1984 Sikh Riot Case: सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी रिपोर्ट को माना, दो हफ्ते बाद होगी सुनवाई

देश
Updated Nov 29, 2019 | 12:01 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

1984 सिख विरोधी हिंसा मामले में सीबीआई ने 198 केस को बंद करने का फैसला किया था। इस फैसले के खिलाफ याचिकाकर्ताओं ने एसआईटी गठित करने की मांग की थी।

1984 Sikh Riot Case: सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी रिपोर्ट को स्वीकारा, दो हफ्ते बाद होगी सुनवाई
1984 सिख विरोधी दंगा मामले में गठित की गई थी एसआईटी 

मुख्य बातें

  • 1984 सिख विरोधी हिंसा मामले में एसआईटी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में दाखिल
  • जस्टिस एस एन ढींगरा की अगुवाई में कमेटी हुई थी गठित
  • सीबीआई ने 198 मामलों को बंद करने का किया था फैसला

नई दिल्ली। 1994 सिख विरोधी हिंसा मामले में एसआईटी की कवरबंद रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया है। इस कमेटी का गठन अवकाशप्राप्त जज शिव नारायण ढींगरा की अगुवाई में किया गया था। दरअसल सीबीआई ने 198 केसों को बंद करने का फैसला किया था जिसके खिलाफ पीड़ितों ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाई थी।

सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि ढींगरा कमीशन के परीक्षण के बाद यह फैसला किया जाएगा कि क्या इसे याचिकाकर्ताओं के साथ साझा किया जाए या उसे सीलबंद लिफाफा में ही रखा जाए। इस संबंध में अगली सुनवाई दो हफ्ते बाद होगी। 


दरअसल इस संबंध में याचिकाकर्ताओं ने कहा था कि सीबीआई की लापरवाही की वजह से ऐसे मामलों को बंद करने का फैसला किया जिसमें मेरिट थी। इसके लिए कांग्रेस की सरकार को भी दोषी ठहराते हुए कहा कि ज्यादातर मामलों में कांग्रेस के नेता ही फंसे हुए थे लिहाजा सरकारी तंत्र उदासीन रहा और इसका असर ये हुआ की पीड़ितों के जख्म वैसे ही हरे हैं। इस संबंध में याचिकाक्रताओं ने सुप्रीम कोर्ट की तरफ रुख किया और एसआईटी गठित की गई। 

 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर