भारत के पहले राफेल पर सवार हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, शस्त्र पूजा के बाद भरी उड़ान

देश
प्रभाष रावत
Updated Oct 08, 2019 | 19:32 IST

Rajnath Singh in France: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भारतीय वायुसेना के लिए 36 राफेल लड़ाकू विमान के सौदे के तहत मिल रहे पहले विमान को लेने फ्रांस पहुंचे हैं। इस दौरान पहले राफेल लड़ाकू विमान को देखा।

Defense Minister Rajnath Singh in the first Rafale of the Indian Air Force
भारतीय वायुसेना के पहले राफेल के पास रक्षामंत्री राजनाथ सिंह 

मुख्य बातें

  • शस्त्र पूजा के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ ने किया राफेल का तिलक
  • समय से विमान देने के लिए फ्रांस और डसॉल्ट एविएशन को कहा- धन्यवाद
  • भारत के पहले राफेल लड़ाकू विमान में केंद्रीय मंत्री ने भरी उड़ान

First Rafale handover to Rajnath Singh। नई दिल्ली: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को भारतीय वायुसेना के लिए खरीदे गए पहले राफेल लड़ाकू विमान को प्राप्त किया और इसके बाद इसमें सवार होकर उड़ान भी भरी। भारत ने सितंबर 2016 में फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमानों का सौदा किया था और इसी के तहत पहला विमान 08 अक्टूबर को भारत को सौंप दिया गया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह इसी के लिए फ्रांस की तीन दिवसीय यात्रा पर गए हैं। फ्रांस के बोर्डो में एक कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्री ने डसॉल्ट एविएशन से पहले राफेल लड़ाकू विमान को लिया।

 

शस्त्र पूजा करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल लड़ाकू विमान को टीका लगाया और इसकी पूजा की। साथ ही इस दौरान राफेल के पहियो के नीचे नीबू रखे गए और फूल चढ़ाए गए। इसके बाद रक्षा मंत्री पहले भारतीय राफेल के कॉकपिट में सवार होकर उड़ान भी भरी।

 

 

समय से डिलीवरी के लिए फ्रांस को शुक्रिया: राजनाथ
राफेल लेने पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, 'मुझे खुशी है कि राफेल विमानों की डिलीवरी तय समय पर हो रही है। हमारी वायुसेना दुनिया की चौथी सबसे ताकतवर वायुसेना है और मुझे विश्वास है कि इससे हमारी वायु सेना में और मजबूती आएगी। मैं चाहता हूं कि हमारे दो प्रमुख लोकतंत्रों के बीच सभी क्षेत्रों में सहयोग बढ़े।' 

राफेल लेने पहुंचे राजनाथ सिंह ने अपने संबोधन में दशहरा और वायुसेना दिवस का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, 'भारत में आज दशहरा का त्योहार है जिसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है जहां हम बुराई पर जीत का जश्न मनाते हैं। यह 87वां वायु सेना दिवस भी है, इसलिए यह दिन कई मायनों में प्रतीकात्मक बन जाता है।'

भारत फ्रांस साझेदारी में अटल जी का योगदान
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संबोधन के दौरान पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को भी याद किया। उन्होंने कहा कि अटल सरकार में भारत- फ्रांस की साझेदारी की शुरुआत हुई थी और तब से यह साझेदारी लंबा रास्ता तय कर चुकी है। उन्होंने भविष्य में दोनों देशों के बीच रिश्ते और भी मजबूत होने की उम्मीद भी जताई।

भारत को पहला राफेल लड़ाकू विमान सौंपने के लिए आयोजित कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की मौजूदगी में फ्रांस की कंपनी डसॉल्ट एविएशन की ओर से एक खास वीडियो दिखाया गया। इसमें पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर भी नजर आए। वीडियों में राफेल डील और इसके निर्माण से जुड़ी कई तस्वीरें दिखाई गईं।

कार्यक्रम से शुरुआत से पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पहले राफेल लड़ाकू विमान को करीब से देखा और फ्रांस के कई रक्षा अधिकारियों और डसॉल्ट कंपनी के अधिकारियों से मिले।

इसी के साथ भारत के सबसे आधुनिक लड़ाकू विमान की पहली तस्वीरें सामने आ चुकी हैं। कुछ ही देर में एक समारोह का आयोजन किया जाएगा जिसमें फ्रांस की ओर से राफेल को राजनाथ सिंह को सौंपा जाएगा। रिपोर्ट्स के अनुसार फ्रांस में राजनाथ सिंह यहां शस्त्र पूजा भी करने वाले हैं।

राफेल को प्राप्त करने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ वायुसेना के वाइस चीफ एयर मार्शल हरजीत सिंह अरोड़ा भी फ्रांस पहुंचे हैं।

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर