लॉकडाउन का असर: यमुना नदी के पानी की क्वालिटी में हुआ सुधार [ VIDEO ]

देश
रामानुज सिंह
Updated Apr 05, 2020 | 14:39 IST

फैलते कोरोना वायरस को रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन किया गया है। इसका असर दिल्ली में यमुना नदी पर दिखने लगा है। 

Lockdown Impact: Yamuna river water quality improved
यमुना नदी के पानी की गुणवत्ता में सुधार  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • देशव्यापी लॉकडाउन का सकारात्मक असर दिखने लगा है
  • यमुना नदी के पानी की गुणवत्ता में काफी सुधार हुआ है
  • गंगा नदी के पानी की गुणवत्ता में भी 24 मार्च के बाद से 40 से 50 प्रतिशत का महत्वपूर्ण सुधार देखा गया है

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से निपटने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन का सकारात्मक असर दिखने लगा है। दिल्ली में यमुना नदी हमेशा काफी प्रदूषित नजर आती थी लेकिन लॉकडाउन के चलते दिल्ली-एनसीआर में औद्योगिक इकाइयों के बंद होने से यमुना नदी के पानी की गुणवत्ता में काफी सुधार हुआ है। दिल्ली जल बोर्ड  के वायस चेयरमैन राघव चड्ढा के मुताबिक जहरीले कचरे और अपशिष्ट का अधिक प्रवाह यमुना में नहीं हो रहा है। चड्ढा ने कहा कि इन दिनों लॉकडाउन के कारण कई उद्योग और कार्यालय बंद हैं और इसलिए यमुना इन दिनों साफ दिख रही है। औद्योगिक प्रदूषकों और औद्योगिक कचरे बंद होने से निश्चित रूप से पानी की गुणवत्ता पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। पानी की गुणवत्ता में सुधार का प्रतिशत कितना है हम यह पता लगाने के लिए पानी की जांच करेंगे। 

पानी की गुणवत्ता की होगी जांच
आप नेता ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान आए परिणामों ने उनकी पार्टी की उम्मीदों की पुष्टि की है कि यमुना नदी को साफ किया जा सकता है और जोड़ा गया है कि भविष्य में लोगों की भागीदारी से इसे साफ बनाए रखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि इस अवधि में सुधार का यह संकेत देता है कि पब्लिक और सरकार साथ आकर आसानी से यमुना की सफाई की जा सकती है। अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में, हमने यमुना को साफ करने का वादा किया था। लॉकडाउन से पता चला कि यह संभव है। हालांकि यह हमेशा के लिए नहीं रहेगा। दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष ने आगे कहा कि वह एक बार नदी के पानी की गुणवत्ता की जांच कराने के बाद इसके परिणाम के बारे में बताएंगे।

दिल्ली के निवासी ने भी माना- हुआ सुधार
दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष से इतर जो लोग वर्षों से यमुना नदी की स्थिति की निगरानी कर रहे हैं, उन्होंने यह भी दावा किया कि पानी की गुणवत्ता में निश्चितरूप से सुधार हुआ है। दिल्ली निवासी इमरान ने एएनआई से कहा कि मैं आमतौर पर नदी के किनारों पर जिमनास्टिक करने और दौड़ लगाने के लिए आता हूं और COVID-19 महामारी के बीच लॉकडाउन लागू होने के बाद से इसमें काफी सुधार देखा गया है। यमुना में पानी आजकल बहुत साफ दिखता है। 

गंगा नदी के पानी की गुणवत्ता में भी सुघार
हालांकि उद्योगों को बंद होने और ज्यादातर लोगों के घर के अंदर रहने से यमुना देश की एकमात्र नदी नहीं है, जिसका पानी की गुणवत्ता में सुधार देखा गया है।  पवित्र गंगा नदी में पानी की गुणवत्ता में भी 24 मार्च के बाद से '40 से 50 प्रतिशत 'का महत्वपूर्ण सुधार देखा गया है, जिस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनो वायरस महामारी के मद्देनजर 21 दिनों की लॉकडाउन की घोषणा की थी। डॉ. केमिकल इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, आईआईटी-बीएचयू के प्रोफेसर पीके मिश्रा ने एएनआई को बताया कि गंगा नदी में प्रदूषण का 10वां हिस्सा उद्योगों से आता है। लॉकडाउन के कारण उद्योग बंद हो गए हैं, स्थिति बेहतर हो गई है। हमने गंगा में 40-50 प्रतिशत सुधार देखा है। यह एक महत्वपूर्ण विकास है। उन्होंने साथ ही कहा कि 15-16 मार्च को बारिश के कारण जिन क्षेत्रों में गंगा बहती है, जल स्तर भी बढ़ गया है, जिसका अर्थ है कि इसकी सफाई भी बढ़ गई है। यदि हम पूर्व-लॉकडाउन अवधि और 24 मार्च के बाद देखें तो काफी सुधार हुआ है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर