Ramlalla Virajman: अस्थाई मंदिर में रामलला विराजे, सीएम योगी आदित्यनाथ ने 11 लाख रुपए का किया योगदान

देश
Updated Mar 25, 2020 | 13:04 IST

रामलला को अस्थाई मंदिर में आज शिफ्ट कर दिया गया। सीएम योगी आदित्यनाथ खुद रामलला की प्रतिमा को अपनी गोद में लेकर अस्थाई मंदिर के चांदी के बने सिंहासन पर विराजमान कराया।

Ramlalla Virajman: अस्थाई मंदिर में रामलला विराजे, सीएम योगी आदित्यनाथ ने 11 लाख रुपए का किया योगदान
अस्थाई मंदिर में विराजे रामलला 

मुख्य बातें

  • अयोध्या स्थित मानस भवन में शिफ्ट हुए रामलला विराजमान, वैदिक मंत्रोच्चार के बीच प्राण प्रतिष्ठा
  • रामलला की प्रतिमा को गोद में लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने रजत सिंहासन पर विराजमान कराया
  • सीएम ने 11 लाख का योगदान किया, बोले - इस तरह से मंदिर निर्माण का पहला चरण संपन्न

लखनऊ: राम मंदिर के निर्माण होने तक रामलला विराजमान को मानस भवन में वैदिक विधि विधान से शिफ्ट किया। सीएम योगी खुद रामलला की प्रतिमा को गोद में लेकर मानस भवन पहुंचे और वैदिक मंत्रोच्चार के बीच रजत सिंहासन पर रामलाल की प्रतिमा को स्थापति किया गया। प्रतिमा में प्राण प्रतिष्ठा के बाद रामलला की आरती उतारी गई। 

रामलला विराजमान शिफ्टिंग के दौरान गणमान्य लोग रहे मौजूद
प्रतिमा की शिफ्टिंग के दौरान कई गणमान्य लोग मौजूद रहे। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास, महामंत्री चम्पत राय, ट्रस्ट के सदस्यगण निर्मोही अखाड़ा के महंत दिनेन्द्र दास, अयोध्या राज परिवार के मुखिया विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत कार्यवाह डॉ. अनिल मिश्र समेत कई संत व महंत मौजूद रहे। 

रामलला को सीएम ने सौंपा 11 लाख रुपए का चेक
सीएम योगी आदित्यनाथ ने राम जन्मभूमि में विराजमान रामलला को 11 लाख रुपए  का चेक सौंपा। यह चेक उन्होंने रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय को दिया।सीएम की तरफ से दान दी गई इस रकम को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते में जमा कराया जाएगा।


राम मंदिर निर्माण का पहला चरण संपन्न

रामलला की प्रतिमा की शिफ्टिंग के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रभु श्री राम की नगरी अयोध्या मंदिर निर्माण के लिए हर किसी कतो बुला रही है। उन्होंने कहा कि पहला चरण संपन्न हो गया है। मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्रीराम त्रिपाल से नए आसन पर विराजमान हो गए हैं। अब इसके बाद मंदिर निर्माण की दिशा में आगे की प्रक्रिया का श्रीगणेश होगा।

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...