Hyderabad gangrape murder: पीड़िता के पिता ने बयां किया अपना दर्द, मुख्यमंत्री KCR के लिए कही ये बात

देश
Updated Dec 03, 2019 | 19:54 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Hyderabad gangrape murder case: हैदराबाद गैंगरेप-हत्या पीड़िता के पिता ने TIMES NOW से खास बातचीत में कहा है कि उन्हें जल्द से जल्द न्याय मिलना चाहिए।

Hyderabad gangrape murder case
पीड़िता के पिता ने मीडिया के सामने बयां किया अपना दर्द 

हैदराबाद: तेलंगाना के साइबराबाद सिटी में महिला डॉक्टर की गैंगरेप के बाद बर्बरतापूर्वक की गई हत्या के बाद पूरा देश आक्रोश में है। मृतक के पिता ने भी सिस्टम पर सवाल उठाए हैं और मांग की है कि उन्हें जल्द से जल्द न्याय मिलना चाहिए। TIMES NOW से खास बातचीत में उन्होंने कहा कि उन्हें दुख है कि मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने अभी तक उनके परिवार से मुलाकात नहीं की।

उन्होंने कहा, 'वे दुखी हैं और उन्हें दर्द होता है कि मुख्यमंत्री केसीआर अभी तक नहीं आए। उन्होंने फोन भी नहीं किया। ऐसा करने से हमें तसल्ली मिलती।'

पीड़िता के पिता ने कहा कि न्याय तेजी से मिले इसके लिए कानून में संशोधन किया जाना चाहिए। उन्होंने जल्द से जल्द न्याय दिलाने का अनुरोध किया।दोषियों को जल्द से जल्द सजा मिलनी चाहिए। कानून बनाए गए हैं, लेकिन उन्हें लागू नहीं किया जा रहा है। निर्भया के मामले में दोषियों को मौत की सजा दी जानी चाहिए। 

 

 


इस घटना के खिलाफ देश के कई हिस्सों में विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं। हैदराबाद में मंगलवार को विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों के छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया। दिल्ली, कोलकाता, बंगलुरु और गुवाहाटी में भी इसके खिलाफ प्रदर्शन हुए। 

 

वहीं दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल जंतर-मंतर पर अनशन पर बैठी हुई है। उनकी मांग है कि बलात्कार के मामलों में दोषियों को 6 महीने के भीतर मौत की सजा दी जाए। 

पुलिस ने मालीवाल से जंतर मंतर परिसर को खाली करने का अनुरोध किया है। इस पर दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने कहा, 'जंतर-मंतर पर शाम 5 बजे तक कोई भी विरोध-प्रदर्शन कर सकता है, कुछ दिशानिर्देश हैं जिनका पालन किया जाना है। यदि वह अपने विरोध के लिए रामलीला ग्राउंड जैसी वैकल्पिक जगह का सुझाव देती है, तो हम अनुरोध पर विचार कर सकते हैं।'

मालीवाल ने कहा, 'दिल्ली पुलिस नियम बता रही है कि कोई यहां शाम पांच बजे के बाद कार्यक्रम नहीं कर सकता। पिछले साल मेरे आमरण अनशन के दसवें दिन एक कानून बनाया गया था जिसके तहत बच्चों के साथ बलात्कार करने वालों को छह महीने के भीतर मौत की सजा का प्रावधान था। वह कानून लागू नहीं किया जा रहा है। वे किस नियम की बात कर रहे हैं?' मालीवाल ने कहा कि वह मांग पूरी किए जाने तक विरोध जारी रखेंगी। 

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर