Sanjay Raut की जब राज्यसभा में बदली सीट तो बिफर पड़े, बोले- फैसले पर हो रही है हैरानी

देश
Updated Nov 20, 2019 | 15:26 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

sanjay raut on seating plan in rajya sabha: शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत का कहना है कि उन्हें हैरानी हो रही है कि राज्यसभा में उन्हें अब तीसरी पंक्ति की जगह पांचवीं पक्ति में जगह दी गई है।

shivsena leader sanjay raut says fail to understand why he is allotted fifth row in rajya sabha
राज्यसभा में शिवसेना सांसदों की सीट बदली 

मुख्य बातें

  • राज्यसभा में सीट परिवर्तन पर भड़के संजय राउत-बोले किसी के दबाव में हुआ है फैसला
  • शिवसेना के सांसदों को अब राज्यसभा में पांचवी पंक्ति मिली
  • संजय राउत बोले- ये तो सदन का अपमान है

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद के बीच शिवसेना ने साफ कर दिया कि वो मोदी सरकार का हिस्सा नहीं होगी। मोदी मंत्रिमंडल में शिवसेना के एकमात्र मंत्री अरविंद सावंत ने इस्तीफा भी दे दिया था। संसद के शीतकालीन सत्र से पहले जब एनडीए की बैठक हुई तो शिवसेना नदारद रही, एक तरह से उन्होंने एनडीए छोड़ने का ऐलान भी किया( हालांकि शिवसेना का कहना है कि उसे अनौपचारिक तौर पर बाहर कर दिया गया)। लेकिन अब शिवसेना के नेताओं को आपत्ति जताते हैं कि उन्हें कैसे निकाल दिया गया।

लोकसभा में सत्ता पक्ष की बेंच पर नजर आने वाली शिवसेना को विपक्षी खेमें में सीट आवंटित की गई। कुछ उसी तरह से राज्यसभा में भी शिवसेना के लिए विपक्षी खेमें में सीट आवंटित की गई है। लेकिन राज्यसभा सभापति वेंकैया नायडू से संजय राउत ने ऐतराज जताया है।संजय राउत ने सभापति वेंकैया नायडू को खत लिखकर आश्चर्य और नाराजगी जाहिर की है। उनका कहना है कि यह जानकर हैरानी हो रही है कि उन्हें तीसरी पंक्ति से हटाकर पांचवी पंक्ति में जगह दी गई है। यह फैसला जानबुझ कर किसी के दबाव में लिया गया है और शिवसेना पर आघात करने के साथ आवाज दबाने की कोशिश है। 

संजय राउत का कहना है कि  कहा कि वो यह समझ पाने में नाकाम हो रहे हैं कि जब औपचारिक तौर पर शिवसेना को एनडीए से अलग नहीं किया गया है तो इस तरह का फैसला क्यों लिया गया है। इसकी वजह से सदन की गरिमा को ठेंस पहुंचा है। वो चाहते हैं कि शिवसेना को पहली, दूसरी या तीसरी पंक्ति में जगह दी जाए। बता दें कि सामना के संपादकीय में शिवसेना ने कहा था कि जब बीजेपी के बगल में लोग खड़ा नहीं होना चाहते थे तो शिवसेना मजबूती के साथ खड़ी रही। यही नहीं एनडीए के प्रसव पीड़ा और जन्म की साक्षी शिवसेना रही है। 

 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर