'जारी' कुत्ते पर नाज है ! भारी मात्रा में हथियारों की बरामदगी में की मदद

देश
Updated Sep 25, 2019 | 23:54 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Army Tracker Dog 'Jaari': सेना के ट्रैकर कुत्ते 'जारी' ने एक ऑपरेशन के दौरान हथियारों, गोला-बारूद और विस्फोटकों की बड़ी मात्रा का पता लगाने में सैनिकों की मदद की है।

Army Tracker Dog Jaari
सेना का ट्रैकर कुत्ता है 'जारी'  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • 'जारी' ने सर्च ऑपरेशन के दौरान सेना को हथियार, गोला-बारूद और विस्फोटकों को बरामद करने में मदद की
  • सेना को खुफिया सूत्रों से भारी मात्रा में हथियारों की मौजूदगी के बारे में पता चला था
  • हथियारों और विस्फोटकों बरामदगी के बाद उसे चिरांग पुलिस द्वारा जब्त कर लिया गया

गुवाहाटी: भारतीय सेना के ट्रैकर कुत्ते 'जारी' (Jaari) ने एक उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल की है। 'जारी' ने बोडोलैंड टेरिटोरियल एरिया डिस्ट्रिक्ट्स (BTAD) के पनबारी रिजर्व फॉरेस्ट में एक ऑपरेशन के दौरान हथियारों, गोला-बारूद और विस्फोटकों की बड़ी मात्रा का पता लगाने में सैनिकों की मदद की, जो नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोरोलैंड (NDFB) के सोंगबिजित गुट से संबंधित है।

गुवाहाटी रक्षा विभाग के जनसंपर्क अधिकारी पी खोंगसाई ने कहा, 'भारी मात्रा में हथियारों की मौजूदगी के विशिष्ट इनपुट के आधार पर, भारतीय सेना ने असम पुलिस और एसएसबी के साथ मिलकर पनबारी रिजर्व फॉरेस्ट में एक तलाशी अभियान शुरू किया। आर्मी कैनाइन जरी ने अपने हैंडलर और खोजी टीमों का नेतृत्व किया और इस क्षेत्र को खोदने पर सेना और पुलिस के जवानों को स्टोर की तरह हथियारों, गोला-बारूद, विस्फोटक और युद्ध के छिपे हुए कैश मिले।'

रिपोर्ट्स के अनुसार,  हथियारों और विस्फोटकों बरामदगी के बाद उसे चिरांग पुलिस द्वारा जब्त कर लिया गया और पनबारी पुलिस स्टेशन ले जाया गया। खोंगसाई ने कहा कि ऑपरेशन की सफलता एनडीएफबी (एस) कैडर के लिए बहुत बड़ा झटका है और अगले साल की शुरुआत में बीटीएडी के होने वाले चुनावों के मद्देनजर ये बीटीएडी और असम में शांति सुनिश्चित करने के लिए विशेष रूप से एक लंबा रास्ता तय करेगी।

देश और दुनिया में  कोरोना वायरस पर क्या चल रहा है? पढ़ें कोरोना के लेटेस्ट समाचार. और सभी बड़ी ख़बरों के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें

अगली खबर