अमेरिका-ईरान तनाव पर भारत सरकार का बयान-खाड़ी क्षेत्र के हालात पर हमारी करीबी नजर

America-Iran tension : केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने कहा कि खाड़ी क्षेत्र के वर्तमान हालात पर सरकार की करीबी नजर है। विदेश मंत्री ने यूएई, फ्रांस, कतर, ओमान और जॉर्डन में अपने समकक्षों के साथ बात की है।

India reacts on US Iran tension, V Muraleedharan says closely monitoring situation in Gulf,अमेरिका-ईरान तनाव पर भारत सरकार का बयान-खाड़ी क्षेत्र के हालात पर हमारी करीबी नजर
वी मुरलीधरन बोले-खाड़ी क्षेत्रों के हालात पर हमारी करीबी नजर।  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • अमेरिका पर ईरान के पलटवार के बाद दोनों देशों के बीच बढ़ गया है तनाव
  • कांग्रेस सहित विपक्षी पार्टियों ने सरकार की कूटनीति पर उठाए सवाल
  • सरकार ने कहा कि खाड़ी देशों के मौजूदा हालात पर है उसकी करीबी नजर

नई दिल्ली: अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव पर भारत सरकार ने बुधवार को अपनी प्रतिक्रिया दी। केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने कहा कि खाड़ी क्षेत्र के मौजूदा हालात पर केंद्र करीबी नजर बनाए हुए है। विदेश मंत्री ने जॉर्डन, ओमान, कतर, फ्रांस एवं संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के अपने समकक्षों से बात की है। उन्होंने अमेरिका और ईरान के विदेश मंत्री से भी बात की है। खास बात यह है कि सरकार की ओर से यह बयान ऐसे समय आया है जब कांग्रेस सहित विपक्ष ने सरकार की कूटनीति पर सवाल उठाए हैं। 

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने सरकार की कूटनीति पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि अमेरिका ने ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी पर कार्रवाई करने से पहले इसकी जानकारी चीन और पाकिस्तान के साथ साझा की लेकिन भारत को इस बारे में नहीं बताया। इससे पता चलता है कि भारत कहां खड़ा है।

कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने बुधवार को कहा, 'हम इस बात से चिंतित हैं कि हमले से पहले अमेरिका ने भारत को सूचित क्यों नहीं किया। अमेरिका ने हमले के बारे में चीन और पाकिस्तान से बात की। हमें यह कहते हुए दुख होता है कि भारत को नजरंदाज किया गया है। हम लोग कहीं भी इवेंट मैनेजमेंट एवं विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं। अमेरिका ने हमले के बारे में यदि भारत से बात नहीं की तो यह समझा जा सकता है कि हम कहां पर खड़े हैं।'

कांग्रेस प्रवक्ता बृजेश कलप्पा ने भी यह कहकर सरकार पर दबाव बनाया कि अमेरिका और ईरान के साथ कूटनीतिक संबंधों में भारत की तरफ से कहीं न कहीं कोई चूक हुई है।  

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'खाड़ी क्षेत्र के वर्तमान हालात पर सरकार की करीबी नजर है। विदेश मंत्री ने यूएई, फ्रांस, कतर, ओमान और जॉर्डन में अपने समकक्षों के साथ बात की है। इसके अलावा उन्होंने इस मसले पर अमेरिका और ईरान के विदेश मंत्री के साथ भी बातचीत की है।'

वहीं, भाकपा नेता डी राजा ने ईरान पर अमेरिकी कार्रवाई की निंदा की है। भाकपा नेता ने कहा कि भारत सरकार को इस मसले पर अपना स्पष्ट रुख रखना चाहिए। इस बीच, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मध्य पूर्व देशों में राजस्थान सहित कई राज्यों के नागिरक काम करते हैं। उन्होंने सरकार से भारतीय नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की अपील की।

 
बता दें कि गत तीन जनवरी को अमेरिकी ड्रोन के हमले में ईरान के कुद्स बोर्स के जनरल कासिम सुलेमानी मारे गए। इनके मारे जाने के बाद अमेरिका और ईरान के बीच तनाव चरम पर पहुंच गया है। ईरान ने पलटवार करते हुए मंगलवार को इराक स्थित अमेरिकी सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया। इस कार्रवाई के बाद दोनों देश युद्ध के मुहाने पर खड़े हैं। इराक सहित खाड़ी देशों में बड़ी संख्या में भारतीय नागरिक काम करते हैं।

 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर