PM Modi @ UNGA: PM मोदी ने अपने भाषण में 3000 साल पुरानी तमिल कविता की लाइनें पढ़ी, जानें क्या है इसका मतलब

देश
Updated Sep 27, 2019 | 23:28 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

PM Modi Speech at UNGA: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूएनजीए में दिए अपने भाषण में 3000 साल पुरानी तमिल भाषा की कविता की कुछ पंक्तियां पढ़ी। जानें क्या है इस कविता की मतलब-

PM Modi at UNGA
यूएनजीए में पीएम मोदी  |  तस्वीर साभार: ANI

न्यूयॉर्क : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र की महासभा (यूएनजीए) में अपना भाषण दिया। इस दौरान उन्होंने तमिल की 3000 साल पुरानी कविता की पंक्तियां दोहराई। तीन हजार साल पुराने तमिल कवि और दार्शनिक कनियन पुंगुनद्रनार की की कविता की लाइनें सुनाई। इस कविता की पंक्तियों में भारतीय एकता और विविधता की झलक दिखाई गई है।

इसमें बताया गया है कि पूरी दुनिया आपस में एक दूसरे से जुड़ी है और उनमें वसुधैव कुटुम्बकम का भाव है। 74वें यूएनजीए में तमिल को दुनिया की सबसे पुरानी भाषा बताते हुए उन्होंने ये लाइनें कही। कविता की ये पंक्तियां थी- 'याधुम ओरे यावारुम केलिर..'। तमिल की इस लाइन का मतलब है पूरी दुनिया एक है और हम पूरी दुनिया के लोगों को अपना कुटुम्ब मानते हैं। 

भारत की समृद्ध संस्कृति और विरासत का हवाला देते हुए पीएम मोदी ने बताया कि भारत ने दुनिया को युद्ध नहीं बुद्ध (शांति) दिए हैं। हम उस देश के वासी हैं जिसने दुनिया को युद्ध नहीं बुद्ध दिए हैं, शांति का संदेश दिया है। यही कारण है कि आतंक के खिलाफ भारत दुनिया को लगातार अपनी गंभीरता का परिचय दे रहा है। 

स्वामी विवेकानंद की स्पीच का हवाला देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 125 साल पहले आध्यात्म गुरु स्वामी विवेकानंद ने दुनिया को एक संदेश दिया था। प्रेम सौहार्द और शांति, युद्ध नहीं। और आज भी भारत इसी विचारधारा पर चल रहा है। 

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यूएनजीए में ये दूसरा संबोधन है इसके पहले चार साल पहले उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में अपना संबोधन दिया था।

गौरतलब है कि पीएम मोदी एक सप्ताह के अमेरिकी दौरे पर हैं। इस दौरान उन्होंने 22 सितंबर को हाउडी मोदी कार्यक्रम में हिस्सा लिया। हाउडी मोदी के इस कार्यक्रम में करीब 50,000 भारतीय-अमेरिकी नागरिकों को उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ मिलकर मंच से संबोधित किया। इसके अलावा पीएम मोदी ने कई देशों के नेताओं के साथ द्विपक्षीय वार्ता में भी शामिल हुए।   

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर