Arogya Setu App: फर्जी 'आरोग्‍य सेतु एप' की आड़ लेकर पाकिस्‍तान कर सकता है बड़ा खेल

देश
रवि वैश्य
Updated Apr 30, 2020 | 09:13 IST

Fake Arogya Setu App: भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान की खुफिया एजेसियां आरोग्य सेतु से मिलते जुलते कुछ फर्जी ऐप्लिकेशंस की मदद से सेना की खुफिया जानकारियां हासिल करने की फिराक में हैं।

Arogya Setu App
पाक खुफिया एजेसियां आरोग्य सेतु से मिलते जुलते कुछ फर्जी ऐप्लिकेशंस का सहारा ले सकती हैं 

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के कहर से दुनिया जूझ रही है वहीं पाकिस्तान (Pakistan) भी इस विपदा से दो-चार हो रहा है लेकिन भारत के प्रति दुर्भावना के तहत साजिशों से बाज नहीं आ रहा है और नए नए तरीके से भारतीय सेना (Indian Army) से जुड़ी खुफिया जानकारियां हासिल करने की जुगत में लगा रहता है।

इस बार पाक ने नया पैंतरा आजमाया है और कहा जा रहा है कि इसके लिए पाक खुफिया एजेसियां आरोग्य सेतु (Arogya Setu App) से मिलते जुलते कुछ फर्जी ऐप्लिकेशंस का सहारा ले सकती हैं। 

सुरक्षा एजेंसियों ने सैनिकों और अर्द्धसैनिक बलों को पाकिस्तान द्वारा दुर्भावनापूर्ण इरादे से 'आरोग्य सेतु ऐप' से मिलता-जुलता मोबाइल ऐप्लीकेशन लाए जाने के प्रति आगाह करते हुए कहा है कि इसका मकसद संवेदनशील जानकारियां चुराना है। 

भारतीय सैनिकों को किया गया आगाह
एक परामर्श (Advisary) में कहा गया है कि यह फर्जी ऐप उपयोगकर्ता को व्हाट्सऐप पर संदेश के जरिये या एसएमएस के जरिये, ईमेल के जरिये या इंटरनेट आधारित सोशल मीडिया के मार्फत किसी लिंक से प्राप्त हो सकता है। इसमें कर्मियों को यह सुझाव दिया गया है कि उन्हें अधिकृत वेबसाइट माईजीओवी डॉट इन से ही आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना चाहिए।

एडवायजरी की प्रति के मुताबिक, 'डाउनलोड किये जाने के दौरान फर्जी ऐप उपयोगकर्ता से इंटरनेट का इस्तेमाल करने और अतिरिक्त ऐप्लीकेशन पैकेज इंस्टॉल करने की इजाजत देने को कहता है।' इसमें कहा गया है, 'इसके बाद, यह दुर्भावनापूर्ण लिंक फेस डॉट एपीके, आईएमओ डॉट एपीके, नॉर्मल डॉट एपीके, ट्रूसी डॉट एपीके, स्नैप डॉट एपीके और वाइबर डॉट एपीके डालता (इंस्टॉल करता) है।'

एक सीनियरअधिकारी ने बताया कि इसके बाद ये वायरस हैकर को उपयोगकर्ता के स्मार्टफोन में मौजूद जानकारियों और फोन की गतिविधियों को जानने में सक्षम कर देते हैं। उपयोगकर्ता के फोन से निकाली गई जानकारियां ऐप की कमान एवं नियत्रण केंद्र में रखी जाती है, जिसके नीदरलैंड में स्थित होने की बात कही जा रही है।उन्होंने कहा कि सैनिकों को अपने मोबाइल फोन पर सोशल मीडिया और ईमेल पर संदिग्ध लिंक खोलते समय सावधान रहने को कहा गया है। साथ ही उनसे एंटी वायरस गार्ड अद्यतन करने को कहा गया है।

भारत सरकार ने आरोग्य सेतु ऐप लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण के प्रति जोखिम का आकलन करने में मदद करने के लिये पेश किया है। केंद्र सरकार ने बुधवार को सरकारी अधिकारियों के लिये इसे डाउनलोड करना और अपने फोन में इस ऐप का उपयोग करना अनिवार्य कर दिया ।

आरोग्य सेतु क्या है?
आरोग्य सेतु एंड्रॉइड और आईओएस दोनों तरह के स्मार्टफोन यूजर्स के लिए भारत सरकार की ओर से विकसित एक मोबाइल ऐप है। यह लोगों के साथ जरूरी स्वास्थ्य सेवाओं को जोड़ने और वायरस से संबंधित आवश्यक जानकारी प्रदान करने के लिए बेहद उपयोगी है। यह लगातार लोगों को उनकी लोकेशन के आधार पर कोरोना से खतरे की जानकारी देता रहता है और बताता है कि कौन से इलाके संक्रमण के लिहाज से संवेदनशील हैं।

कैसे करता है काम: ऐप यूजर्स के लिए कोरोना वायरस के जोखिम का आकलन करने के लिए लोकेशन, ब्लूटूथ, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस और एल्गोरिदम की मदद से काम करता है।

जब आप अपने स्मार्टफोन पर आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करते हैं, तो यह आस-पास के डिवाइस की पहचान करता है, जिसमें आरोग्य सेतु डाउनलोड किया गया है, और कोरोना वायरस से आपके संक्रमित होने की संभावना को चेक करता है। यह आपको लगातार बताता रहता है कि आप कोरोना से कितने सुरक्षित हैं। इस पर सहायता केंद्रों के मोबाइल नंबर भी मौजूद हैं।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर