Ram Mandir Bhoomi Pujan: रावण मंदिर के पुजारी को भी पांच अगस्त का इंतजार, रस्म पूरी होने के बाद बाटूंगा मिठाई

देश
भाषा
Updated Aug 04, 2020 | 17:02 IST

Ayodhya ready for Bhoomi Pujan: पांच अगस्त को अयोध्या राम मंदिर भूमि पूजन के लिए तैयार हो चुकी है। लेकिन 650 किमी दूर नोएडा के बिसरख स्थित रावण मंदिर के पुजारी को भी उस दिन का इंतजार है।

Ram Mandir Bhoomi Pujan: रावण मंदिर के पुजारी को भी पांच अगस्त का इंतजार, रस्म पूरी होने के बाद बाटूंगा मिठाई
पांच अगस्त 2020 को राम मंदिर की रखी जाएगी आधारशिला 

मुख्य बातें

  • पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम
  • अभिजित मुहूर्त में पीएम नरेंद्र मोदी रखेंगे नींव में चांदी की ईंट
  • भूमि पूजन से पहले ही राममय हुई रामनगरी अयोध्या

अयोध्या। अयोध्या से 650 किलोमीटर दूर नोएडा में रावण के मंदिर के पुजारी को भी राम नगरी में भव्य मंदिर के शिलान्यास की घड़ी का बेसब्री से इंतजार है। गौतम बुद्ध नगर के बिसरख इलाके में रावण का मंदिर स्थित है। उसके पुजारी महंत रामदास का कहना है कि पांच अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन का उन्हें बेसब्री से इंतजार है और यह रस्म संपन्न होने के बाद वह लोगों में मिठाई बाटेंगे।

रावण मंदिर का पुजारी भी प्रसन्न
महंत रामदास ने  बातचीत में कहा "अगर रावण ना होता, तो कोई भी श्री राम को नहीं जानता और अगर राम नहीं होते तो दुनिया को रावण के बारे में नहीं पता चलता। उन्होंने कहा कि वह अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यास को लेकर बेहद प्रसन्न हैं। शिलान्यास के बाद वह लोगों में लड्डू बांट कर खुशी मनाएंगे। मंदिर का शिलान्यास एक बहुत शुभ घटनाक्रम है। वहां भव्य राम मंदिर का निर्माण होने पर उन्हें बहुत खुशी होगी।महंत ने बताया कि लोकोक्तियों के मुताबिक बिसरख रावण का जन्म स्थान है, लिहाजा हम इसे रावण जन्म भूमि भी कहते हैं।

परम ज्ञानी था रावण, पुजारी ने दिये तर्क
उन्होंने रावण को परम ज्ञानी व्यक्ति बताते हुए कहा कि सीता का हरण करने के बाद रावण ने उन्हें अपने महल में ले जाने के बजाय अशोक वाटिका में रखा। इसके अलावा माता सीता की सुरक्षा के लिए महिलाओं को तैनात किया। अगर भगवान राम को मर्यादा पुरुषोत्तम कहा जाता है तो मेरा मानना है कि रावण भी लोगों की मर्यादा का ख्याल रखता था।महंत रामदास ने बताया कि मंदिर में रावण के साथ साथ भगवान शिव, पार्वती और कुबेर की मूर्तियां भी रखी हुई है। मंदिर में आने वाले करीब 20% श्रद्धालु रावण की पूजा करते हैं।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर