370 हटने के बाद नहीं चली एक भी गोली, कश्मीर में है शांति: अमित शाह

देश
Updated Sep 17, 2019 | 13:57 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सरकार ने कोई भी निर्णय यह सोचकर नहीं लिया कि क्या अच्छा लगेगा, बल्कि लोगों के लिए क्या अच्छा है ये निर्णय हमने लिए हैं। शाह ने कहा कि सरकार वोट बैंक की राजनीति नहीं करती है।

 Amit Shah
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह  |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • अमित शाह ने कहा कि घाटी में कायम है शांति का माहौल
  • गृहमंत्री ने कहा कि सर्जिकल- एयर स्ट्राइक के बाद दुनिया का हमारी तरफ देखने का तरीका बदल गया
  • लोगों के लिए क्या अच्छा है ये सोचकर हमने निर्णय लिए हैं: अमित शाह

नई दिल्ली: Amit Shah on Jammu Kashmir बीजेपी चीफ और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा है केंद्र की मौजूदा नरेंद्र मोदी सरकार कोई भी फैसला ये सोचकर नहीं लेती है क्या अच्छा लगेगा बल्कि ये सोचकर लेती है कि लोगों के लिए क्या अच्छा है। शाह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाने और विभाजित करने का फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश के बाकी हिस्सों की तरह कश्मीर को भी अधिक घनिष्ठता से जोड़ने और भारत को 'वन इंडिया' की दृष्टि की ओर ले जाने का एक प्रयास है।

अमित शाह ने कहा कि बड़े नीतिगत फैसलों में समस्याओं का सामना करना पड़ता है जिसको लोगों ने सहा भी, उसके बावजूद घाटी में शांति बनी है। उन्होंने कहा, '5 अगस्त 2019 से 17 सितंबर तक इस दौरान कश्मीर में एक भी गोली नहीं चलाई गई है। कोई जान नहीं गई। कश्मीर पूर्ण शांति के माहौल के साथ खुला है।'

 

 

गृहमंत्री ने कहा, 'हमने कभी भी निर्णय लोगों को क्या अच्छा लगेगा ये सोचकर नहीं लिया, बल्कि लोगों के लिए क्या अच्छा है ये सोचकर हमने निर्णय लिए हैं। यही देश के परिवर्तन का आधार है।'

 

 

उन्होंने कहा, '2013 का दृश्य मुझे याद है, भ्रष्टाचार चरम पर था, सीमाओं की सुरक्षा का कोई ठौर ठिकाना न था, आंतरिक सुरक्षा चरमाराई थी, महिलाओं की सुरक्षा ताक पर थी, प्रधानमंत्री को कोई प्रधानमंत्री मानता ही नहीं था, तब लोगों को लगता था कि देश किस दिशा में बढ़ रहा है।'

 

 

एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक पर अमित शाह ने कहा, 'जब हम एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक जैसे फैसले लेते हैं तब कई सारी चीजें सामने होती हैं कि युद्ध होगा तब क्या होगा, गड़बड़ हो जाएगा तो क्या होगा, तब उस समय भी दृढ़ता के साथ देश की सुरक्षा के साथ एक इंच भी समझौता हम नहीं करेंगे, ये दृढ़ निश्चय के साथ मोदी सरकार है।'

 

 

गृह मंत्री ने कहा, 'पहले दुनिया मानती थी कि देश की कोई रक्षा नीति नहीं है। जब सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) हुई तो दुनिया के लोगों ने कहा कि ये तो अचंभे में की गई कार्रवाई है, ये आपकी नीति नहीं है। जब एयर स्ट्राइक (Air Strike) हुई तो दुनिया के लोगों ने कहा कि ये भारत की नीति है।'

 

 

शाह ने कहा, 'इन हमलों ने दुनिया को हमारी ओर देखने के तरीके को बदल दिया। पहले उनको लगता था कि हमारी रक्षा और आंतरिक सुरक्षा योजनाएं मुश्किल से मौजूद हैं, लेकिन फिर वे हमारी नीति बनाने का एक अभिन्न अंग बन गए।'

बता दें कि गृहमंत्री अमित शाह अखिल भारतीय प्रबंधन संघ (AIMA) कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि पार्टी वोट बैंक की राजनीति करने के बजाए लोगों का विकास के लिए क्या उचित है वह फैसले लेती है। उन्होंने कहा कि कोई सरकार 30 साल चलती है तो पांच बड़े फैसले ले पाती है, लेकिन मोदी जी की जो सरकार पांच साल चली इसने 50 से ज्यादा बड़े फैसले लेकर देश को परिवर्तित करने का काम किया है। एक निर्णायक सरकार देने का काम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने किया है।

:

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर