पुलवामा में पीडीपी कार्यकर्ता को गोली मारी, महबूबा बोलीं- बंदूक उठाना समाधान नहीं

देश
Updated Jul 30, 2019 | 09:44 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

जम्‍मू एवं कश्‍मीर के पुलवामा जिले में पीडीपी कार्यकर्ता को आतंकियों ने गोली मार दी, जिसके बाद महबूबा मुफ्ती ने कहा कि बंदूक उठाना किसी समस्‍या का समाधान नहीं है।

Mehbooba Mufti
महबूबा मुफ्ती (फाइल फोटो)  |  तस्वीर साभार: PTI
मुख्य बातें
  • पीडीपी कार्यकर्ता को गोली मारने के पीछे संदिग्‍ध आतंकियों का हाथ बताया जा रहा है
  • महबूबा मुफ्ती ने हमले की निंदा की है और कहा कि बंदूक उठाना कोई समाधान नहीं है
  • यह पिछले दो माह में संदिग्‍ध आतंकियों द्वारा पीडीपी कार्यकर्ताओं पर दूसरा हमला है

पुलवामा : जम्‍मू एवं कश्‍मीर के पुलवामा जिले में पीपुल्‍स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के एक नेता को अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मार दी। घटना के बाद स्‍थानीय लोगों में खौफ का माहौल है। वहीं पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने हमले की निंदा करते हुए कहा है कि बंदूक उठाना कोई समस्‍या का समाधान नहीं है। उन्‍होंने पीडीपी कार्यकर्ता के परिजनों से मिलकर उन्‍हें ढाढस बंधाया। वह घायल पीडीपी कार्यकर्ता से मिलने अस्‍पताल पहुंचीं और साफ कहा कि कश्‍मीर मुद्दे का समाधान बंदूक से नहीं निकल सकता।

इस घटना के बाद महबूबा ने ट्वीट कर कहा, 'पीडीपी कार्यकर्ता लतीफ अहमद से मुलाकात की, जिन्‍हें अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मार दी। उनकी बेटी जिस तरह फूट-फूट कर रो रही थी, वह बहुत दुखद था। निर्दोष व मासूम लोगों पर हमले से आखिर कैसे उस समस्‍या के समाधान में मदद मिल सकती है, जो 1947 से ही चली आ रही है?' उन्‍होंने साफ कहा कि बंदूक उठाना किसी समस्‍या का समाधान नहीं है।

मह‍बूबा के साथ-साथ उनकी पार्टी पीडीपी ने भी इस हमले की कड़े शब्‍दों में निंदा की और कहा, 'राजनीतिक कार्यकर्ताओं पर किया जाने वाला हमला बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण है, जो अपना जीवन आम लोगों की सेवा के लिए समर्पित कर देते हैं। हम हमारी पार्टी के वरिष्‍ठ कार्यकर्ता लतीफ अहमद शाह पर हुए हमले की निंदा करते हैं। हम उनके जल्‍द ठीक होने की कामना करते हैं।' लतीफ अहमद पर हमले के पीछे संदिग्‍ध आतंकियों का हाथ बताया जा रहा है।

कश्‍मीर में करीब दो माह बाद पीडीपी कार्यकर्ता पर फिर से हमला हुआ है। इससे पहले मई की शरुआत में आतंकियों ने पीडीपी के दो कार्यकर्ताओं इरफान अहमद और मुजफ्फर अहमद बट को शोपियां जिले में एक दवा की दुकान से अगवा कर उन्‍हें गोली मार दी थी। उन्‍हें घायल अवस्‍था में अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, जहां बाद में इरफान ने दम तोड़ दिया। अब एक बार फिर पीडीपी कार्यकर्ता को निशाना बनाने के पीछे भी आतंकियों का हाथ माना जा रहा है।

यहां उल्‍लेखनीय है कि कश्‍मीर के पुलवामा में ही आत‍ंकियों ने इस साल 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हमला कर दिया था, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। इस घटना की जिम्‍मेदारी पाकिस्‍तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद ने ली थी, जिसके बाद भारत और पाकिस्‍तान के संबंध तनावपूर्ण हो गए थे। बाद में भारतीय वायुसेना की ओर से पाकिस्‍तान के बालाकोट में आतंकियों के ठिकानों को निशाना बनाकर एयरस्‍ट्राइक भी की गई।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर