बीजेपी NRC को राजनीतिक हथियार के रूप में प्रयोग कर रही हैं: ममता बनर्जी

देश
Updated Sep 20, 2019 | 22:42 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

ममता बनर्जी अभी हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। शाह से मुलाकात के दौरान ममता ने कहा था कि असम में लागू एनआरसी में कई भारतीयों का नाम शामिल नहीं किया गया है।

Mamata Banerjee
ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री हैं  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • ममता बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में एनआरसी लागू नहीं किया जाएगा
  • सीएम ने बीजेपी पर एनआरसी का इस्तेमाल राजनीतिक हथियार के रूप में करने का आरोप लगाया है
  • असम में लागू किया गया है नागरिकों का राष्ट्रीय रजिस्टर (NRC)

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस पार्टी (TMC) चीफ ममता बनर्जी ने एक बार फिर साफ कर दिया है कि राज्य में नागरिकों का राष्ट्रीय रजिस्टर (NRC)  लागू नहीं किया जाएगा। ममता बनर्जी ने इसके साथ ही भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी एनआरसी को एक राजनीतिक हथियार के रूप में इस्तेमाल कर रही है।

सीएम बनर्जी ने कहा, 'एनआरसी बंगाल नहीं आएगा। किसी को भी बंगाल से बाहर नहीं किया जाएगा। जो लोग बंगाल में इतने सालों से रह रहे हैं, वे यहां भी उसी तरह रहेंगे। भाजपा इसे एक राजनीतिक हथियार के तौर पर उपयोग कर रही है।'

तृणमूल कांग्रेस पार्टी  (TMC) प्रमुख ने कहा, 'मतदाता सूची का नवीनीकरण किया जा रहा है, इसलिए मैं आपसे अनुरोध करुंगी कि आप जांच लें कि आपका नाम मतदाता सूची में है या नहीं।'

बता दें कि ममता बनर्जी अमस में एनआरसी लागू होने के बाद ही साफ तौर पर कह दिया था कि पश्चिम बंगाल में नागरिकों का राष्ट्रीय रजिस्टर लागू नहीं किया जाएगा। इससे पहले गुरुवार को ममता बनर्जी ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात कर असम में लागू एनआरसी पर चर्चा करते हुए कहा था कि अंतिम सूची से बहुत से भारतीयों का नाम काट दिया गया। ममता ने कहा कि मैंने गृहमंत्री के समक्ष इस मुद्दे को उठाया था और उन्होंने कहा है कि वह विषय को देखेंगे। 

इससे पहले बुधवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी और प्रदेश के विभिन्न मसलों पर चर्चा की थी। बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी और ममता में आई कड़वाहट के बाद सीएम की पीएम और गृहमंत्री से मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहे हैं। जानकारों का कहना है कि शारदा चिटफंड में चल रही जांच का भी असर है कि सीएम ने बीजेपी के दोनों दिग्गज नेताओं से मुलाकात की है। 

गौरतलब है कि कई बीजेपी शासित राज्यों ने अपने यहां एनआरसी लागू करने की बात कही है। इसमें महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड, गुजरात और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री शामिल हैं। वहीं, असम में 31 अगस्त को प्रकाशित की गई अंतिम सूची में 3.11 करोड़ लोगों का नाम शामिल किया गया था जबकि 19 लाख लोगों को इससे बाहर कर दिया गया था। 
 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर