शरीर के इस हार्मोन के बिगड़ने से बढ़ता है वजन, 4 वीक प्‍लान फॉलो कर बन जाएं स्‍लिम-ट्रिम 

हेल्थ
Updated Jul 18, 2019 | 22:22 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

वेट लॉस करने के लिए आपने एक्सरसाइज और डाइट पर फोकस किया होगा, लेकिन कभी अपने वेट लॉस को इफेक्टिव बनाने के लिए हार्मोंस को एक्टिवेट करने के बारे में सुना है?

Hormones and Lose Weight
Hormones and Weight Loss  |  तस्वीर साभार: Getty Images

मुख्य बातें

  • एक्सरसाइज और डाइट के साथ हार्मोंस भी हैं वेट लॉस के लिए जरूरी
  • चार हफ्ते के वर्क प्लान के जरिये आप कर सकेंगे अपने हार्मोंस को एक्टिव
  • बेहतर नींद, खानपान, आराम के साथ मन के काम करें

वेट लॉस में एक नहीं कई कारक काम करते हैं। यदि आप ये सोचें कि आप केवल एक्सरसाइज कर के वेट घटा सकते हैं या ये सोचें की केवल डाइटिंग कर के आप वेट कम कर लेंगे तो यह भी संभव नहीं। आपने यह भी देखा होगा कि कई बार बेहतर एक्सरसाइज और बैलेंस्ड डाइट के बाद भी वेट लॉस मन मुताबिक नहीं हो पाता।

इसके पीछे एक ही कारण होता है वह है मेटाबॉलिक रेट का सुस्त होना। यानी हार्मोंस का एक्टिवेट होना भी वेट लॉस के लिए उतना ही जरूरी है जितना की एक्सरसाइज और डाइट का रोल।

हार्मोंस का वेट लॉस में क्‍या है रोल 
हार्मोन हमारी भूख, वेट कम करने और मेटाबॉलिक रेट्स को बढ़ावा देते हैं। इसलिए,जब आप अपना वेट कम करने का प्लान बना रहे हों तो आपको सबसे पहले अपने हार्मोन को तैयार करना चाहिए। जी हां ये चेक करना चाहिए कि आपके वेट लॉस की प्रक्रिया से गुजरने के लिए आपके हार्मोन तैयार हैं या नहीं। अब हार्मोंस को तैयार करना आपका काम है। कुछ तरीको से आप अपने हार्मोंस को आसानी से वेट लॉस के लिए एक्टिवेट कर सकते हैं। हालांकि यह प्रक्रिया धीमी गति से शुरू होगी और आपके दैनिक कार्य में हर हफ्ते एक नई चीज जुड़ती जाएगी और आप अपने हार्मोन को एक्टिवेट कर लेंगे। यहां आपको चार सप्ताह का प्लान दिया जा रहा है जिसे आपको करना है। तो आइए जानें ये हार्मोन्स एक्टिवेट चार वीक का प्लान है क्या? 

वजन घटाने की प्रक्रिया के लिए अपने हार्मोन को तैयार करने के लिए यहां चार सप्ताह की योजना है।

सप्ताह 1: इस हफ्ते बस आराम करें
आज कल हर किसी की लाइफ बहुत व्यस्त हो चुकी है। घर हो या बाहर हर कोई भग दौड़ कर रहा है। लोग ज्यादातर अपने लिए कुछ समय निकालना भूल जाते हैं। इससे वे थके हुए, चिड़चिड़े और उदास हो जाते हैं। ये सभी चीजें आपके वेट बढ़ने का कारण भी होती हैं। कोर्टिसोल एक हार्मोन है जो तनाव को बढ़ाता है और आपकी भूख को बढ़ता है और आप तनाव में अधिक खाने लगते हैं। नतीजा वेट बढ़ता है। तो अपने शरीर को आराम दें और हंसे, बोलें और मेडिटेट करें। 

सप्ताह 2: पूरी नींद लेने की आदत डालें 
नींद की कमी वेट बढ़ने का बड़ा कारण होती है। नींद अच्छी न हो तो इंसान चिड़चिड़ा होता है और कुछ भी खाने पीने का आदी बन जाता है। नींद की कमी आपके कोर्टिसोल के स्तर को भी बढ़ा सकती है, जिससे वेट बढ़ता है। इसलिए दूसरे सप्ताह में अपने नींद के पैटर्न को सुधारें। हर दिन कम से कम 7-8 घंटे के लिए अपनी आंखों को रेस्ट दें और खुद को भी। रात में बेहतर नींद के लिए खाने के बाद एक छोटी सी सैर करें या अपने बेडरूम को अच्छी नींद के लिए तैयार करें और रात में अपनी स्क्रीन टाइमिंग कम करें।

सप्ताह 3: हेल्दी और बैलेंस्ड डाइट पर फोकस करें
स्वस्थ आहार खाने से आपके हार्मोन पर चमत्कारिक रूप से सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। साबुत अनाज,ताजे फल और सब्जियां आपके वेट को कम करने में मददगार हैं जबकि जंक फूड या डिब्बा बंद चीजें वेट बढ़ा देती हैं। रिफाइंड अनाज से बने खाद्य पदार्थ जल्दी पच जाते हैं और शरीर में इंसुलिन के स्तर को बढ़ा देते हैं। इसके कुछ समय बाद ही ब्लड शुगर का स्तर गिर जाता है जो अधिवृक्क ग्रंथियों को अधिक कोर्टिसोल छोड़ने के लिए फोर्स करता है। जबकि इसके विपरीत साबुत अनाज जैसे खाद्य पदार्थ ब्लड शुगर के स्तर को स्थिर रखते है और कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ने से रोकते हैं। इसलिए अपनी डाइट में कम फैट और कार्ब्स वाले फूड शामिल करें।

सप्ताह 4: अंतिम सप्ताह में अपने शरीर को एक्टिव बनाने का प्रयास करें
अपने जूते की लेस बांधें और कुछ शारीरिक गतिविधियों के लिए तैयार हो जाएं। अपने शरीर को हिलाए बिना आप अपना वेट कम नहीं कर पाएंगे। 30 मिनट साइकिल या चलने जैसे मध्यम व्यायाम से शुरुआत करें। इसे धीमे गति से शुरू जरूर करें लेकिन रोज अपनी एक्सरसाइज को जटिल बनाते जाएं।

तो आपके ये चार कदम यानी चार प्रयास आपके हार्मोंस को एक्टिव करेंगे और शरीर वेट लॉस प्रोग्राम के लिए एकदम तैयार हो जाएगा।

डिस्क्लेमर: प्रस्तुत लेख में सुझाए गए टिप्स और सलाह केवल आम जानकारी के लिए हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जा सकता। किसी भी तरह का फिटनेस प्रोग्राम शुरू करने अथवा अपनी डाइट में किसी तरह का बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

अगली खबर