Imran Khan: बिहार के एक कोर्ट में पाकिस्तानी PM इमरान खान के खिलाफ केस दर्ज

देश
Updated Sep 28, 2019 | 19:14 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Pakistan PM Imran Khan: संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की स्पीच पर बिहार में उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया है। बिहार के मुजफ्फरपुर के एक कोर्ट में उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया है।

imran khan UNGA
इमरान खान के खिलाफ बिहार में केस दर्ज  |  तस्वीर साभार: AP

मुख्य बातें

  • बिहार में पाक पीएम इमरान खान के खिलाफ केस दर्ज
  • यूएनजीए में इमरान खान के भाषण के बाद उनके खिलाफ हुआ केस दर्ज
  • भारत को परमाणु युद्ध की धमकी देने वाले बयान पर याचिका हुई दायर

नई दिल्ली : पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ बिहार के जिला मुजफ्फरपुर के एक कोर्ट में एफआईआर दर्ज की गई है। लॉयर सुधीर कुमार ओझा ने बताया कि उन्होंने शनिवार को पाकिस्तानी पीएम इमरान खान के खिलाफ मुजफ्फरपुर के चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट ऑफिस में केस दर्ज कराई है। अपने शिकायत में ओझा ने आरोप लगाया है कि इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) में दिए अपने भाषण में इमरान खान ने भारत को परमाणु हमले की धमकी देते हुए अन्य कई आपत्तिजनक बयान दिए थे।

ओझा ने कोर्ट से अनुरोध किया कि उनकी शिकायत के आधार पर इमरान खान के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश जारी किया जाए। ओझा ने कहा कि उन्होंने अपनी याचिका में कहा है कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने को लेकर भारत के खिलाफ कई धमकी भरे बयान दिए। बताया कि इमरान ने अपने भाषण में बताया कि कश्मीर में अनुच्छेद 370 के हटाए जाने से लोगों के बीच अशांति फैल रही है और नफरत बढ़ रहा है।

गौरतलब है कि यूएनजीए के मंच से पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बार फिर से कश्मीर राग अलापते हुए कहा था कि विश्व समुदाय को कश्मीर के लोगों को आत्मनिर्णय का अधिकार प्रदान करना चाहिए।

भारत द्वारा कर्फ्यू हटाये जाने के बाद कश्मीर में स्थिति बिगड़ने का दावा करते हुए खान ने कहा, ‘आप सर्वोत्तम की उम्मीद करिए किंतु सबसे बुरे के लिए तैयार रहिए।’ उन्होंने कहा कि जब कर्फ्यू हटेगा तो कश्मीर में प्रतिक्रिया होगी और भारत पाकिस्तान पर दोषारोपण करेगा।

उन्होंने पुलवामा आतंकवादी हमले और उसके बाद उत्पन्न हुई स्थिति का परोक्ष संकेत देते हुए कहा, ‘दो परमाणु संपन्न देशों के बीच आमने सामने की तनातनी होगी, जैसा कि हमने फरवरी में देखा।’

खान ने कहा, ‘यदि दोनों देशों के बीच पारंपरिक युद्ध हुआ तो कुछ भी हो सकता है। एक देश, जो अपने पड़ोसी से सात गुना छोटा है, उसके समक्ष यह परिस्थिति है..या तो आप आत्मसमर्पण कर दे अथवा आप अपनी स्वतंत्रता के लिए मृत्युपर्यन्त लड़ता रहे।’

उन्होंने कहा कि ऐसी परिस्थिति में उनका देश लड़ेगा। ‘और जब एक परमाणु हथियार क्षमता संपन्न देश अंत तक लड़ता है तो इसके नतीजें सीमाओं से परे चले जाते हैं..इसके विश्व के लिए नतीजें होंगे...मैं आपको आगाह कर रहा हूं, यह कोई खतरा नहीं है।’

उन्होंने कहा, ‘हम इस दिशा में आगे बढ़ें, इससे पहले संयुक्त राष्ट्र की एक जिम्मेदारी है। इसी कारण से संयुक्त 1945 में अस्तित्व में आया था। उम्मीद की जाती है कि आपको इसे होने से रोकना है।’

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...