क्या टूट रहा 'आगरा मॉडल', आठ और नए केस मिले, मेयर पहले जता चुके हैं चिंता

देश
आलोक राव
Updated Apr 28, 2020 | 12:02 IST

COVID-19 cases in Agra: कोविड-19 के संक्रमण की शुरुआत होने पर यहां का स्थानीय प्रशासन महामारी को नियंत्रित करने में सफल हुआ और इसके बाद 'आगरा मॉडल' देश में चर्चा में आ गया।

8 more persons have tested positive for COVID-19 in Agra
आगरा में कोविड-19 के नए केस मिले।  |  तस्वीर साभार: PTI

मुख्य बातें

  • कोविड-19 के संक्रमण की शुरुआत होने पर आगरा प्रशासन ने दिखाई थी चुस्ती
  • आगरा मॉडल की देश भर में हुई चर्चा, अब मेयर ने शहर के हालात पर चिंता जताई
  • आगरा में कोविड-19 नए केस सामने आने लगे हैं, संक्रमण की संख्या बढ़कर 389 हो गई है

आगरा : कोविड-19 के प्रकोप से निपटने के अपने 'मॉडल' से देश भर में चर्चा में आए आगरा की स्थिति फिर चिंताजनक होने लगी है। शहर में कोरोना वायरस के आठ नए केस मिले हैं। इसके साथ ही इस महामारी से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 389 हो गई है। हालांकि इनमें से 54 लोगों को उपचार के बाद ठीक कर दिया गया है। जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह ने मंगलवार को बताया कि हम पॉजिटिव केस के संपर्कों की जांच कर रहे हैं।

बता दें कि कोविड-19 के संक्रमण की शुरुआत होने पर यहां का स्थानीय प्रशासन महामारी को नियंत्रित करने में सफल हुआ और इसके बाद 'आगरा मॉडल' देश में चर्चा में आ गया। नए केस सामने आने के बाद इस मॉडल पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। आगरा में कोविड-19 की स्थिति पर शहर के मेयर अपनी चिंता पहले ही जता चुके हैं। 

मेयर ने सीएम को लिखा पत्र
आगरा के मेयर ने महामारी पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं आला अधिकारियों को पत्र लिखा। अपने इस पत्र में मेयर ने कहा कि कोविड-19 से निपटने के लिए उचित प्रबंधन यदि नहीं किया गया तो आगरा भारत का वुहान बन सकता है। उन्होंने लिखा, 'मेरे आगरा को वुहान बनने से बचा लीजिए।'

मेयर ने उठाए सवाल
मेयर नवीन जैन ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा, 'शहर में कोरोना से निपटने के लिए यदि उचित प्रबंधन नहीं हुआ तो इसकी संख्या में काफी बढ़ोतरी हो सकती है और आगरा देश का वुहान बन सकता है। स्थिति को नियंत्रित करने में स्थानीय प्रशासन नकारा साबित हुआ है। सरकारी अस्पतालों में कोरोना मरीजों को छोड़ अन्य मरीजों को नहीं देखा जा रहा है। स्थिति विस्फोटक हो चुकी है। मैं बहुत दुखी मन से आपको पत्र लिख रहा हूं कि मेरा आगरा अत्यधिक संकट के दौर से गुजर रहा है। मैं हाथ जोड़कर प्रार्थना कर रहा हूं कि मेरे आगरा को बचा लीजिए।'

प्रियंका गांधी ने दी सलाह
मेयर का यह पत्र सामने आने के बाद विपक्षी पार्टियों ने योगी सरकार को इस महामारी से सही तरीके से निपटने की सलाह दी। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि आगरा शहर में हालात खराब हैं और रोज नए मरीज निकल रहे हैं। आगरा के मेयर का कहना है कि अगर सही प्रबंध नहीं हुआ तो मामला हाथ से निकल जाएगा। कल भी मैंने इसी चीज को उठाया था। पारदर्शिता बहुत जरूरी है। टेस्टिंग पर ध्यान देना जरूरी है।

India News in Hindi (इंडिया न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें.

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर