लोनी घटना मामले में ट्विटर इंडिया के एमडी को कानूनी नोटिस, एक सप्ताह में देना होगा जवाब

लोनी घटना मामले में गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर इंडिया और अन्य को कानूनी नोटिस जारी किया है। पुलिस का कहना है कि बुजुर्ग मुस्लिम व्यक्ति की पिटाई में कोई धार्मिक एंगल नहीं था लेकिन इसे सांप्रदायिक रंग दिया गया।

Ghaziabad police sent notice to twitter india md Manish Maheshwari
लोनी घटना मामले में ट्विटर इंडिया के एमडी को कानूनी नोटिस। 

मुख्य बातें

  • लोनी में एक बुजुर्ग मुस्लिम व्यक्ति की पिटाई के मामले ने तूल पकड़ा है
  • पिटाई की इस घटना को सांप्रदायिक रंग देने के लिए वीडियो शेयर किया
  • पुलिस ने ट्विटर इंडिया के प्रमुख को कानूनी नोटिस भेजकर उनसे जवाब मांगा है

नई दिल्ली : लोनी में एक बुजुर्ग मुस्लिम व्यक्ति की पिटाई से जुड़े वायरल वीडियो मामले में गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर इंडिया के प्रमुख मनीश माहेश्वरी और अन्य को कानूनी नोटिस भेजा है। पुलिस ने अपने नोटिस में आरोप लगाया है कि मुस्लिम बुजुर्ग को पीटे जाने का वीडियो 'सांप्रदायिक हिंसा उकसाने' के इरादे से ट्विटर पर पोस्ट किया गया। पुलिस ने यह नोटिस ई-मेल के जरिए भेजा है। पुलिस ने माहेश्वरी से एक सप्ताह के भीतर जवाब देने के लिए कहा है। इसके पहले वीडियो शेयर करने के मामले में उत्तर प्रदेश सरकार ट्विटर, पत्रकारों एवं कांग्रेस के नेताओं के खिलाफ प्राथमिक दर्ज करा चुकी है। 

पुलिस का दावा-घटना का सांप्रदायिक एंगल नहीं था
रिपोर्टों के मुताबिक अपनी एफआईआर में गाजियाबाद पुलिस का दावा है, 'लोनी में हुई घटना जिसमें बुजुर्ग मुस्लिम व्यक्ति की पिटाई हुई और उसकी दाढ़ी काटी गई, इसमें कोई सांप्रदायिक रंग नहीं था। लेकिन द वायर, राणा अय्यूब, मोहम्मद जुबैर, डॉ. शमा मोहम्मद, सबा नकवी, मस्कूर उस्मानी, सलमान निजामी ने बिना तथ्य समझे ट्विटर पर इस घटना को सांप्रदायिक रंग देने लगे।'

कई लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज
गत गुरुवार को इस मामले में अभिनेत्री स्वरा भास्कर, आरफा खानुम शेरवानी, आसिफ खान एवं भारत में ट्विटर के प्रमुख मनीष महाश्वेरी के खिलाफ शिकायत दर्ज हुई। दरअसल, गत पांच जून को 72 साल के सूफी अब्दुल समद सैफी की छह लोगों ने पिटाई की। हमलावरों ने उनका दाढ़ी भी काट दिया। कुछ दिनों बाद इस हमले का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने लगा। इस वीडियो को कई लोगों ने शेयर किया। 

बुजुर्ग मुस्लिम व्यक्ति के फेसबुक लाइव पर भी विवाद
गत सात जून को बुजुर्ग मुस्लिम व्यक्ति ने अज्ञात लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। पीड़ित व्यक्ति के साथ समाजवादी पार्टी (सपा) के स्थानीय नेता उम्मेद पहलवान इदरीसी भी थे। बाद में बुजुर्ग ने फेसबुक लाइव के दौरान आरोप लगाया कि हमलावरों ने उनकी पिटाई करने के अलावा उन पर 'जय श्री राम' का नारा लगवाने का दबाव बनाया। पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए अब तक नौ लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें से दो लोगों को गुरुवार को जमानत दे दी गई। 

सपा नेता के खिलाफ शिकायत दर्ज
पुलिस ने 'सांप्रदायिक वीडियो' को लेकर सपा कार्यकर्ता इदरीसी पर शांति भंग करने का आरोप लगाया गया है। इदरीसी के खिलाफ लोनी बॉर्डर थाने में बुधवार शाम शिकायत दर्ज की गई है। एक स्थानीय पुलिसकर्मी की शिकायत पर दर्ज प्राथमिकी में कहा गया है कि इदरीसी ने ‘अनावश्यक रूप से’ वीडियो को ‘सामाजिक मतभेद पैदा करने’की मंशा से बनाया और उसे अपने फेसबुक अकाउंट से साझा किया।

Times Now Navbharat पर पढ़ें India News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर