50-50 पर फंसा है पेंच, देवेंद्र फडणवीस बोले- अभी इस विषय पर कोई बात नहीं

देश
Updated Oct 29, 2019 | 13:16 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Maharshtra government formation: नतीजों के आने के पांच दिन बीत चुके हैं। लेकिन यह स्पष्ट नहीं हो रहा है कि महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना किस फॉर्मूले के तहत सरकार बनाने जा रहे हैं।

devendra phadnavis
महाराष्ट्र के सीएम हैं देवेंद्र फडणवीस 

मुख्य बातें

  • दो निर्दलीय विधायकों ने बीजेपी को समर्थन देने का किया ऐलान
  • विधायक विनोद अग्रवाल और महेश बलादी सीएम देवेंद्र फडणवीस से मिले
  • शिवसेना 50-50 के फॉर्मूले पर अड़ी, बीजेपी को वादे की दिलाई याद

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को स्पष्ट बहुमत हासिल है। लेकिन सरकार बनाने के मुद्दे पर सहमति नहीं बन पा रही है। शिवसेना 50-50 फॉर्मूले की मांग कर रही है। इस विषय पर देवेंद्र फडणवीस ने पहली बार चुप्पी तोड़ते हुए कहा है कि अभी इस विषय पर कोई बात नहीं हुई है।इन सबके बीच सोमवार को कुछ नेताओं ने कहा था कि बीजेपी का ही सीएम अगले पांच वर्षों के लिए होगा। इन सबके बीच निर्दलीय विधायकों पर दोनों दलों की नजर टिकी है। 

दो निर्दलीय विधायकों विनोद अग्रवाल और महेश बलादी ने बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा की। विधायकों ने सीएम देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात की और कहा कि महाराष्ट्र के विकास के लिए उन्हें लगता है कि बीजेपी बेहतर कर सकती है। पिछले पांच वर्षों में बीजेपी ने जिन वादों को किया था उसे निभाने में वो कामयाब रही है। 

शिवसेना का कहना है कि बीजेपी से चुनाव पूर्व गठबंधन होने के बाद भी सरकार बनने में इतनी देरी क्यों हो रही है। उन्होंने कहा कि यहां पर कोई दुष्यंत नहीं है जिनके पिता जेल में हैं। महाराष्ट्र में सिर्फ शिवसेना ही है जो सच और धर्म की राजनीति करती है। शरद जी जिन्होंने बीजेपी और कांग्रेस के खिलाफ माहौल का निर्माण किया था वो बीजेपी के साथ कभी नहीं जाएंगे।

शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत का कहना है कि उद्धव ठाकरे जी कह चुके हैं कि सभी विकल्प खुले हुए हैं। लेकिन हम दूसरे विकल्पों को स्वीकार करके पाप अपने सिर पर नहीं लेना चाहते हैं। शिवसेना हमेशा सत्य की राजनीति में भरोसा करती रही है। हम सत्ता के भूखे नहीं हैं। 

बता दें कि बीजेपी और शिवसेना के नेताओं ने सोमवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से अलग अलग मुलाकात की थी। इस तरह की मुलाकात के बाद इस तरह की संभावना जताई जाने लगी कि दोनों दल अलग अलग रास्ते की तलाश में हैं। शिवसेना बार बार कह रही है कि देवेंद्र फडणवीस और बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने चुनाव से पहले जो वादे किए थे उसे अब निभाने का समय आ चुका है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर