अनुच्छेद 370 पर राजनाथ सिंह ने कहा- चुनाव हारना पसंद करेंगे लेकिन जनता को धोखा नहीं देंगे

देश
Updated Sep 25, 2019 | 19:57 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

मोदी सरकार के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर कहा कि हमने चुनाव में जनता से जो वादा किया था उसे पूरा किया।

Rajnath Singh
Rajnath Singh 

मुख्य बातें

  • अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर राजनाथ सिंह ने कहा कि जो हम कहते हैं, वह करते हैं
  • उन्होंने कहा कि हम जाति, पंथ और मजहब के आधार पर राजनीति नहीं करते, हम राजनीति करते है तो इंसाफ, इंसानियत और मानवता के आधार पर
  • उन्होंने कहा कि पाकिस्तान से कह दिया है 1971 की गलती मत दोहराना वरना पीओके का क्या होगा, समझ लेना

नई दिल्ली : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को अनुच्छेद 370 हटाए जाने को लेकर कहा कि हम चुनाव हारना पसंद करेंगे लेकिन हम जनता को धोखा नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि हम हर चुनावी घोषणापत्र में 370 और 35A को निरस्त करने के बारे में लिखते रहे हैं। निरस्तीकरण ने साबित कर दिया कि जो हम कहते हैं, वह करते हैं। उन्होंने कहा कि हम जाति पंथ और मजहब के आधार पर राजनीति नहीं करते। हम राजनीति करते है तो इंसाफ, इंसानियत और मानवता के आधार पर। उन्होंने कहा कि मुस्लिम बहुसंख्यक देश का विभाजन नहीं चाहते थे। मुस्लिम संगठनों ने 370 फैसले का स्वागत किया है। साथ ही उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को इसे स्वीकार करना होगा। मैंने पाकिस्तान को पहले ही सुझाव दे दिया है कि अगर 1971 की गलतियों को दोहराते हैं तो अच्छा होगा आप पीओके को लेकर चिंता करें।

राजनाथ सिंह ने जयपुर के पास धानक्या में पंडित दीनदयाल उपाध्याय जयंती पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि यदि पाकिस्तान के वजूद को हम स्वीकार करते हैं तो यह नहीं मान लिया चाहिए कि पीओके के वजूद को भी हम स्वीकार करते है। हम उसके वजूद को स्वीकार नहीं करते क्योंकि पाकिस्तान ने उस पर जबरन कब्जा कर रखा है। उन्होंने कहा, हम उसके वजूद को स्वीकार नहीं करते और इसीलिए जम्मू कश्मीर विधानसभा में आज भी पीओके के लिए 24 सीटें खाली रखी गई हैं।

उन्होंने कहा कि हमने पाकिस्तान पर हमला नहीं किया लेकिन आतंकी कैंप पर हमला किया। हमने पाकिस्तान की संप्रभुता को चुनौती नहीं दिया है लेकिन हम उन्हें भविष्य के बारे में सुनिश्चित नहीं कर सकते। राजनाथ ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा कि वह 1971 की गलती को नहीं दोहराए। उस युद्ध में पाकिस्तान के दो टुकड़े हो गए और बांग्लादेश के रूप में नया देश सामने आया। उन्होंने कहा, मैंने कहा कि 71 की गलती मत दोहराना वरना पीओके का क्या होगा, अच्छी तरह समझ लेना। उन्होंने ने पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए कहा, बराबर आतंकवादियों के जरिए से भारत को अस्थिर करने की, तोड़ने की यह कोशिश करता है। क्यों करता है?

उन्होंने कहा कि हम लोगों ने पाकिस्तान की संप्रभुता को कोई चुनौती नहीं दी। इस हद तक हम लोगों ने सावधानी बरती है लेकिन आगे भी इसी तरह चलता रहा तो कुछ कहा नहीं जा सकता है। बालाकोट हवाई हमले का जिक्र करते हुए सिंह ने कहा कि भारत ने कभी पाकिस्तान की संप्रभुता को चुनौती नहीं दी। सीआरपीएफ जवानों पर हमले का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के आतंकवादियों ने आकर हमारे सीआरपीएफ के जवानों की हत्या की थी तो आतंकवादियों के ठिकाने पर हमला करना था।

हमने पाकिस्तान पर हमला नहीं किया, बालाकोट में केवल वहीं हमला किया जहां पाकिस्तानियों को ट्रेनिंग दिया जाता था। हमने पाकिस्तान की सेना पर हमला नहीं किया।

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर