कारगिल के शहीदों को याद करते हुए नम हुईं प्रधानमंत्री मोदी की आंखें, भाषण में कहीं ये बातें

देश
Updated Jul 27, 2019 | 23:24 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में आयोजित विजय दिवस कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम के दौरान एक पल ऐसा भी आया जब पीएम मोदी भावुक हो गए।

PM Narendra Modi
शहीदों को याद करते हुए भावुक हुए मोदी  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • कारगिल विजय दिवस की 20वीं वर्षगांठ पर आयोजित किया गया कार्यक्रम
  • पाकिस्तान को कश्मीर पर दिखाया आईना
  • सैनिकों के लिए आधुनिकीकरण की योजनाओं पर दिया जोर

नई दिल्ली: कारगिल की जंग को 20 साल हो चुके हैं और इस मौके पर देश वीर सपूतों के बलिदान को याद कर रहा है। शनिवार को विजय दिवस की 20वीं वर्षगांठ के मौके पर इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें तीनों सेनाओं के प्रमुख के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शिरकत की। पीएम मोदी ने यहां लोगों को संबोधित भी किया।

वीर सपूतों के सम्मान में आयोजित कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी उस समय भावुक हो गए जब कार्यक्रम में लेफ्टिनेंट हितेश अपनी मां कामेश बाला के साथ नजर आए। हितेश लांस नायक बचन सिंह के बेटे हैं जिन्होंने कारगिल जंग के दौरान अपनी जान गंवा दी थी। लेफ्टिनेंट हितेश भी उसी बटालियन का हिस्सा बने हैं जिसमें उनके पिता ने देश को सेवा दी थी। इस मौके पर शहीद बचन सिंह की पत्नी कामेश बाला भावुक नजर आईं और इस पल को देखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी भी अपने आंसू नहीं रोक पाए। थल सेना प्रमुख विपिन रावत भी भावुक नजर आए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में देश के वीर सपूतों को नमन किया। उन्होंने शहीदों के महत्व का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी सरकार सैनिकों और उनके परिवार के हित में काम कर रही है। यहां पढ़ें भाषण में क्या बोले पीएम नरेंद्र मोदी-

  1. पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि कारगिल विजय दिवस के अवसर पर आज हर देशवासी शौर्य और राष्ट्र के समर्पित एक प्रेरणादायक गाथा को स्मरण कर रहा है। आज के अवसर पर मैं उन सभी शूरवीरों को नमन करता हूं, जिन्होंने कारगिल की चोटियों से तिरंगे को उतारने के षड़यंत्र को असफल किया
  2. अपना रक्त बहाकर जिन्होंने सर्वस्व न्यौछावर किया उन शहीदों को, उनको जन्म देने वाली वीर माताओं को भी मैं नमन करता हूं। करगिल सहित जम्मू-कश्मीर के सभी नागरिकों का अभिनंदन, जिन्होंने राष्ट्र के प्रति अपने दायित्वों को निभाया।
  3. प्रधानमंत्री मोदी ने कारगिल जंग के समय का जिक्र करते हुए कहा कि मैं 20 साल पहले करगिल तब भी गया था जब युद्ध अपने चरम पर था। दुश्मन ऊंची चोटियों पर बैठकर अपने खेल, खेल रहा था। एक साधारण नागरिक के नाते मैंने मोर्चे पर जुटे अपने सैनिकों के शौर्य को उस मिट्टी पर जाकर नमन किया था।
  4. सैनिकों को सशक्त करने प्रयासों का जिक्र करते हुए पीएम बोले- बीते पांच वर्षों में सैनिकों और सैनिकों के परिवारों के कल्याण से जुड़े अनेक महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं। आजादी के बाद दशकों से जिसका इंतजार था उस 'वन रैंक वन पेंशन' लागू करने का काम हमारी ही सरकार ने पूर्ण किया।
    इस बार सरकार बनते ही पहला फैसला शहीदों के बच्चों की स्कॉलरशिप बढ़ाने का किया गया। इसके अलावा 'नेशनल वॉर मेमोरियल' भी आज हमारे वीरों की गाथाओं से देश को प्रेरित कर रहा है
  5. भारत के शांतिप्रिय देश होने की बात करते हुए मोदी ने कहा कि भारत का इतिहास गवाह है कि भारत कभी आंक्राता नहीं रहा है। मानवता के हित में शांतिपूर्ण आचरण हमारे संस्कारों में है। हमारा देश इसी नीति पर चला है। भारत में हमारी सेना की छवि देश की रक्षा की है। तो विश्व में हम मानवता और शांति के रक्षक भी हैं।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर