Favipiravir for Covid-19: देखिए ग्‍लेनमार्क की कोविड-19 दवाई फेबीफ्लू कैसे काम करती है

हेल्थ
अभिषेक निगम
Updated Jun 22, 2020 | 14:50 IST

Glenmark pharma Fabiflu working: भारत के औषधि नियामक - ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने क्लिनिकल परीक्षण के लिए ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स के उत्पादन को मंजूरी दे दी थी।

favirpiravir
फेवीपिरवीर, coronavirus medicine  

मुख्य बातें

  • ग्‍लेनमार्क फार्मा ने एंटीवायरल ड्रग- फेवीपिरवीर की घोषणा की है
  • फेवीपिरवीर ड्रग फेबीफ्लू नाम के ब्रांड के अंतर्गत उपलब्‍ध होगी
  • फेवीपिरवीर को हल्के से मध्यम बीमारी वाले कोविड-19 मरीजों में प्रशासित होने की मंजूरी दी गई है

नई दिल्‍ली: देश में ड्रग‍ नियामक डीसीजीआई से स्‍वीकृति हासिल करने के बाद ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स ने एंटीवायरल ड्रग- फेवीपिरवीर की घोषणा की है। यह ड्रग फेबीफ्लू नाम के ब्रांड के अंतर्गत उपलब्‍ध होगी और मरीजों को प्रति टेबलेट की कीमत 103 रुपए पड़ेगी। फेवीपिरवीर को हल्के से मध्यम बीमारी वाले कोविड-19 मरीजों में प्रशासित होने की मंजूरी दी गई है। नैदानिक परीक्षणों में, फेवीपिरवीर ने हल्के से मध्यम लक्षणों के साथ COVID-19 मामलों में 88 प्रतिशत तक का सुधार दिखाया है। 

ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स ने दावा किया कि फेवीपिरवीर ने नैदानिक साक्ष्‍य में हल्‍के से मध्‍यम कोविड-19 मरीजों में सकारात्‍मक परिणाम दर्शाएं हैं। एंटीवायरल दवा फैबीफ्लू आरएनए वायरस के खिलाफ व्यापक स्पेक्ट्रम संरक्षण प्रदान करता है और नैदानिक परीक्षणों में, इसने 20 से 90 वर्ष के बीच आयु वर्ग में प्रभाव दिखाया है।

फेवीपिरवीर के ऐतिहासिक विकास पर प्रकाश डालते हुए ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्‍टर ग्‍लेन साल्‍दान्‍हा ने कहा, 'यह स्‍वीकृति तब मिली है जब भारत में कोविड-19 मामलों की संख्‍या इतनी तेजी से बढ़ रही है, जैसे पहले कभी नहीं देखने को मिली। इससे हमारे हेल्‍थकेयर सिस्‍टम पर भी बहुत दबाव बना है। हमें उम्‍मीद है कि फेबीफ्लू जैसा प्रभावी उपलब्‍ध उपचार इस दबाव को कम करने में सक्षम होगा और भारत में मरीजों को आवश्‍यक व समय पर चिकित्‍सा विकल्‍प की पेशकश करेगा।'

कंपनी का दावा

ग्लेनमार्क ने दावा किया है कि कोविड-19 के मरीजों में मधुमेह और हृदय रोग जैसे कोविड-19 मरीजों में फेवीपिरवीर का उपयोग अच्छे प्रभाव के लिए किया जा सकता है, बशर्ते कि रोगियों में हल्के से मध्यम लक्षण हों। ग्‍लेनमार्क ने फेबीफ्लू का विकास किया जो मरीजों को तुरंत आराम पहुंचाता क्‍योंकि यह चार दिनों के भीतर वायरल लोड को कम कर देता है।

ग्‍लेनमार्क की अपनी आर एंड डी टीम ने सक्रिय फार्मास्युटिकल्स घटक (एपीआई) और फेवीपिरवीर के लिए सूत्र विकसित किया है। भारत के ड्रग रेगुलेटर-ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने क्लिनिकल परीक्षण के लिए ग्लेनमार्क के उत्पादन को मंजूरी दे दी थी। DGCI के नोड के साथ, ग्लेनमार्क पहली भारतीय फार्मा कंपनी बन गई है, जिसने COVID-19 मरीजों के लिए हल्के से मध्यम लक्षणों पर चरण 3 नैदानिक परीक्षणों के संचालन की स्वीकृति प्राप्त की है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर