J&K Police: जम्मू-कश्मीर में पुलिस में बड़े पैमाने पर जल्द से जल्द भर्ती का आदेश

देश
Updated Sep 19, 2019 | 19:35 IST

J&K Police Recruitment: जम्मू कश्मीर पुलिस ने कहा कि राज्य में पुलिस की ताकत बढ़ाने के मकसद से पुलिस भर्ती का बड़ा अभियान चलाया जाएगा। 

Representational Image
प्रतीकात्मक तस्वीर 

मुख्य बातें

  • जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक ने राज्य में बड़े पैमाने पर पुलिस भर्ती के आदेश दिए हैं
  • तकरीबन 8500 विभिन्न पदों को जल्द से जल्द  भरने के लिए आदेश दिए गए हैं
  • सक्षम पुलिस अधिकारियों से कहा गया है कि इन पदों के लिए योग्य उम्मीदवारों का चयन किया जाए

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर (J&K) राज्य में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद जारी हालात के बीच केंद्र सरकार स्थितियों को सामान्य बनाने में कोई कोर कसर बाकी नहीं छोड़ रही है, इसको लेकर वहां काफी कदम उठाए जा रहे हैं। राज्य के लोगों का भरोसा जीतना पहली प्राथमिकता है और इस दिशा में कई प्रभावी कदम भी सरकार ने उठाए हैं। 

केंद्र सरकार राज्य में अमन चैन कायम करने की दिशा में प्रभावी उपाय भी कर रही है साथ ही यहां के युवाओं को रोजगार के अवसर भी मिलें इस बारे में भी कदम उठाए जा रहे हैं। इसी क्रम में जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने राज्य में बड़े पैमाने पर पुलिस भर्ती (Police Recruitment) के आदेश दिए हैं खास बात ये है कि तकरीबन 8500 विभिन्न पदों (Post) को जल्द से जल्द भरने के लिए आदेश दिए गए हैं, इस बारे में सक्षम पुलिस अधिकारियों से कहा गया है कि इन पदों के लिए योग्य उम्मीदवारों का चयन किया जाए। 

 

 

माना जा रहा है कि इस कदम से राज्य के युवाओं जिसमें महिला और पुरुष दोनों शामिल हैं उनमें खुशी की लहर होगी क्योंकि इससे पहले भी राज्य में फरवरी में जम्मू-कश्मीर के पूंछ जिले में हो रही विशेष पुलिस अधिकारी (SPO) की भर्ती में स्थानीय युवकों का पूरा समूह उमड़ पड़ा था। गृह मंत्रालय द्वारा 166 पदों के लिए निकली इन नियुक्तियों को नियंत्रण रेखा (LOC) के 0-10 किलोमीटर के पास के युवकों के लिए निकाली थी।

विशेष पुलिस अधिकारी की भर्ती में हिस्सा लेने आए तमाम युवाओं ने कहा था कि बहुत लंबे समय के बाद पुंछ में कोई नियुक्ति आयी है और इससे हमें देश की सेवा करने का मौका मिलेगा।

गौरतलब है कि बीते 14 फरवरी को  जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आंतकवादियों ने एक फिदायीन हमले को अंजाम दिया था। इस हमले में सेना के 40 जवान शहीद हो गए थे। हमले के बाद कश्मीरियों को लेकर पूरे देश में तरह-तरह की बयानबाजी हो रही थी। ऐसे में इतनी बड़ी घटना के बाद सेना की भर्ती के लिए कश्मीरी युवाओं का उत्साह काबिलेतारीफ माना जा रहा था। 

 

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...