क्या आपको दिल का दौरा पड़ चुका है तो इन गलतियों को करने से हमेशा रहें सावधान

हार्ट अटैक एक ऐसी बीमारी है जो एक बार लग जाए तो वापस नहीं जाती है। ये उन बीमारियों में से एक है जिसका इलाज नहीं है और अच्छे रूटीन को फॉलो करने से ही ये काबू में रहता है।

Important precautions after heart attack
दिल का दौरा पड़ने के बाद सेहत को लेकर सजग रहना बहुत जरुरी है  |  तस्वीर साभार: BCCL

मुख्य बातें

  • हार्ट अटैक होने के बाद कम से कम तेल का सेवन करें
  • हार्ट अटैक होने के बाद लाइट खाने का सेवन करना आवश्यक है
  • हार्ट अटैक होने के बाद धूम्रपान करना खतरे से कम नहीं है

नई दिल्ली: हार्ट अटैक नाम सुनते ही दिल में डर बैठ जाता है  अस्वस्थ रहने वाले लोगों को इस बीमारी का खतरा ज्यादा रहता है। हार्ट अटैक या कार्डियक अरेस्‍ट तब होता है जब दिल तक पहुंचने वाले खून में बाधा पहुंचती है और धमनियों में रक्‍त के थक्‍के जमा हो जाते हैं, जिसकी वजह से पूरे शरीर के रक्‍तसंचार यानी खून के प्रवाह पर प्रभाव पड़ता है।

स्‍वस्‍थ हृदय बनाए रखने के लिये कुकिंग टिप्‍स
हार्ट की मांसपेशियों को पर्याप्‍त मात्रा में ऑक्‍सीजन नहीं मिल पाती है और वो खराब हो जाती हैं। यह बेहद घातक स्थिति होती है। अगर किसी व्यक्ति को हार्ट अटैक आ चुका है तो उसके उसे अपने स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति सचेत रहने की आवश्‍यकता होती है और जीवनशैली में अच्‍छे सुधार लाने की आवश्‍यकता होती है। हार्ट अटैक वाले रोगी को शारीरिक और मानसिक रूप से स्‍वस्‍थ रहना बेहद आवश्‍यक होता है। उसे अवसाद, तनाव, थकान आदि से दूर रहना चाहिए और इन 10 बातों पर विशेष ध्‍यान देना चाहिए:

धूम्रपान
अगर धूम्रपान करते हैं तो उसे छोड़ना ही आपके लिए लाभदायक होगा। इसके लिए आपको शुरूआत में काफी दिक्‍कतों का सामना करना पड़ेगा लेकिन एक बार आदत लगने पर आपको स्वस्थ रहने से कोई नहीं रोक सकता। धूम्रपान करने से दिल की धमनियों में रक्‍त के प्रवाह पर सीधा प्रभाव पड़ता है।

ट्रांस फैट से बचें
भोजन में कम से कम ऑयल, डालडा या घी आदि का इस्‍तेमाल करें। हार्ट अटैक के बाद ये सीधा आपके दिल पर असर करता है तो इसका कम से कम सेवन करें।

किसी भी तरीके की मिठाई, शक्कर या चॉकलेट का न करें सेवन
हार्ट अटैक के बाद शुगर पेस्‍ट्री, मिठाई, चॉकलेट आदि का सेवन कतई न करें। इसके सेवन से शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल का स्‍तर बहुत बढ़ सकता है। परिणामस्‍वरूप, रक्‍त के थक्‍के या रक्‍त का गाढ़ापन हो सकता है जो जानलेवा साबित हो सकता है।

नमक की अधिकता
अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन लोगों को सलाह देता है कि हार्ट-अटैक का खतरा उन लोगों में अधिक होता है जो नमक को ज्‍यादा मात्रा में लेते हैं यानि एक दिन में 1500 मिलीग्राम. से अधिक नमक का सेवन नुकसानदायक हो सकता है। ऐेसे में भोजन में नमक की मात्रा संतुलित रखनी चाहिए।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने वाले खाने से बनाएं दूरी
टिक्‍की चाट-पकौडा सभी में काफी मात्रा में फैट होता है जो कोलेस्‍ट्रॉल को काफी हद तक बढ़ा सकता है ऐसे में इन चीजों से दूरी बनाएं रखना बेहद आवश्‍यक होता है।

शारीरिक गतिविधियों को नकारना सही नहीं
हार्ट अटैक के बाद बिस्‍तर पर न पड़ जाएं, आराम से टहलें और कुछ समय बाद एक्सरसाइज पर विशेष ध्‍यान दें। इससे आपका शरीर फिट रहेगा और शरीर में खून का दौरा यानी प्रवाह बना रहेगा।

वजन बढ़ने से रोकें
हार्ट अटैके बाद अपने शरीर पर पूरा ध्‍यान दें, खान-पान का विशेष ख्‍याल रखें ताकि आपका वजन बढ़ न पाएं। वजन बढ़ने से शरीर में मोटापा आ जाता है जिसकी वजह से हार्ट में अन्‍य बीमारियां पैदा हो जाती हैं। व्‍यक्ति का बॉडी मॉस इंडेक्‍स (बीएमआई), 18.5 और 24.9 के बीच होना चाहिए।

अन्‍य स्‍वास्‍थ स्थितियों को नकार देना
कई बार हार्ट अटैक बाद लोग अन्‍य समस्‍याओं को नकार देते हैं ऐसा न करें। डायबिटीज, हाइपरटेंशन, हाइपोथॉयरोडिज्‍म, डिप्रेशन, हाइपरथॉयरोडिज्‍म आदि का भी ध्‍यान में रखें और अपना सही उपचार करवाएं। अपनी दिनचर्या को अच्छा बनाएं।

उच्‍च रक्‍तचाप
अमेरिकन हार्ट एसो‍सिएशन ने बताया है कि हार्ट अटैक का खतरा सबसे ज्‍यादा उच्‍च रक्‍तचाप से होता है। ज्‍यादा व्‍यायाम करने या तनाव आदि होने से भी उच्‍च रक्‍तचाप हो जाता है जो कि दिल के लिए खतरा बन सकता है।

लक्षणों को नकारना
अगर हार्ट अटैक के बाद रिकवरी के दौरान बहुत ज्‍यादा थकान, छाती में दर्द, बहुत ज्‍यादा पसीना आता है या पैरों में सूजन हो जाती है तो ऐेसे लक्षणों को नकारें नहीं और डॉक्टर से संपर्क करें और अपने स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति ध्यान दें।
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर