो महीनों में आतंकियों की तरफ से जितने भी कायराना हमले हुए उसमें गैर कश्मीरी लोगों को निशाना बनाया गया है। हाल ही में राजस्थान के एक ट्रक ड्राइवर की हत्या आतंकियों ने कर दी थी। जानकारों का कहना है कि गैर कश्मीरी लोगों की हत्या के पीछे आतंकियों और अलगाववादियों की सोच है कि किसी तरह भारत विरोधी भावना को जिंदा रखा जा सके। जिस तरह से सुरक्षाबल और प्रशासन जमीन पर काम कर रहा है उससे आतंकियों में हताशा है कि अगर मुख्य धारा में लोग जुड़ने लगे तो एक समय के बाद उनका प्रभाव समाप्त हो जाएगा। 

अगली खबर
हताश आतंकियों ने अपनाया नया हथकंडा, एप्पल कॉन्सपिरेसी के जरिए व्यापारियों और किसानों को बना रहे हैं निशाना Description: jammu kashmir after abrogation of article 370: घाटी में आतंकियों की बौखलाहट को इस बात से समझी जा सकती है कि अब वो सेब के व्यापारियों और किसानों को निशाना बना रहे हैं।
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...