MeToo: एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप दुर्भावनापूर्ण नहीं था- प्रिया रमानी

देश
Updated Nov 21, 2019 | 21:36 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

MeToo: पूर्व केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर मीटू अभियान के दौरान पत्रकार प्रिया रमानी ने  यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे।

MeToo: एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप दुर्भावनापूर्ण नहीं था- प्रिया रमानी
MeToo: एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली प्रिया रमानी ने कोर्ट सफाई दी।  |  तस्वीर साभार: IANS

नई दिल्ली: पत्रकार प्रिया रमानी ने गुरुवार को दिल्ली की एक अदालत को बताया कि मीटू (MeToo) मूवमेंट के दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री एम. जे. अकबर के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप लगाने का मकसद दुर्भावनापूर्ण नहीं था। रमानी अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट विशाल पाहुजा के समक्ष पेश हुई और अकबर द्वारा दायर आपराधिक मानहानि की  शिकायत का जवाब दी। पिछले साल 17 अक्टूबर को केंद्रीय मंत्री पर इस्तीफा देने वाले अकबर ने रमानी के खिलाफ निजी आपराधिक मानहानि की शिकायत दर्ज कराई थी क्योंकि भारत में MeToo अभियान दौरान  उनका नाम सोशल मीडिया पर चर्चा में था।

रमानी ने कहा कि यह कहना गलत है कि मेरे द्वारा बताई गई कथित घटना के सभी डिटेल मेरी कल्पना की उपज है और कल्पना पर आधारित है। यह कहना गलत है कि मैंने शिकायतकर्ता के खिलाफ विवादास्पद उद्देश्य के लिए आरोप लगाए थे, ना कि महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए। यह कहना गलत है कि मैंने अकबर के खिलाफ आरोप गलत भावनाएं और दूसरे उद्देश्य के लिए लगाए हैं। उन्होंने कहा कि अकबर पर आरोप लगाने वाले उनके ट्वीट अपमानजनक और दुर्भावनापूर्ण नहीं थे। रमानी ने कहा कि यह कहना गलत है कि मैंने जो ट्वीट किए है वह गलत, मानहानिकारक और दुर्भावनापूर्ण थे। यह कहना गलत है कि मैंने शिकायतकर्ता की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने कहा कि मैंने कुछ भी गलत नहीं कहा।

कोर्ट ने रमानी की जिरह पूरी की और 10 दिसंबर को आगे की सुनवाई की जाएगी। अदालत ने रमानी के दोस्त निलोफर वेंकटरमण से भी जिरह पूरी कर ली है। जिन्होंने कहा कि अकबर द्वारा कथित यौन उत्पीड़न का डिटेल इतना बेहूदा और अनुचित था कि इसने स्थाई छवि बनाई। अकबर ने उसके आरोपों से इनकार किया।

इससे पहले अकबर ने कोर्ट को बताया था कि आर्टिकल के जरिए आरोप लगाए गए। उसके बाद के ट्वीट्स के जरिए आरोपों की वजह से मेरी बदनामी हुई। झूठे और काल्पनिक आरोपों से तत्काल क्षति हुई।

रमानी जनवरी से अक्टूबर 1994 में एशियन एज में काम करती थी। रमानी का आरोप है कि 20 साल पहले जब वह पत्रकार थी तब अकबर ने उसके साथ यौन उत्पीड़न किया था। हालांकि अकबर ने आरोपों से इनकार किया है।
 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर