क्या चमगादड़ों से फैला है कोरोना वायरस! जानिए जानवरों से फैलने वाली अन्य बीमारियों के बारे में

कोरोना वायरस की अगर ओरिजिन की बात की जाए तो इसे लेकर कई तरह की बातें की जा रही है। कोई चमगादड़ को इसकी वजह बता रहा है तो कोई कुछ। जानते हैं जानवरों की वजह से कौन-कौन सी बीमारियां दुनिया में कहर बरपा चुकी हैं।

bat causing coronavirus
चमगादड़ (Source: Pixabay) 

मुख्य बातें

  • कोरोना वायरस की अगर ओरिजिन की बात की जाए तो इसे लेकर कई तरह की बातें की जा रही है
  • आज हम ऐसी बीमारियों और महामारियों के बारे में बात करेंगे जो जानवरों से फैलता है
  • भारत में 400 से भी ज्यादा लोगों की जानें जा चुकी हैं जबकि 12 हजार से भी ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं

कोरोना वायरस ने जहां दुनियाभर में तबाही मचा रखी है वहीं इसे लेकर दुनियाभर में कई तरह की अफवाहें भी तेजी से फैल रही हैं। पूरी दुनिया में इस महामारी के कारण 1 लाख 30 हजार से भी ज्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं बल्कि 12 लाख से भी ज्यादा केसेस सामने आ चुके हैं। वहीं भारत की बात की जाए तो इस बीमारी से अब तक यहां पर 400 से भी ज्यादा लोगों की जानें जा चुकी हैं जबकि 12 हजार से भी ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं।

कोरोना वायरस की अगर ओरिजिन की बात की जाए तो इसे लेकर कई तरह की बातें की जा रही है। कोई रिपोर्ट ये दावा कर रहा है कि चीन के वुहान के एक लैब से ये वायरस पैदा हुआ था और वहीं से ये पूरी दुनिया में फैल गया। दूसरी तरफ कई रिपोर्ट में ये भी दावा किया जा चुका है ये वायरस चमगादड़ों से फैला है।

चूंकि चीन में चमगादड़ खाए जाते हैं और वहीं से इस वायरस की शुरुआत हुई। खैर इस पर रिसर्च कर रहे वैज्ञानिकों ने किसी भी रिपोर्ट की पुष्टि नहीं की है। चमगादड़ों से कोरोना वायरस फैला या नहीं इस बात की तो पुष्टि नहीं की जा सकती है लेकिन आज हम ऐसी बीमारियों और महामारियों के बारे में बात करेंगे जो जानवरों से फैलता है। जानते हैं इससे पहले कौन-कौन सी बीमारियां जानवरों से फैल चुकी हैं।

प्लेग
ये 1994 में भारत के सूरत से फैला। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग वहां से पलायन कर गए थे। अफवाहों के कारण लोग बड़ी मात्रा में राशन घर में जमा करके रखने लगे थे। एक सप्ताह के अंदर करीब 50 लोगों की मौत हो गई थी। इसमें भी सैनिटेशन पर ध्यान दिया गया। कूड़ेदानों को मैनेज किया गया गया नालियों को कवर किया गया मरे हुए चूहों और जानवरों को सही ठिकाने लगाया गया जिससे इस पर काबू पाया गया।

स्वाइन फ्लू
2014 के अंतिम महीनों में स्वाइन फ्लू के केसेस भारत में पाए गए। गुजरात, राजस्थान, दिल्ली, महाराष्ट्र और तेलंगाना में इसके वायरस सबसे ज्यादा पाए गए। मार्च 2015 तक इसके करीब 33,000 केसेस सामने आए और 2,000 लोगों की इससे मौत हो गई। कहा जाता है कि ये महामारी सुअरों के कारण फैली थी। यह सबसे पहले 2009 में अमेरिका के मैक्सिको में सुअरों से फैला था जहां करीब 10 लाख लोग इससे संक्रमित हुए थे और लाखों की मौत हो गई थी।

बर्ड फ्लू
बर्ड फ्लू  पक्षियों के साथ-साथ मनुष्यों में भी तेजी से फैलने वाली बीमारी है। इस बिमारी को एवियन इंफ्लुएंजा के नाम से भी जाना जाता है। अधिकतर मुर्गियों में ये महामारी पाई जाती है और ऐसे में बीमार चिकेन को खाने वाले मनुष्यों में भी ये बीमारी हो जाती है। अब तक दर्जनों प्रकार के बर्ड फ्लू संक्रमणों की पहचान की गई है जिसमें दो वायरस एच5एन1 और एच7एन9 वायरस प्रमुख हैं। जब बर्ड फ्लू का असर मनुष्यों में होता है ये जानलेवा भी हो जाता है। 

निपाह
निपाह नामक बीमारी सबसे पहले 1976 में मलेशिया में चमगादड़ के कारण फैला था। इसमें 496 लोग संक्रमित और 265 लोगों की मौत हुई थी। इस महामारी ने साल 2019 में भारत में खूब तबाह मचाई थी पूरे देशभर में इस महामारी ने सैकड़ों लोगों की जानें ली थी।

मलेरिया
मलेरिया एक ऐसी बड़ी बीमारी है जिससे हर साल केवल भारत में करीब लाखों लोगों की जान जाती है। मच्छरों से फैलने वाली ये बीमारी बेहद खतरनाक होती है। इसके काटने से मलेरिया का रोग हो जाता है और अत्यधिक स्वास्थ्य खराब होने पर व्यक्ति की मौत भी हो जाती है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर