Mukhtar Ansari: डॉन मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी लाने की तैयारी में योगी सरकार

देश
किशोर जोशी
Updated Sep 28, 2020 | 17:40 IST

बाहुबली डॉन मुख्तार अंसारी को यूपी पुलिस पंजाब से उत्तर प्रदेश लाने की तैयारी कर रही हैं। अंसारी को पूछताछ के लिए 21 अक्टूबर को पंजाब से लाया जाएगा।

Mukhtar Ansari to be brought from Punjab jail to UP
मुख्तार अंसारी को पंजाब से UP लाने की तैयारी में योगी सरकार 

मुख्य बातें

  • यूपी पुलिस जल्द ही पंजाब से एक मामले के सिलसिले में मुख्तार अंसारी को लाएगी यूपी
  • मुख्तार अंसारी इस समय पंजाब की एक जेल में है बंद
  • मुख्तार के अवैध सम्राज्य पर योगी सरकार लगातार कर रही है कार्रवाई

लखनऊ: जेल में बंद माफिया डॉन और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के विधायक मुख्तार अंसारी की मुश्किलें बढ़ती हुईं नजर आ रही है। धोखाधड़ी के एक मामले में पूछताछ के लिए 21 अक्टूबर को पंजाब के मोहाली जेल से मऊ लाया जाएगा। यह मामला उनके खिलाफ जनवरी में आर्म्स एक्ट के तहत दर्ज किया गया था। मऊ के पुलिस अधीक्षक (एसपी) घुले सुशील चंद्रभान ने कहा, 'वारंट बी  419 (धोखाधड़ी) 420 (धोखा और बेईमानी), 467, 468 (जालसाजी), 471 (वास्तविक जाली दस्तावेज के रूप में), आईपीसी की 120B (आपराधिक साजिश) और 30 आर्म्स एक्ट के तहत जारी किया गया है।

कोर्ट ने स्वीकार की याचिका

उन्होंने बताया कि सीजेएम कोर्ट ने 21 अक्टूबर को वारंट बी पर मोहाली जेल से मुख्तार अंसारी को यहां लाने की पुलिस की याचिका स्वीकार कर ली है। योगी सरकार लगातार जेल में बंद बाहुबलियों के अवैध आर्थिक साम्राज्य पर शिकंजा कस रही है। वाराणसी के एसपी सिटी विकास चंद्र त्रिपाठी ने कहा कि मुख्तार के करीबी गुर्गे मेराज अंसारी की संपत्ति को जब्त करने की प्रक्रिया शुक्रवार को अशोक विहार इलाके में उसके आवास के पास सार्वजनिक घोषणा करके शुरू की गई थी।

विभिन्न धाराओं के तहत गुर्गों के खिलाफ भी मामले दर्ज

 आर्म्स लाइसेंस हासिल करने के लिए धोखाधड़ी करने के आरोप में मेराज अंसारी के खिलाफ आईपीसी की धारा 419, 420, 467, 468 और 471 के तहत मामला दर्ज किया है और मामला दर्ज होने के बाद से वह फरार है। इस बीच, लखनऊ सहित राज्य के विभिन्न जिलों में मुख्तार के परिवार के सदस्यों और गुर्गेों के खिलाफ बड़े पैमाने पर कार्रवाई की जा रही है। डॉन द्वारा अवैध रूप से अर्जित संपत्ति को ध्वस्त कर दिया गया है और उसके लोगों द्वारा खरीदे गए शस्त्र लाइसेंस रद्द कर दिए गए हैं।

गुर्गों ने फर्जी पतों के आधार पर हासिल किए शस्त्र लाइसेंस

 मऊ पुलिस के रिकॉर्ड के अनुसार, 2001 में चार लोगों - इजरायल, अनवर, सलीम और मोहम्मद शाह आलम ने अपने आवेदन पत्रों पर फर्जी पतों का उल्लेख करके मुख्तार के सिफारिश पत्र के बल पर हथियार लाइसेंस प्राप्त करने में कामयाबी हासिल की थी। आलम को कुछ वर्षों के बाद गाजीपुर में पुलिस के साथ मुठभेड़ में मार गिराया था जबकि अन्य फरार हैं। उनके अलावा पूर्व थानाधिकारी दक्षिणालोला थाना जे.के. सिंह और एक राजस्व अधिकारी भी पुलिस द्वारा इस मामले में आरोपी बनाए गए थे।

ऐसे सामने आया मामला

 ये तथ्य अक्टूबर 2019 में घोसी विधानसभा उपचुनाव प्रक्रिया के दौरान सामने आए थे, जब मऊ जिले भर में शस्त्र लाइसेंस सत्यापन शुरू किया गया था। जांच के दौरान, यह पता चला कि इज़राइल, अनवर और सलीम के अलावा, मोहम्मद शाह आलम ने भी 2001 में शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन किया था। यह सुनिश्चित करने के लिए कि सभी को डबल बैरल गन के लिए लाइसेंस मिले, मुख्तार ने तत्कालीन जिलाधिकारी को अपने मऊ विधायक की क्षमता के आधार पर अपने लेटर पैड से पत्र लिखा था और उनके नाम पर शस्त्र लाइसेंस जारी करने का अनुरोध किया था। मुख्तार अंसारी को जनवरी 2019 में पंजाब की रोपड़ जेल और फिर मोहाली जेल में स्थानांतरित कर दिया गया था।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर