UP सरकार के कार्यक्रम में बीच में रुकवाया कव्वाली डांसर का परफॉरमेंस? मंजरी चतुर्वेदी ने लगाए ये आरोप

Qawwali dancer Manjari Chaturvedi: लखनऊ की मशहूर सूफी कथक डांसर यूपी सरकार के एक कार्यक्रम में प्रदर्शन करने पहुंची थीं और उनके प्रदर्शन के बीच में ही संगीत को बंद कर दिया।

Qawwali dancer Manjari Chaturvedi
मंजरी चतुर्वेदी (Photo- Manjari Chaturvedi Facebook)  |  तस्वीर साभार: Facebook

लखनऊ: जानी मानी कथक डांसर मंजरी चतुर्वेदी को गुरुवार शाम उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम में कथित रूप से अपना प्रदर्शन बीच में रोकने के लिए मजबूर होना पड़ा, उनका कहना है कि वह कव्वाली - सूफी भक्ति संगीत का एक रूप प्रदर्शित कर रही थीं और उनका प्रदर्शन शुरु होने के कुछ देर बाद रोक दिया गया।

मंजरी चतुर्वेदी ने आरोप लगाया कि जब वह कव्वाली पर प्रस्तुति दे रही थीं, इस दौरान संगीत रोक दिया गया और अगली प्रस्तुति के लिए एक घोषणा की गई। एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक इस बारे में उन्होंने बताया, 'मुझे लगा कि यह कोई तकनीकी गड़बड़ है, लेकिन फिर अगले कार्यक्रम की घोषणा की गई, जाहिर तौर पर यह कोई गलती नहीं थी।' जब मैंने संबंधित अधिकारियों से पूछा, तो मुझे कहा कि 'यहां कव्वाली नहीं चलेगी।'

यह घटना यूपी विधानसभा अध्यक्ष की ओर से राष्ट्रमंडल संसदीय संघ के सम्मेलन के लिए आयोजित रात्रिभोज में हुई थी। इस कथित घटना के कुछ घंटों बाद एक फेसबुक पोस्ट में, मशहूर नर्तक ने कहा 'यह ऐसा शो है जो मुझे हमेशा याद रहेगा।'

नृत्यांगना चतुर्वेदी ने मीडिया को बताया कि उन्हें उनके नृत्य प्रदर्शन के लिए 45 मिनट आवंटित किए गए थे और यह पूर्व नियोजित था, फिर भी उनके प्रदर्शन को बीच में ही रोक दिया गया और कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया गया। उन्होंने कहा, 'मैंने अपने दो दशक के करियर में पहले कभी इस तरह की स्थिति का सामना नहीं किया।'

हालांकि अधिकारियों और सरकारी प्रवक्ता ने इन आरोपों को खारिज किया है। उनका कहना है सबको पता था कि वह रंग-ए-इश्क नाम से कव्वाली का प्रदर्शन करने वाली हैं और इसे उत्तर प्रदेश सरकार से मंजूरी भी दी गई थी। उन्होंने कहा कि बारिश की वजह से कार्यक्रम करीब एक घंटे की देरी से शुरु हुआ और समय की कमी के चलते हर प्रस्तुति को 15 मिनट का समय दिया गया। नृत्यांगना का ने भी इसी निर्धारित समय तक प्रदर्शन किया और 15 मिनट के बाद म्यूजिक बंद कर दिया गया।

मंजरी चतुर्वेदी पर्यावरण विज्ञान में ग्रेजुएट हैं। उन्हें सूफी कथक नामक एक कला को बनाने और प्रदर्शन के लिए भी श्रेय दिया जाता है। उन्होंने लखनऊ में प्रशिक्षण लिया और पिछले एक दशक में पूरी दुनिया में 200 से ज्यादा संगीत कार्यक्रमों में प्रस्तुति दी है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर