लोकसभा में प्रज्ञा ठाकुर का विवादित बयान, महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'

देश
Updated Nov 27, 2019 | 19:10 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Pragya Thakur on Nathuram Godse : बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने लोकसभा में कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे देशभक्त थे।

लोकसभा में प्रज्ञा ठाकुर का विवादित बयान, महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को बताया 'देशभक्त'
लोकसभा में बीजेपी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा- 'देशभक्त' थे नाथूराम गोडसे 

नई दिल्ली:  राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को लेकर अक्सर बहस होती रहती है। इस बार भोपाल बीजेपी की संसद प्रज्ञा ठाकुर ने लोकसभा में बहस के दौरान महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को 'देशभक्त' बताया। उनके इस बयान के बाद विपक्षी दलों के सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया।  उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। एसपीजी (संशोधन) बिल पर चर्चा के दौरान जब डीएमके सांसद ए राजा ने गोडसे के एक बयान का हवाला देकर बताया कि वह महात्मा गांधी की हत्या क्यों की इस पर ठाकुर ने उन्हें रोका और कहा कि आप देशभक्त का उदाहरण नहीं दे सकते। हालांकि लोकसभा के रिकॉर्ड ने प्रज्ञा ठाकुर के बयान को निकाल दिया गया। गौर हो कि प्रज्ञा सिंह पहले भी गोडसे को ‘देशभक्त’ बता चुकी हैं जिसको लेकर विवाद खड़ा हुआ था।

कांग्रेस ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि नाथूराम गोडसे को बार-बार 'देशभक्त' बताना, बीजेपी नफरत की राजनीति का एक सही प्रतिनिधित्व है। साथ ही कहा कि क्या पीएम मोदी प्रज्ञा ठाकुर की टिप्पणी की निंदा करेंगे या चुप रहेंगे? वरिष्ठ कांग्रेस नेता माणक अग्रवाल ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की सदस्यता रद्द करने की मांग की।

लोकसभा में राजा ने कहा कि गोडसे ने खुद स्वीकार किया कि उसने हत्या करने का फैसला करने से पहले 32 साल तक गांधी के खिलाफ असंतोष  था। राजा ने कहा कि गोडसे ने गांधी को मार दिया क्योंकि वह एक विशेष विचारधारा में विश्वास करते थे।

 

 

संसद के बाहर बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने लोकसभा में नाथूराम गोडसे को 'देशभक्त' बताने की खबरों पर कहा कि पहले उसको पूरा सुनिए। मैं कल जवाब दूंगी।

जब विपक्षी सदस्यों ने ठाकुर द्वारा राजा को रोके जाने का विरोध किया तब बीजेपी सदस्यों ने उन्हें बैठने के लिए कहा। राजा ने कहा कि सुरक्षा खतरे की धारणा पर आधारित होनी चाहिए न कि राजनीतिक कारणों पर, राजा ने कहा कि गृह मंत्री को पूर्व प्रधानमंत्री के अलावा अन्य व्यक्तियों से एसजीपी कवर वापस लेने वाले इस बिल पर पुनर्विचार करना चाहिए।  

इस पर कांग्रेस के कई सदस्यों ने आपत्ति जताई और यह आरोप लगाते हुए सुने गए कि प्रज्ञा को प्रधानमंत्री का संरक्षण मिला हुआ है। इस दौरान संसदीय कार्य मंत्री प्रल्हाद जोशी भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा को बैठने का इशारा करते नजर आए। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कांग्रेस सदस्यों से बैठने की अपील करते हुए कहा कि सिर्फ ए राजा की बात रिकॉर्ड में जा रही है।
 

 

 

 

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर