Ram Janmbhoomi Review Petition: वकील राजीव धवन को जमीयत उलेमा हिंद ने केस से हटाया, छलका दर्द

देश
Updated Dec 03, 2019 | 09:31 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन का कहना है कि उन्हें जमीयत के वकील की तरफ से इस केस से हटा दिया गया है।

Breaking News
सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील हैं राजीव धवन 

मुख्य बातें

  • सुन्नी वक्फ बोर्ड की पैरोकारी कर चुके हैं राजीव धवन
  • अयोध्या टाइटल सूट केस में सु्प्रीम कोर्ट के फैसले पर जता चुके हैं ऐतराज
  • '9 नवंबर के फैसले से मुस्लिम समाज को निराशा हुई'

नई दिल्ली। मशहूर वकील राजीव धवन किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। अयोध्या टाइटल सूट केस में वो सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील थे, अदालत में मजबूती से पक्ष रखा हालांकि फैसला सु्न्नी वक्फ बोर्ड के पक्ष में नहीं था। सु्न्नी वक्फ बोर्ड ने फैसले वाले दिन ही साफ कर दिया कि वो रिव्यू पेटीशन नहीं दायर करेंगे। ये बात अलग है कि राजीव धवन का मानना था कि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से मुस्लिम समाज को न्याय नहीं मिला है। इस सिलसिले में जमीयत उलेमा हिंद की तरफ से सोमवार को पुनर्विचार याचिका दायर की गई। इस संबंध में आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का कहना है कि 9 दिसंबर से पहले वो अर्जी दाखिल करेंगे। लेकिन इन सबके बीच राजीव धवन का कहना है कि उन्हें जमीयत के वकील की तरफ से इस केस से हटा दिया गया है।

अपनी बर्खास्तगी पर राजीव धवन ने कहा कि वो इस संबंध में अपनी तरफ से खत भेज चुके हैं। धवन ने कहा कि अब उनका इस केस से किसी तरह का लेना देना नहीं है। उन्हें इस संबंध में मिस्टर मदनी की तरफ से इस तरह के संकेत मिले कि बीमारी की वजह से केस से अलग किया जा सकता है। लेकिन ये सब बकवास बात है।


राजीव धवन ने कुछ दिनों पहले कहा था कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से मुस्लिम समाज को न्याय नहीं मिला है। अगर वास्तव में मुस्लिम पक्ष को न्याय देने की बात है तो अदालत को अपने फैसले को पलट देना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि अगर देखा जाए तो शांति भंग करने के लिए हिंदू समाज ज्यादा जिम्मेदार है। मुस्लिम समाज ने कभी भी शांति को भंग करने की कोशिश नहीं की। 

 

अगली खबर
Ram Janmbhoomi Review Petition: वकील राजीव धवन को जमीयत उलेमा हिंद ने केस से हटाया, छलका दर्द Description: सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन का कहना है कि उन्हें जमीयत के वकील की तरफ से इस केस से हटा दिया गया है।
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...