GDP दर 6 साल के न्यूनतम स्तर पर पहुंची, मनमोहन बोले- अर्थव्यवस्था और समाज की हालत चिंताजनक

देश
किशोर जोशी
Updated Nov 29, 2019 | 19:16 IST

अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर सरकार के लिए बुरी खबरों का आने का सिलसिला जारी है। मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी दर गिरकर 4.5 प्रतिशत पर आ गई है।

GDP growth falls to 4.5% in September quarter congress Manmohan singh says the state of our economy is deeply worrying
6 साल के न्यूनतम स्तर पर GDP, कांग्रेस ने साधा निशाना  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • चालू वित्त वर्ष (2019-20) की दूसरी तिमाही में जीडीपी दर में बड़ी गिरावट
  • जीडीपी ग्रोथ का आंकड़ा 4.5 फीसदी तक पहुंचा, 6 साल में सबसे बड़ी गिरावट
  • हमारी अर्थव्यवस्था की जो हालत है वह बेहद चिंताजनक है- मनमोहन सिंह

नई दिल्ली: सुस्ती से गुजर रही अर्थव्यवस्था को एक और झटका लगा है। चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही  ( जुलाई-सितंबर) के दौरान  विकास दर  (जीडीपी) में 4.5 फीसदी पर आ गई है। यह पिछले 6 साल के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था की सबसे न्यूनतम विकास दर है। पिछले वित्त वर्ष के दौरान जीडीपी दर 7 फीसदी थी। जीडीपी दर में आई गिरावट को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर फिर से हमला किया है।

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने आर्थिक स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा, 'हमारी अर्थव्यवस्था की जो हालत है वह तो चिंताजनक है ही लेकिन उससे भी ज्यादा हमारे समाज की वर्तमान स्थिति चिंताजनक है।'  हालांकि मुख्य आर्थिक सलाहकार के वी सुब्रमण्यम ने जीडीपी आंकड़ों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'हम दोबारा कह रहे हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था का मूल अब भी मजबूत है। अगली तिमाही में बढ़ सकती है जीडीपी।'

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने जीडीपी आंकड़ों  पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया, 'असफल मोदीनॉमिक्स और पकोड़ा इकोनॉमिक विजन ने भारतीय अर्थव्यवस्था को गहरी आर्थिक मंदी में डुबो दिया है। कई रेटिंग एजेंसियों, वर्ल्ड बैंक, आईएमएफ, मूडी, फिच, आरबीआई, एसबीआई ने भविष्यवाणी की: जीडीपी ग्रोथ दूसरी तिमाही में 4.5% के ऐतिहासिक निम्ननतम स्तर तक गिर गई है, जो पिछले 6 वर्षों में सबसे खराब है।'

कांग्रेस ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, '7.5 प्रतिशत से 4.5 प्रतिशत पर जीडीपी ग्रोथ का आ जाना बताता है कि सरकार के कार्यकाल में रोजगारी चरम पर है, देश में किसानों का बुरा हाल है, 6 साल में सबसे निचले स्तर पर जीडीपी ग्रोथ रेट है और मोदी सरकार आंखें बंद करके बैठी है।'

आर्थिक मामलों के विभाग के सचिव अतनु चक्रवर्ती ने इन आंकड़ों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'भारतीय अर्थव्यवस्था के मूल तत्व मजबूत हैं। वित्त वर्ष 2019-20 की तीसरी तिमाही से जीडीपी ग्रोथ बढ़ने की उम्मीद है। आईएमएफ ने 2019-20 में जीडीपी दर 6.1 फीसदी और 2020-21 में सात फीसदी तक होने का अनुमान जताया है।'

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर