Jammu-Kashmir की जमीनी हालत जानने के लिए विदेशी राजनयिक कर सकते हैं दौरा

जम्मू-कश्मीर के बारे में दुनिया को रूबरू कराने के लिए विदेशी राजनयिक दौरा कर सकते हैं। बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार इस पर विचार कर रही है।

Jammu-Kashmir की जमीनी हालत जानने के लिए विदेशी राजनयिक कर सकते हैं दौरा
जम्मू-कश्नीर अब केंद्रशासित प्रदेश है। 

मुख्य बातें

  • जम्मू-कश्मीर के बारे में जानकारी के लिए विदेशी राजनयिकों का कराया जा सकता है दौरा
  • केंद्र सरकार इस विषय पर कर रही है विचार
  • वर्ष 2019 में ईयू सांसदों ने निजी स्तर पर किया था कश्मीर का दौरा

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर की जमीनी हकीकत को लेकर विपक्षी दल केंद्र सरकार पर सवाल खड़ा करते हैं। ये बात अलग है कि मोदी सरकार की तरफ से कहा जाता है कि जो कोई भी दल कश्मीर जाना चाहे जा सकता है। इस बीच सूत्रों के हवाले से जानकारी है कि विदेश राजनयिकों को केंद्र सरकार घाटी का दौरा करा सकती है। बता दें कि पिछले साल यूरोपीय यूनियन के सांसदों ने घाटी का दौरा किया था। ये बात अलग है कि इसे लेकर केंद्र सरकार को आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। 

पाकिस्तान दुनियाभर में जम्मू-कश्मीर के बारे में अफवाह फैलाने में जुटा हुआ है। ये बात अलग है कि अगर दो या तीन मुल्कों को छोड़ दें तो ज्यादातर देश उसकी बातों पर भरोसा नहीं करते हैं। सवाल ये है कि केंद्र सरकार विदेशी राजनयिकों के जरिए किस तरह का संदेश देना चाहती है। जानकार कहते हैं कि अगर मोदी सरकार की रणनीति को देखें तो वो बताना चाहती है कि जम्मू-कश्मीर में दुनिया का कोई भी शख्स जा सकता है। पाकिस्तान की तरफ से जिस तरह से प्रोपगैंडा किया जा रहा है वो सरासर गलत है।

इससे पहले पिछले वर्ष यूरोपीय यूनियन के सांसदों ने जम्मू-कश्मीर का दौरा किया था और करीब से वहां के हालात को समझा और परखा। सांसदों ने अलग-अलग संगठनों मुलाकात की थी। हालांकि उनका दौरा निजी था। यूरोपीय  सांसदों के 23 सदस्यीय दल ने पीएम नरेंद्र मोदी और एनएसए अजीत डोभाल से मुलाकात की थी। 

गृहमंत्री अमित शाह कह चुके हैं कि घाटी में हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं। स्कूलों, अस्पतालों और कुछ महत्वपूर्ण सार्वजनिक जगहों पर इंटरनेट सेवा बहाल कर दी गई है। स्कूलों में बच्चों की संख्या और अस्पतालों में ओपीडी में मरीजों की संख्या से पता चलता है कि अब सबकुछ ठीक है। उन्होंने कहा कि 5 हजार से अधिक सुरक्षा बलों को को कश्मीर से वापस बुलाया गया है। इसके अलावा नजरबंद किए गए नेताओं पर से भी पाबंदी धीरे धीरे हटाई जा रही है। 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर